दीपावली पर्व : कहां लगाएं दीपक कि मिले लाभ और बढ़े सुख-समृद्धि...


* जानिए दीपावली पर कहां लगाने से होता है लाभ  
> दीपों के इस पर्व पर हम सभी अपने घर-प्रतिष्ठान पर मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए दीप प्रज्वलित कर अंधेरे को मिटाते हैं, परंतु बहुतेरों को यह जानकारी ही नहीं होती कि किन स्थानों पर दीपक प्रज्वलित करने से क्या लाभ होते हैं। आइए हम आपको बताते हैं कि किस स्थान पर किस प्रकार दीपक लगाए जाने चाहिए- 
 
दीपावली की संध्या पर से पहले मुख्य द्वार पर सरसों के तेल के दीपक जलाएं। अगर घर में आंगन है तो घी का एक दीपक आंगन में जलाएं और अगर आंगन नहीं है तो ड्राइंग रूम या घर के बीचोबीच घी का दीपक जलाएं।
 
नजदीक के मंदिर में जाकर दीपदान करें। आप 5 या 7 घी के दीपक ले जाएं और अपने ईष्टदेव के अलावा शिव मंदिर व अन्य मूर्तियों के सामने भी दीपक जलाएं और समृद्धि की कामना करें। दीपावली की शाम को घर के नजदीक मुख्य चौराहे पर भी दीपक जलाने से दिग्पाल प्रसन्न होते हैं।
 
लक्ष्मीपूजन के बाद पीपल के पेड़ के नीचे भी दीपक जलाकर आएं। अपने घर और घर के आसपास कहीं भी अंधेरा दिखे तो संकोच न करें और वहां दीपक जलाकर आएं। रात को शयन कक्ष में घी का दीपक जलाएं लेकिन साथ ही उसमें कपूर भी रख दें। कहते हैं कि इससे दांपत्य जीवन में मधुरता बनी रहती है।
 
गृह स्वामिनी दीपावली की रात खाना बनाने से पहले दो दीपक रसोईघर में जरूर जलाएं। इससे मां अन्नपूर्णा प्रसन्न होती हैं और घर भंडार में वृद्धि होती है। अगर आपके पास वाहन है तो वाहन के समीप एक दीपक जरूर जलाएं। तिजोरी के नजदीक भगवान कुबेर की प्रार्थना करते हुए तिल के तेल का दीपक जलाएं। इससे सालभर तिजोरी भरी रहने के योग बनते हैं।
 
मां लक्ष्मी जल के रूप में भी घर-घर में मौजूद रहती हैं। घर के पास नदी, कुआं, तालाब या किसी भी प्रकार का जलस्रोत हो तो वहां दीपक जलाएं। अगर ऐसा संभव न हो तो घर में नल अथवा जल के किसी भी स्रोत के नजदीक एक दीपक जरूर जलाएं। 
 
दीपावली की रात घर के चारों कोनों में चार मुख वाले दीपक जरूर जलाएं और भगवान गणेशजी से अपने चारों तरफ सुख-समृद्धि की कामना जरूर करें। दीपावली की रात पूजन के पश्चात तुलसी के पौधे के नीचे भी एक दीपक जलाएं, इससे श्रीविष्णु प्रसन्न होते हैं। >


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

राशिफल

गुप्त नवरात्रि आरंभ, जानिए इस नवरात्रि में कैसे की जाती है ...

गुप्त नवरात्रि आरंभ, जानिए इस नवरात्रि में कैसे की जाती है देवी पूजा
आषाढ़ मास की 'गुप्त-नवरात्रि' प्रारंभ होने जा रही है। आइए, जानते हैं कि इस गुप्त नवरात्रि ...

क्या देवता भी होते हैं बीमार, जी हां जगन्नाथ यात्रा से ...

क्या देवता भी होते हैं बीमार, जी हां जगन्नाथ यात्रा से पूर्व हर वर्ष देवता को आता है बुखार
चौंकिए मत, हमारे देश में भगवान भी रुग्ण यानी बीमार होते हैं और उनकी भी चिकित्सा की जाती ...

Gupt Navratri 2018 : जानें महत्व, सरल पूजा विधि एवं ...

Gupt Navratri 2018 : जानें महत्व, सरल पूजा विधि एवं घटस्थापना मुहूर्त
नवरात्रि में देवी का पूजन आह्वान प्रात:काल ही श्रेष्ठ रहता है अत: अभिजीत मुहूर्त में ...

जीवन में खुशहाली चाहिए तो हलहारिणी अमावस्या पर आजमाएं ये 10 ...

जीवन में खुशहाली चाहिए तो हलहारिणी अमावस्या पर आजमाएं ये 10 सरल उपाय
आषाढ़ मास में पड़ने वाली अमावस्या को आषाढ़ी तथा हलहारिणी अमावस्या कहा जाता है। इस वर्ष यह ...

सावन के महीने में बढ़ेगा आपका सौभाग्य ऐसे करें भोलेनाथ का ...

सावन के महीने में बढ़ेगा आपका सौभाग्य ऐसे करें भोलेनाथ का अभिषेक, पढ़ें 10 प्रकार
श्रावण या सरल शब्दों में सावन मास भगवान शिव का अत्यंत प्रिय महीना है। वर्ष 2018 में 28 ...

देवताओं की रात्रि प्रारंभ, क्यों नहीं होते शुभ कार्य कर्क ...

देवताओं की रात्रि प्रारंभ, क्यों नहीं होते शुभ कार्य कर्क संक्रांति में...
कर्क संक्रांति में नकारात्मक शक्तियां प्रभावी होती हैं और अच्छी और शुभ शक्तियां क्षीण हो ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे देवता... पढ़ें पौराणिक महत्व और 11 खास बातें
सूर्यदेव ने कर्क राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के कर्क में प्रवेश करने के कारण ही इसे ...

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र
भागदौड़ भरी जिंदगी में आजकल सभी परेशान है, कोई पैसे को लेकर तो कोई सेहत को लेकर। यदि आप ...

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य

ज्योतिष सच या झूठ, जानिए रहस्य
गीता में लिखा गया है कि ये संसार उल्टा पेड़ है। इसकी जड़ें ऊपर और शाखाएं नीचे हैं। यदि कुछ ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, ...

श्रावण मास में शिव अभिषेक से होती हैं कई बीमारियां दूर, जानिए ग्रह अनुसार क्या चढ़ाएं शिव को
श्रावण के शुभ समय में ग्रहों की शुभ-अशुभ स्थिति के अनुसार शिवलिंग का पूजन करना चाहिए। ...