दिवाली पर खुशबूदार कैंडल्स से आएगी पॉजीटिव एनर्जी


दीपावली यूं तो दीपों का पर्व है, और दीयों के बिना तो दिवाली मनाए जाने का सवाल ही नहीं उठता। लेकिन अब कुछ नए विकल्प भी मौजूद हैं, जिन्हें आप खुशी के साथ अपनाना चाहेंगे। खुशबूदार रंबिरंगी कैंडल्स भी इन्हीं में से एक हैं।
 
रोशनी के इस पर्व को खास तरीके से मनाने और यादगार बनाने के लिए लोग कोई कमी नहीं छोड़ना चाहते। यही वजह है कि अन्य चीजों के साथ ही घर को रोशन करने के लिए महंगी और खुशबूदार कैंडल्स की मांग भी बढ़ने लगी है। 
 
हालांकि बीते कुछ सालों से हम पारंपरिक कैंडल्स से घरों को सजाते आए हैं, लेकिन बाजार में होने वाले नित नए प्रयोगों ने आज हमें कई विकल्प उपलब्ध करवा दिए हैं। अब साधारण सी दिखने वाली रेग्युलर कलर्स कैंडल्स की बजाए बाजार में ऐसी कैंडल्स आ गईं हैं जो घर को रोशन तो करेंगी ही, कोने-कोने में खुशबू भी बिखरेंगी।इन कैंडल्स को घर में तो सजा ही सकते हैं, साथ ही खुबसूरत पॉट में फूलों की पंखुड़ियों के साथ पानी में तैराते हुए, स्वागत द्वार भी सजा सकते हैं। 
 
दीपावली के इस फेस्टिवल सीजन में बाजार ऐसे आइटम्स से पटा पड़ा है। बाजार पर नजर डालें तो फ्लोटिंग कैंडल, जेल, डिप, चंक्स, फ्रेगरेंस से भरपूर कैंडल, फ्लेवर वाली कैंडल्स की काफी डिमांड है। किनारियों से सजी-संवरी कैंडल्स पिलर, वोटिव्स और फ्लोटर्स आदि शेप में 100 रुपए से लेकर 1000  रुपए तक में मिल रही है। इसमें कुछ ऐसे भी कैंडल्स हैं जो लगभग 80 घंटे तक जलती हैं। वैसे मध्यमवर्ग के लिए 200 रुपए की रेंज तक अच्छी कैंडल्स बाजार में उपलब्ध हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी यह 6 बातें -
धर्म के प्रति अटल बिहारी वाजपेयी की आस्था कम नहीं रही। देशभक्ति को भी उन्होंने अपना धर्म ...

फनी बाल कविता : ले गए पेड़ लुटेरे

फनी बाल कविता : ले गए पेड़ लुटेरे
मैं हूं नन्हीं परी, बगल में, पंख छुपे हैं मेरे। आसमान से उड़कर आई, बिलकुल सुबह सवेरे।

थोड़ी-सी बारिश की बड़ी-सी आफत

थोड़ी-सी बारिश की बड़ी-सी आफत
देश के कई शहरों में बारिश ने कोहराम मचाते हुए सामान्य जनजीवन को बड़ी बुरी तरह से प्रभावित ...

मच्छरों के काटने से क्या होता है असर, जानिए लक्षण और

मच्छरों के काटने से क्या होता है असर, जानिए लक्षण और उपाय...
मच्छर का काटना न केवल आपको डेंगू या मलेरिया का शिकार बना सकता है बल्कि एलर्जी और ...

पिंपल वाली स्किन पर मेकअप करना मुश्किल भरा होता है, ऐसे में ...

पिंपल वाली स्किन पर मेकअप करना मुश्किल भरा होता है, ऐसे में ये 5 टिप्स आपकी मदद करेंगे
मेकअप करना तो आजकल हर अवसर की जरूरत सा बन गया है। बिना मेकअप के आप महफिल में फीकी सी लगती ...

रक्षा बंधन पर चयन करें राशि अनुसार राखी के रंग, पर्व मनाएं ...

रक्षा बंधन पर चयन करें राशि अनुसार राखी के रंग, पर्व मनाएं शुभ मुहूर्त के संग
इस बार रक्षाबंधन के लिए समय ही समय मिलेगा। रक्षाबंधन वाले दिन भद्रा नहीं लगेगी, क्योंकि ...