Widgets Magazine

क्‍या बात है, वाह मनी ! की

ब्‍लॉग-चर्चा में आज कमल शर्मा का ब्‍लॉग ‘वाह मनी’

jitendra|
WD
कुछ बातें किताबों में लिखी जाती हैं और कुछ जीवन का यथार्थ होता है। जीवन का यथार्थ, जो आदर्श से नहीं, मनी से संचालित है। आज हम एक ऐसे ब्‍लॉग के बारे में बात करने वाले हैं, जो जीवन की इसी मुख्‍य धुरी पर बात करता है। वाह मनी ! आपको मनी के महत्‍व और उसे ठीक तरीके से सुनियोजित करना सिखाता है

पेशे से पत्रकार और मुंबई निवासी कमल शर्मा पिछले 18-19 सालों से पत्रकारिता की दुनिया में सक्रिय हैं। वे आर्थिक मसलों के जानकार हैं, और अर्थ से जुड़े सवालों पर लिखते रहे हैं। कमल शर्मा को हमेशा ये लगता रहा कि शेयर बाजार और अर्थ संबंधी मामलों के नितांत व्‍यावहारिक और रोजमर्रा की जिंदगी से जुड़े पहलुओं पर हिंदी में विशेष सामग्री नहीं है। पहले अँग्रेजी में शुरू हुआ यह ब्‍लॉग वाह मनी बाद में हिंदी में लिखा जाने लगा, क्‍योंकि हिंदी में इन विषयों पर सरल भाषा में रोचक जानकारी की आवश्‍यकता को वे महसूस कर रहे थे

वाह मनी, पाठकों के बीच काफी लोकप्रिय है। लोग आर्थिक मसलों पर सलाह और जानकारी के लिए वाह मनी के दरवाजे खटखटाते हैं। चाहे वह शेयर बाजार में इन्‍वेस्‍टमेंट का सवाल हो, व्‍यवसाय में निवेश के लाभ और खतरों की जानकारी हो, कहाँ पैसा लगाया जाना चाहिए और कहाँ नहीं, जैसे जरूरी मुद्दे हों, वाह मनी पर आपको सबकुछ मिलेगा, बहुत सहज-सरल हिंदी में। इसके अलावा पूँजी और व्‍यवसाय की दुनिया की सभी ताजातरीन घटनाएँ, सुर्खियाँ और समाचार भी वाह मनी पर देखे जा सकते हैं।

WD
इस ब्‍लॉग की एक पोस्‍ट 'गार्डन सिल्‍क में करें निवेश' में कमल शर्मा ने इस उद्यम में निवेश से जुड़े पहलुओं पर रोशनी डाली है। वे लिखते हैं, 'कंपनी अब बड़े निवेश के साथ अपना विस्‍तार करने जा रही है, जिसके नतीजे वर्ष 2008/09 की तीसरी तिमाही में देखने को मिलेंगे। कंपनी छह सौ टन प्रति दिन की क्षमता वाला सीपी प्‍लांट लगा रही है। इसके अलावा एफडीवाई की क्षमता में 70 टन दैनिक और पीओवाई की क्षमता में 82 टन दैनिक की अतिरिक्‍त बढ़ोत्‍तरी करने जा रही है। गार्डन सिल्‍क टेक्‍सच्‍युराइजिंग मशीन की संख्‍या बढ़ा रही है, जिनकी क्षमता 64 टन दैनिक होगी। इस विस्‍तार के बाद कंपनी के वॉल्‍यूम में तगड़ा इजाफा होगा और इसकी विकास दर में जोरदार बढ़ोत्‍तरी देखने को मिलेगी।'

एक अन्‍य पोस्‍ट 'शेयर बाजार में ब्रेकआउट संभव' में वे लिखते हैं, 'शेयर बाजार के लिए वर्ष 2007 का आखिरी सप्‍ताह उत्‍साहजनक रहा और एक हजार अंक से अधिक बढ़कर इसने यह संकेत दे दिया कि आज यानी 31 दिसंबर से शुरू हो रहे सप्‍ताह में शेयर बाजार ब्रेकआउट हो सकता है। क्रिसमस अवकाश पर गए विदेशी संस्‍थागत निवेशकों की गैरहाजिरी में घरेलू पंटरों ने शेयर बाजार में जमकर गेम खेला। शेयर बाजार में अभी तेजी बनी रहेगी, लेकिन जनवरी के दूसरे सप्‍ताह में बीएसई सेंसेक्‍स में कुछ करेक्‍शन आने की आशंका है क्‍योंकि इस समय हर निवेशक इस उम्‍मीद में शेयर खरीद रहा है कि नए साल में विदेशी निवेशक अपने नए फंड लेकर आ रहे हैं और वे उनसे महँगे भाव पर शेयर खरीदेंगे लेकिन ऐसा होगा नहीं क्‍योंकि अब विदेशी निवेशक भारतीयों से ज्‍यादा समझदार हैं।'

अर्थ से जुड़े ऐसे तमाम पेचीदे मसले, जो आमतौर पर लोगों की समझ से परे होते हैं, उसे आम लोगों की भाषा में आम लोगों को समझाना ही इस ब्‍लॉग का मकसद है, और नि:संदेह ब्‍लॉग अपने इस मकसद में कामयाब भी है। वह लोगों की आर्थिक समस्‍याओं को सुलझा रहा है और उनके सवालों और जिज्ञासाओं का जवाब भी दे रहा है

हिंदी में यह अपनी तरह का एक अनूठा ब्‍लॉग है। यह एक अच्‍छी शुरुआत है। वेबदुनिया ने वाह मनी और हिंदी ब्‍लॉगिंग के विभिन्‍न छुए-अनछुए पहलुओं पर कमल शर्मा से लंबी बातचीत की। प्रस्‍तुत है, उस बातचीत के कुछ अंश।

इसे पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

जाने-माने ब्‍लॉगर कमल शर्मा से वेबदुनिया की लंबी बातचीत

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine