शनिदेव की कृपा प्राप्ति व कष्टमुक्ति के लिए करें इस तरह पूजन...


'तुष्टो ददासि वै राज्यं रुष्टो हरसि तत्क्षणात्।'
शनिदेव प्रसन्न (संतुष्ट) होने पर राज्य दे देते हैं और रुष्ट होने पर उसे छीन भी लेते हैं। शनिदेव के प्रसन्न होने पर व्यक्ति को सर्वत्र विजय, धन, काम, सुख और आरोग्यता की प्राप्ति होती है।

शनिदेव की कृपा प्राप्ति व कष्टमुक्ति का अचूक उपाय : शनि स्तोत्र का पाठ, शनि प्रतिमा का पूजन व दान-

जिनको शनिदेव की कृपा प्राप्त करनी हो उन्हें चाहिए कि वे शनिदेव की एक लोहे की प्रतिमा बनवाएं जिसकी 4 भुजाएं हों। उनमें धनुष, त्रिशूल, बाण और वर मुद्रा अंकित कराएं।
पीड़ा परिहार के लिए स्त्री-पुरुष शनिवार को व्रत रखकर, तैलाभ्यंग स्नान करके शनि पूजा के लिए बैठें। शनिदेव की लोहे की मूर्ति को काले तिल के ढेर के ऊपर स्थापित करें। तिल के तेल या सरसों के तेल से शनिदेव की मूर्ति का अभिषेक-स्नान करें। मंत्र सहित विधिपूर्वक पूजन करते हुए कुमकुम से तिलक करें। नीले पुष्प, काली तुलसी, शमी के पत्ते, उड़द, गुड़ आदि अर्पित करें।

शनि पूजन, जप व दान का संकल्प निम्न प्रकार से लें। हाथ में जल लेकर कहें-
मम जन्मराशे: सकाशात् अनिष्टस्थानेस्थितशने: पीड़ा परिहार्थं एकादशस्थानवत् शुभफलप्राप्त्यर्थं लोहप्रतिमायां शनैश्चपूजनं तत्प्रीतिकरं स्तोत्र जपं एवं दानंच करिष्ये।।
(पृथ्वी पर जल छोड़ें)।

अथ: ध्यानम्-

अहो सौराष्ट्रसंजात छायापुत्र चतुर्भुज।
कृष्णवर्णार्कगोत्रीय बाणहस्त धनुर्धर।।
त्रिशूलिश्च समागच्छ वरदो गृध्रवाहन।
प्रजापतेतु संपूज्य: सरोजे पश्चिमेदले।।
ध्यान के पश्चात उक्त प्रकार से श्री शनिदेव का विधिवत पूजन करें। शनिदेव की प्रतिमा पूजन के बाद राजा दशरथकृत शनि स्तोत्र का 10 हजार की संख्या में जप करें।

श्री शनि स्तोत्र

ॐ कोणस्थ: पिंगलोबभ्रु कृष्णो रौद्रान्तको यम:।
सौरि: शनैश्चरो मन्द: पिप्लाश्रय संस्थित:।।

जो व्यक्ति प्रतिदिन अथवा प्रति शनिवार को पीपल वृक्ष पर जल अर्पित करके शनिदेव के उपरोक्त नामों- कोणस्थ, पिंगल, बभ्रु, कृष्ण, रौद्रान्तक, यम, सौरि, शनैश्चर, मंद, पिप्लाश्रय संस्थित को पीपल वृक्ष के नीचे बैठकर जपेगा, उसको शनि की पीड़ा कभी नहीं होगी।
एक बार शनिदेव पिप्लाद मुनि आश्रित हो गए थे तथा पिप्लाद मुनि ने शनिदेव को अंतरिक्ष में स्थापित किया था इसलिए शनिदेव का 10वां नाम 'पिप्लाश्रय संस्थित' पड़ा है। महर्षि पिप्लाद मुनि ने भगवान शिव की प्रेरणा से शनिदेव की स्तुति की थी, जो इस प्रकार है-

नमस्ते कोणसंस्थाय पिंगलाय नमोस्तुते।
नमस्ते बभ्रुरुपाय कृष्णायच नमोस्तुते।।
नमस्ते रोद्रदेहाय नमस्ते चांतकाय च।
नमस्ते यमसंज्ञाय नमस्ते सौरये विभो।।
नमस्ते मंदसंज्ञाय शनैश्चर नमोस्तुते।
प्रसादं कुरु देवेश दीनस्य प्रणतस्य च।।
इस नमस्कार मंत्र का उच्चारण करते हुए शनिदेव का तैलाभिषेक करें (तेल चढ़ाएं) व कुमकुम से तिलक करें। काले उड़द, काले तिल, नीले फूल व सिक्का (पैसा) चढ़ाएं। गुड़ का भोग लगाएं। शनि के इन स्तुति मंत्रों का शनिवार को प्रात:काल शनि की होरा में अथवा प्रतिदिन 10 बार, 1 माला, 10 माला अथवा 10 हजार की संख्या में जप करने से शनि पीड़ा से मुक्ति मिलती है।


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?
अतिथि कौन? वेदों में कहा गया है कि अतिथि देवो भव: अर्थात अतिथि देवतास्वरूप होता है। अतिथि ...

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार
12 राशियां स्वभावत: जिन-जिन रोगों को उत्पन्न करती हैं, वे इस प्रकार हैं-

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें
रोजमर्रा में हम ऐसी गलतियां करते हैं जो वास्तु के अनुसार सही नहीं होती। आइए जानते हैं कुछ ...

कैसे करें गर्भाधान संस्कार, पढ़ें ज्योतिषीय जानकारी...

कैसे करें गर्भाधान संस्कार, पढ़ें ज्योतिषीय जानकारी...
श्रेष्ठ संतान के जन्म के लिए आवश्यक है कि 'गर्भाधान' संस्कार श्रेष्ठ मुहूर्त में किया ...

शुक्र आया अपनी राशि में, क्या होगा 12 राशियों के जीवन पर

शुक्र आया अपनी राशि में, क्या होगा 12 राशियों के जीवन पर असर
कला, धन, सौन्दर्य के कारक ग्रह शुक्र ने 20 अप्रैल, शुक्रवार को सुबह 2 बजे वृषभ राशि में ...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार एकादशी के व्रत-उपवास का बहुत महत्व है।जिन लोगों की शादी नहीं ...

28 अप्रैल को श्री नृसिंह जयंती, यह खास मंत्र देंगे उन्नति ...

28 अप्रैल को श्री नृसिंह जयंती, यह खास मंत्र देंगे उन्नति और कीर्ति
भगवान नृसिंह विष्णुजी के सबसे उग्र अवतार माने जाते हैं। उनकी पूजा-आराधना यश, सुख, ...

हर तरफ है बस संकट ही संकट तो पढ़ें नृसिंह देव का यह अचूक ...

हर तरफ है बस संकट ही संकट तो पढ़ें नृसिंह देव का यह अचूक मंत्र
अगर आप कई संकटों से घिरे हुए हैं या संकटों का सामना कर रहे हैं, तो भगवान विष्णु या श्री ...

ज्योतिष के यह योग बनाते हैं चरित्रहीन, पढ़ें ज्योतिष ...

ज्योतिष के यह योग बनाते हैं चरित्रहीन, पढ़ें ज्योतिष विश्लेषण
वर्तमान समय में देश में दुष्कर्म की घटनाओं में वृद्धि हुई है। काम-क्रोध आदि षड्विकार सभी ...

25 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...

25 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...
पार्टी व पिकनिक का आनंद मिलेगा। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। व्यवसाय ठीक चलेगा। ...