अक्टूबर : फिल्म समीक्षा

की फिल्म 'अक्टोबर' की कहानी धागे से भी पतली है। यह एक किरदार की फिल्म है जिसमें होने वाले बदलावों, भावनाओं और उसके सोचने-समझने के तरीके को दर्शाया गया है जिसे दर्शक, किरदार के मन के भीतर चल रही हलचल को महसूस कर सकते हैं।

दिल्ली की एक पांच सितारा होटल में डैन (वरुण धवन) होटल मैनेजमेंट ट्रैनी है। यह काम उसे खास पसंद नहीं है और वह बात-बात में चिढ़ता है। तौलियों से वह जूते पोंछ कर गुस्सा निकालता है। होटल में आए ग्राहकों पर भी वह आपा खो बैठता है और अक्सर अपने सीनियर्स से डांट खाता है।

शिउली (बनिता संधू) भी उसके साथ ट्रैनी है। दोनों के बीच कोई खास रिश्ता नहीं है। एक‍ दिन पार्टी करते हुए शिउली तीसरी मंजिल से नीचे गिर जाती है और कोमा में पहुंच जाती है। अस्पताल में डैन उससे अनिच्छा से मिलने जाता है। उसकी हालत देख वह परेशान हो जाता है और रोजाना उससे मिलने जाने लगता है।

शिउली के भाई, बहन और मां से वह कभी नहीं मिला था, लेकिन धीरे-धीरे वह उनके करीब आकर फैमिली मेम्बर की तरह बन जाता है।

'अक्टूबर' में डैन के हमें दो रूप देखने को मिलते हैं। वह दुनियादारी और नियम-कायदों से चलने पर चिढ़ता है। वह ऐसी राह पर था जिस पर चलना उसे पसंद नहीं है, लिहाजा वह बात-बात पर उखड़ने लगता है। उसे किसी तरह का दबाव पसंद नहीं है और दबाव पड़ने पर वह फट जाता है।

होटल में उसके काम करने की शैली से उसके व्यवहार की झलक हमें मिलती है। उसके इसी व्यवहार के कारण उसे कोई बहुत ज्यादा पसंद नहीं करता और दोस्त भी उसे प्रेक्टिकल होने के लिए कहते हैं।

दोस्तों से डैन को पता चलता है कि ऊपर से नीचे गिरने के पहले शिउली ने पूछा था कि डैन कहां है? यह बात उसके दिल को छू जाती है। उसे महसूस होता है कि किसी ने उसके बारे में भी पूछा है तो वह नि:स्वार्थ भाव से शिउली की अस्पताल में सेवा करता है। यह जानते हुए भी कि शिउली कोमा में हैं वह उससे बात करता है और उसके प्रयासों से ही शिउली में इम्प्रूवमेंट देखने को मिलता है।

डैन का होटल से अलग रूप हॉस्पिटल में देखने को मिलता है। यहां उसकी अच्छाइयां नजर आती हैं। वह शिउली के ठीक होने की आशा उसके परिवार वालों में जगाए रखता है। होटल में नियम तोड़ने वाले डैन को जब हॉस्पिटल में बिस्किट खाने से रोका जाता है तो वह मुंह से बिस्किट निकाल लेता है। होटल के व्यावसायिक वातावरण में शायद उसका दम घुटता था, जहां दिल से ज्यादा दिमाग की सुनी जाती है। हॉस्पिटल में दिल की ज्यादा चलती थी इसलिए वह नर्स और गार्ड से भी बतिया लेता था।

जूही चतुर्वेदी ने फिल्म की स्टोरी, स्क्रीनप्ले और डायलॉग लिखे हैं। जूही ने 'अक्टूबर' के माध्यम से कहने की कोशिश की है कि व्यक्ति का व्यवहार पूरी तरह से परिस्थितियों पर निर्भर करता है और इसलिए उसका आंकलन करते समय सभी बातों पर गौर करना चाहिए।

फिल्म में घटनाक्रम और संवाद बेहद कम हैं। साथ ही कहानी भी बेहद संक्षिप्त है, इसलिए निर्देशक शूजीत सरकार के कंधों पर बहुत ज्यादा भार था। शूजीत की तमाम कोशिशों के बावजूद भी यह फिल्म दो घंटे से कम होने के बावजूद लंबी लगती है और फिल्म की स्लो स्पीड से कई लोगों को शिकायत हो सकती है। लेकिन शूजीत, डैन के मन में उमड़ रहे भावनाओं के ज्वार से दर्शकों का कनेक्शन बैठाने में कामयाब रहे हैं। निश्चित रूप से यह बात बेहद कठिन थी।

जुड़वां 2 और मैं तेरा हीरो जैसी फॉर्मूला फिल्मों के बीच 'बदलापुर' और 'अक्टूबर' जैसी फिल्में भी करते रहते हैं जो यह दर्शाता है कि लीक से हट कर फिल्म करने की चाह उनमें मौजूद है। यह पूरी फिल्म उनके ही कंधों पर थी और उन्होंने बेहतरीन अभिनय किया है। हर सिचुएशन में उनके किरदार की प्रतिक्रिया और सोच एकदम अलग होती है और इस बात को उन्होंने अपने अभिनय से निखारा है। बनिता संधू ने बमुश्किल एक-दो संवाद बोले होंगे। ज्यादातर समय उन्हें मरीज बन कर बिस्तर पर लेटना ही था, लेकिन उन्होंने काफी अच्छे एक्सप्रेशन्स दिए।

शिउली की मां के रूप में गीतांजलि राव और डैन के सीनियर के रूप में प्रतीक कपूर का अभिनय भी जोरदार है। अविक मुखोपाध्याय की सिनेमाटोग्राफी शानदार है। ठंड और कोहरे में लिपटी दिल्ली, आईसीयू और फाइव स्टार के माहौल को उन्होंने कैमरे से बखूबी पकड़ा है।

शूजीत सरकार की फिल्मों से जो अपेक्षा रहती हैं उस पर भले ही फिल्म पूरी नहीं उतर पाती हो, लेकिन देखी जा सकती है। टेस्ट क्रिकेट को देखने वाले धैर्य की जरूरत इस फिल्म को देखते समय भी पड़ती है।

बैनर : राइजि़ंग सन फिल्म्स प्रोडक्शन
निर्माता : रॉनी लाहिरी, शील कुमार
निर्देशक : सुजीत सरकार
संगीत : शांतुनु मोइत्रा, अनुपम रॉय, अभिषेक अरोरा
कलाकार : वरुण धवन, बनिता संधू, गीतांजलि राव, प्रतीक कपूर
सेंसर सर्टिफिकेट : यू * 1 घंटा 55 मिनट 30 सेकंड
रेटिंग : 3/5

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बियॉण्ड द क्लाउड्स : फिल्म समीक्षा

बियॉण्ड द क्लाउड्स : फिल्म समीक्षा
ईरानी फिल्मकार माजिद मजीदी को अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त है। चिल्ड्रन ऑफ हेवन, द कलर ऑफ ...

ऐसी बिकिनी सनी लियोनी ने पहली बार पहनी

ऐसी बिकिनी सनी लियोनी ने पहली बार पहनी
सनी लियोनी अपनी पिक्चर्स को लेकर काफी चर्चा में रहती हैं। हाल ही में उन्होंने अपनी ...

मलाइका अरोरा ने पसंदीदा बेड पोज़ीशन का किया खुलासा

मलाइका अरोरा ने पसंदीदा बेड पोज़ीशन का किया खुलासा
बॉलीवुड की यम्मी मम्मी मलाइका अरोरा को कहा जाता है। उम्र बढ़ने के साथ-साथ उनकी हॉटनेस और ...

विद्या बालन ने बताए अपनी बेडरूम लाइफ के सीक्रेट्स

विद्या बालन ने बताए अपनी बेडरूम लाइफ के सीक्रेट्स
विद्या बालन ने हाल ही में अपनी बेडरूम लाइफ के सीक्रेट्स खोल के रख दिए। एक चैट शो में ...

इलियाना ने खोला अपनी प्रेग्नेंसी का राज

इलियाना ने खोला अपनी प्रेग्नेंसी का राज
इलियाना डिक्रूज़ अपनी फिल्मों के साथ-साथ अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर भी चर्चा में रहती हैं। ...

इस खास नेता से जम्मू-कश्मीर में की सलमान खान ने मुलाकात

इस खास नेता से जम्मू-कश्मीर में की सलमान खान ने मुलाकात
सलमान खान और टीम जम्मू-कश्मीर पहुंचे। वहां 2 दिन का शूटिंग शेड्युल है। इसके पहले वे वहां ...

क्या संजय दत्त इस लायक हैं कि उन पर फिल्म बनाई जाए?

क्या संजय दत्त इस लायक हैं कि उन पर फिल्म बनाई जाए?
संजय दत्त के जीवन पर फिल्मकार राजकुमार हिरानी ने 'संजू' नामक फिल्म बनाई है जो 29 जून को ...

बॉलीवुड में आने से पहले ही ट्रोल हो गई श्वेता तिवारी की ...

बॉलीवुड में आने से पहले ही ट्रोल हो गई श्वेता तिवारी की बेटी पलक तिवारी
श्वेता तिवारी की बेटी पलक तिवारी ने अपनी एक पिक्चर इंस्टाग्राम पर पोस्ट की है। इसे लेकर ...

अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' के सेट पर आग

अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' के सेट पर आग
सतारा। महाराष्ट्र के सतारा जिले के एक गांव में अभिनेता अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' की ...

बॉक्सर बनेंगे शाहिद कपूर, राजा मेनन की अगली फिल्म की तैयारी

बॉक्सर बनेंगे शाहिद कपूर, राजा मेनन की अगली फिल्म की तैयारी
शाहिद कपूर, राजा कृष्ण मेनन की फिल्म में एक मुक्केबाज की भूमिका निभा सकते हैं। वे 'बत्ती ...