मैं बहुत प्रेक्टिकल हूं : करीना कपूर खान

"मैं 'वीरे दी वेडिंग' की कालिंदी की तरह नहीं हूं। मैं कभी वैसी हो भी नहीं सकती। मैं कमिटमेंट फोबिक नहीं हूं। मुझे प्यार और वादे, दोनों में विश्वास है। मैं हर बात को बहुत तरीके से रखती हूं।"
'वीरे दी वेडिंग' के बारे में बात करते हुए ने बताया कि तैमूर के जन्म के बाद उन्होंने यह फिल्म साइन की थी। अब फिल्म रिलीज हो गई है तो मैं तैमूर के साथ ज़्यादा से ज़्यादा वक्त बीता रही हूं। मैंने सोच रखा है कि भले ही साल में एक फिल्म करूं पर तैमूर के साथ ज़्यादा समय बिताऊंगी। मैं बहुत खुशकिस्मत हूं जो मेरे पास घर में बहुत बड़ा सपोर्ट सिस्टम है। मां बनने के बाद सिर्फ समय को सही तौर पर सम्हालना होता है, महिलाएं तो वैसे भी मल्टी टास्किंग में अच्छी होती हैं।

आपको अपना कौन-सा रूप सबसे ज़्यादा पसंद है- मां, अभिनेत्री या पत्नी का?
मेरे हिसाब से तीनों। तीनों ही तो मेरे रूप हैं। ये तीनों ही मेरे जीवन के निर्णय हैं।

सहेलियों की कहानी है। दोस्ती पर बनी कौन-सी फिल्म आपको बहुत पसंद है?
दिल चाहता है, दोस्ती पर बनी ये बहुत सुंदर फिल्म थी। इस फिल्म ने हमारे देश के मल्टीप्लेक्स कल्चरल को ही बदल डाला।

आपकी सहेलियों से सब वाकिफ है। आपकी आपसी लड़ाई होती है?
हम लड़ते नहीं है। हां, हम लोगों की बहस हो जाती है। हम भी तैयार रहते हैं, इस बात के लिए कि हम आपस में किसी विषय पर अलग सोच सकते हैं।


इन दिनों आपकी और सैफ की तस्वीरों से ज्यादा तैमूर की तस्वीरें देखना मिलती हैं?
मैं क्या कह सकती हूं? मैं सिर्फ लोगों को समझा सकती हूं कि ऐसा ना करें। वह एक छोटा सा बच्चा ही तो है।

आपमें और कालिंदी (वीरे दी वेडिंग में करीना द्वारा निभाया गया किरदार) में कोई समानता है?
नहीं कालिंदी बहुत अलग है। मैं बहुत मज़बूत इरादे वाली हूं। मैं बहुत प्रैक्टिकल हूं जो कालिंदी नहीं है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :