टाइगर जिंदा है : ट्रेलर रिव्यू

क्रिसमस पर रिलीज होने वाली फिल्म 'टाइगर जिंदा है' का ट्रेलर जारी हो गया है। यह कबीर खान द्वारा निर्देशित फिल्म 'एक था टाइगर' का सीक्वल है। कबीर के मुताबिक उन्हें अपनी फिल्म 'एक था टाइगर' पसंद नहीं है क्योंकि उसकी मेकिंग के दौरान उन्हें कई समझौते करने पड़े थे। भले ही वो फिल्म ब्लॉकबस्टर हो गई, लेकिन उन्होंने कई गलतियां की थीं। शायद इसी कारण उन्होंने सीक्वल का निर्देशन नहीं किया और 'सुल्तान' वाले अली अब्बास ज़फर को यह फिल्म करने को मिल गई।

टाइगर जिंदा है के ट्रेलर में पूरी कहानी को खोल के सामने रख दिया गया है। इराक में फंसी नर्सों को बचाने का मिशन टाइगर को मिलता है। सारा खेल इस बात पर निर्भर है कि टाइगर इस मिशन को अंजाम कैसे देता है। क्या इस मिशन में रोमांच होगा? यह निर्देशक के प्रस्तुतिकरण पर निर्भर करता है।

इस मिशन को रोमांचक बनाने के लिए आ‍धुनिक हथियारों पर खासा फोकस किया गया है। मशीनगन, गोलियां, हेलिकॉप्टर, विदेशी लोकेशन के सहारे सलमान को 'हीरोगिरी' दिखाने का भरपूर अवसर फिल्म में दिया गया है, यह ट्रेलर में साफ नजर आता है। अरसे बाद एक्शन करते नजर आएंगे और फिल्म का यूएसपी ही 'एक्शन' है। ट्रेलर देख समझ आता है कि एक्शन दर्शकों को रोमांचित करने वाला है
क्योंकि संवाद कम और एक्शन ज्यादा है।
सलमान कमांडो स्टाइल में एक्शन करते नजर आ रहे हैं।

ट्रेलर धमाकेदार है। कैसी फिल्म देखने दर्शक जा रहे हैं, उन्हें पहले से ही मानसिक रूप से तैयार करता है। कहते हैं कि 'फर्स्ट इम्प्रेशन इज़ लास्ट इम्प्रेशन' और 'टाइगर जिंदा है' का ट्रेलर पहली बार में ही प्रभावित करता है।

सलमान की पिछली फिल्म 'ट्यूबलाइट' भले ही असफल हो गई हो, लेकिन इससे उनके स्टारडम पर कोई आंच नहीं आई है। 'टाइगर जिंदा है' धमाकेदार ओपनिंग करेगी, यह बात ट्रेलर ने तय कर दी है।



वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :