सर्दियों में फूलों सी कोमल हो जाएं, इन 4 फूलों को आजमाएं

-दीप्ति त्रिपाठी

प्रकृति ने हमें अनमोल खजाना दिया है जो ईश्वरीय वरदान है। यदि हम चाहें तो इनका उपयोग करके शारीरिक व मानसिक रूप से स्वस्थ व सुंदर रह सकते हैं। इस तरह से फूलों के गुणों को अपने में आत्मसात करिए व फूलों की तरह खिली-खिली आकर्षक, कोमल व स्निग्ध रहिए। हम आपको कुछ ऐसे फूलों की गुणवत्ता के बारे में बता रहे हैं, जो अधिकांश आपको अपने घर में ही या आसपास ही मिल जाएंगे। तो इन और अपना सौंदर्य बढ़ाइए।

(1) गुलाब के फूल :
जब भी आप अपनी त्वचा पर गुलाब के फूलों का उपयोग करें तो इस बात का ध्यान रखें कि गुलाब देशी हो। त्वचा पर गुलाबी देशी गुलाब का उपयोग करेंगी तो आपको परिणाम अच्छे मिलेंगे।

दो-तीन लाल देशी गुलाब के फूलों की पंखुड़ियां रात को मलाई निकले दूध में भिगो दें। सुबह उसमें एक चुटकी नमक डालकर बारीक पेस्ट बना लें। इसमें थोड़ा-सा चंदन पावडर या दो बूंद चंदन का तेल डालकर चेहरे व गर्दन पर लगाएं। आधे घंटे बाद पानी से चेहरा धो लें। इसे हफ्ते में दो-तीन बार करें। आपका चेहरा खिल उठेगा।

(2) गेंदे के फूल :
दो लीटर पानी को कांच की बरनी में डालिए। उसमें आठ-दस देशी गेंदे के फूलों की पंखुड़ियां तोड़कर डाल दीजिए और इसे तेज धूप में रख दीजिए। दूसरे दिन डाली हुई पंखुड़ियां निकाल लीजिए और उतनी ही ताजी पंखुड़ियाँ डालकर धूप में रख दीजिए।

इस तरह कम से कम पंद्रह दिन इस क्रम को दोहराइए। फिर इस पानी को छानकर फ्रिज में रख लीजिए। इस पानी को रोज दिन में एक बार अपने चेहरे पर रुई की सहायता से लगाइए। लगातार इस पानी को लगाने से 'ओपन पोर्स' की समस्या से छुटकारा मिलेगा, साथ ही साथ चेहरे की झांइयां व दाग-धब्बे भी कम होंगे।

(3) चमेली के फूल :
यह त्वचा व बालों के लिए अत्यंत उपयोगी हैं। रात को पानी में इन्हें भिगो दीजिए, सुबह मिक्सर में पीस लीजिए व इसमें दो चम्मच गुलाब जल डाल दीजिए। इसे बालों में लगाने से चमक आती है व चेहरे पर लगाने से त्वचा में निखार आता है।


(4) कैलेंडुला के फूल
: यह मौसमी होते हैं व केवल ठंड में ही फूलते हैं। ठंड में इन फूलों को सुखाकर एयर टाइट डिब्बे में बंद करके रख लीजिए। ये साल भर तक खराब नहीं होंगे। जब भी आपको चेहरे पर फुंसियां, मुंहासे, बालों में डेंड्रफ आदि हों तो इन फूलों को पानी में भिगोकर बारीक पेस्ट बनाकर बालों व त्वचा पर लगा लीजिए, फायदा होगा।




वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें जरूर
आप खाने के शौकीन हैं लेकिन क्या आप महसूस कर रहे हैं कि पिछले कुछ समय से आपका पाचन थोड़ा ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके अपनाएं
जब बालों का निचला हिस्सा दो भागों में बंट जाता है, तब उसे बालों का दोमुंहा होना कहते हैं। ...

भोलेनाथ भगवान शंकर की भस्म से होते हैं कई रोग दूर, पढ़कर ...

भोलेनाथ भगवान शंकर की भस्म से होते हैं कई रोग दूर, पढ़कर चौंक जाएंगे
भस्म ना सिर्फ सेहत की दृष्टि से उपयुक्त होती है बल्कि स्वाद में भी लाजवाब हो जाती है। ...

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की

फुटबॉल के मैदान से हटकर अब चर्चा कूटनीति के मैदान की
दुनिया का सबसे बड़ा और रोमांच से भरपूर फुटबॉल मेला समाप्त हुआ। करोड़ों को रुला लिया, ...

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे

प्रेम गीत : नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे
नाराज़ हैं मेहरबाँ मेरे,अब आ भी जाओ,कि अंजुमन को तेरी दरक़ार है, ढूँढता रहा,

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, ...

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, जानिए...
आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही देवशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से भगवान श्री हरि ...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ...