आधी रात को कार चोर का नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने किया पीछा

नवाजुद्दीन सिद्दीकी की आटोबॉयोग्राफी रिलीज होते ही विवादों में फंस गई। नवाज का इससे मुंह कसैला हो गया और उन्होंने जितनी किताबें बची थीं, सारी वापस बुला ली। इसमें कई रोचक घटनाओं का भी उन्होंने जिक्र किया है, जिसमें से एक आपको बताने जा रहे हैं, जो कि किसी थ्रिलर फिल्म से कम नहीं है।
बात 2007 की है। तब नवाजुद्दीन फिल्म इंडस्ट्री में पैर जमाने के लिए संघर्ष कर रहे थे। माधुरी दीक्षित की फिल्म 'आजा नच ले' में उन्हें एक छोटा-सा रोल मिला था। हालांकि इस रोल पर कैंची चल गई थी। पूरा दिन शूटिंग करने के बाद नवाजुद्दीन अपनी सेकंड हैंड कार में घर वापस लौटे। इस एस्टीम कार को उन्होंने 75 हजार रुपये में खरीदा था, जबकि इसका बाजार मूल्य 65 हजार रुपये था।
कार से घर पहुंचने के बाद नवाज सो गए। रात डेढ़ बजे वे उठे क्योंकि उन्हें दूसरी फिल्म की शूटिंग के लिए सुबह सेट पर जल्दी जाना था। तैयार होकर कार के पास पहुंचे तो देखा कि कार गायब थी। यानी कि चोरी हो गई थी। उन्होंने अपने भाई को इस बारे में बताया।

पुलिस स्टेशन पर भाई अपनी बाइक पर और नवाज ऑटो के जरिये पहुंचे। पुलिस ने इस मामले में कोई रूचि नहीं दिखाई। दोनों भाई दूसरे पुलिस स्टेशन पर गए, लेकिन वहां भी यही स्थिति थी। आखिरकार नवाज और उनके भाई ने खुद ही बाइक पर आसपास के इलाकों में कार ढूंढने का फैसला लिया।

बाइक पर दोनों कार की तलाश कर रहे थे कि बारिश शुरू हो गई। बारिश से बचने के लिए वे एक जगह रूक गए। अचानक एक कार तेजी से उनके सामने से गुजरी। नवाज पहचान गए कि यह उनकी ही कार है। उन्होंने कार के पीछे अपनी बाइक दौड़ा दी।

देखते ही देखते वे कार के पास पहुंच गए। नवाज ने उस चोर को गालियां बकते हुए कहा कि यह मेरी कार है। चोर ने कार मालिक को देख गाड़ी की स्पीड तेज कर दी। नवाज ने भी पीछा नहीं छोड़ा, लेकिन बाइक का पेट्रोल खत्म हो गया और उनकी आंखों से ओझल हो गया।

पेट्रोल पम्प पर वे पहुंचे तभी एक पुलिस की वैन वहां आई। नवाज ने सारा माजरा पुलिसमैन को बताया। उसने वायरलैस पर फौरन मैसेज पहुंचाया। नवाज ने कुछ घंटों का इंतजार किया, लेकिन बात नहीं बनी। उन्होंने फिर कार को ढूंढना शुरू किया। सुबह के साढ़े छ: बज गए थे। दोनों भाई थक कर चूर हो गए थे। उन्होंने घर लौटने का निर्णय किया।

घर लौटते समय दोनों को एक गली नजर आई। नवाज के भाई को याद आया कि इस गली में वाहन चुराने वाले रहते हैं। घर जाने के पहले यहां चलना चाहिए। जैसे ही वे उस गली में घुसे वहीं नवाज को अपनी कार खड़ी नजर आई। उन्होंने फोन कर एसीपी को बुलाया।

एसीपी ने कहा कि यह कार लेकर फौरन यहां से निकल लो। पुलिस में शिकायत की तो मामला लंबा चलेगा। नवाज तो उस कार चोर को पकड़ कर धुनाई के मूड में थे, लेकिन एसीपी की सलाह मानते हुए वहां से निकल लिए।

नवाजुद्दीन सीधे पहुंचे फिल्मसिटी जहां पर सुभाष घई की फिल्म 'ब्लैक एंड व्हाइट' की उन्हें शूटिंग करनी थी। रात भर परेशान रहे नवाज पर थकान हावी थी। डायलॉग याद नहीं हो रहे थे। सीन में उन्हें अभिनेत्री शैफाली शाह से तमाचा भी खाना था। नवाज ने शैफाली से कहा कि एक जोरदार थप्पड़ उन्हें जमा दें। शैफाली ने ऐसा ही किया और नवाज की सारी नींद उड़ गई और उन्होंने शूटिंग अच्छे से की।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :