'संजू' के सामने मेरी फिल्म के टिकने या न टिकने की बात मैं नहीं सोचता : विनोद तिवारी

रूना आशीष|
'संजू' के सामने मेरी फिल्म के टिकने या न टिकने की बात मैं नहीं सोचता। मैं तो इसी बात से खुश हो जाता हूं कि 2 या 3 दिन पहले जब मीडिया में मेरी ये बात आई कि मैं कपिल शर्मा पर बायोपिक बना रहा हूं, तो उसे बहुत पढ़ा गया। उसके बारे में बहुत कुछ लिखा गया और इंटरनेट पर ये खबर बहुत ट्रेंड भी हुई।
इस हफ्ते 'तेरी भाभी है पगले' जैसी कॉमेडी फिल्म का निर्देशन करने वाले विनोद तिवारी अपनी बातों को आगे बढ़ाते हुए कहते हैं कि मुझे लगता है कि कपिल शर्मा बहुत ही सीधा-साधा-सा एक इंसान रहा है, जो अमृतसर से निकलकर मुंबई आया और उसने बहुत सारा संघर्ष किया। लेकिन उसकी फिल्म 'किस-किस को प्यार करूं' भी खूब चली है। 'तेरी भाभी है पगले' के रिलीज के बाद सितंबर के बाद में हम उस फिल्म पर काम करना शुरू कर देंगे। फिल्म का नाम भी हमने रखा है- 'कपिल शर्मा द रियल हीरो।'
'वेबदुनिया' संवाददाता रूना आशीष से बात करते हुए विनोद तिवारी बताते हैं कि इस फिल्म में मेरे साथ एक धोखा हुआ है और वो ये कि मेरी एक्ट्रेस नाजिया को जब मुझसे मिलवाया गया तो मुझे बताया गया कि वो संजय दत्त की भतीजी है। लेकिन ये कास्टिंग वालों ने मुझे बताया था कि वो कोई बहुत दूर की रिश्तेदार है जिसे शायद संजय भी नहीं जानते होंगे। इन दिनों मैंने देखा और जाना भी कि वो संजय दत्त पर होने वाले सवालों से बच रही है। मेरा मानना है कि कृष्णा तो खुलकर कहता है कि वो गोविंदा का भानजा है फिर नाजिया इन सबसे क्यों बच रही है? मुझे तो सोचकर ही अच्छा लग रहा था कि गोविंदा का भानजा और संजय दत्त की भतीजी मेरी फिल्म में होंगे, लेकिन वो बात तो नहीं हो सकी।
आपने एक बार कहा भी था कि आप गोविंदा को लेने वाले थे लेकिन कृष्णा आ गए?

हमारी गोविंदा से बात भी हुई थी कि वो मेरी फिल्म करें। उनके साथ स्क्रिप्टिंग सेशन भी हुए। उनको कहानी पसंद आई। लेकिन गोविंदा को वास्तु और ज्योतिष जैसी बातों पर बहुत ज्यादा भरोसा है। वो बोले कि मार्च के बाद शूटिंग रखते हैं। मैं बहुत जिद्दी हूं, तो मैंने भी कह दिया कि शूटिंग कब करना है, ये तो मैं तय तक करूंगा। फिर हमारी बात कृष्णा से चल ही रही थी। तो ये फिल्म जिसकी किस्मत में लिखी थी, उसने कर ली।
आपको कृष्णा के बारे में क्या कहना है, क्योंकि टीवी में उसकी अपनी फैन फॉलोइंग है?

कृष्णा एक मल्टी टैलेंटेड एक्टर है। बतौर निर्देशक अगर कहूं तो आज तक दो ही फिल्में ऐसी रही हैं जिनमें उसका सही रूप से इस्तेमाल हुआ है। तो वो थी 'बोल बच्चन' और 'एंटरटेंनमेंट'। लेकिन उसके अंदर जो काम करने की आग है, उसका इस्तेमाल अभी तक नहीं हुआ है। 'तेरी भाभी है पगले' में उसने अपने टैलेंट को खूब दिखाया है। टैलेंट के साथ-साथ वो बहुत सिंसियर भी है। सेट पर 9 बजे के कॉलटाइम में वो 8.30 बजे आ जाता था, कभी कोई तकलीफ नहीं होती थी। आने वाले दिनों में कृष्णा को और आगे जाना है।


और भी पढ़ें :