खूब सारा धन देता है चमकता-दमकता श्वेत मोती


- दशरथ चौपड़ा

रत्न चौरासी प्रकार के होते हैं। उनमें से माणिक्य, मोती, पन्ना, हीरा, नीलम ये पंच महारत्न कहे जाते हैं। इनमें से मोती का अपना महत्व है। है।

गोल लंबा आकार का मोती, जिसका रंग तेजस्वी सफेद हो तथा उसमें लाल रंग के ध्वज के आकार का सूक्ष्म चिह्न हो तो उसको धारण करने से धारणकर्ता को राज्य की ओर से लक्ष्मी का लाभ होता है।

सोमवार प्रातः अथवा संध्या के समय चांदी में कनिष्ठा में इसे धारण करने से लाभ होता है। मोती शुक्ल पक्ष में रोहिणी, हस्त, श्रवण नक्षत्रों में धारण करना चाहिए। मोती के साथ गोमेद धारण नहीं करना चाहिए। मोती 4.25 रत्ती भार का धारण करना चाहिए।
सही स्वरूप का मोती धारण करने से ही अपेक्षित लाभ प्राप्त होते हैं। अन्यथा कई ऐसे उदाहरण सामने आते हैं कि मोती धारण किया, परंतु कोई फर्क का अहसास नहीं हुआ।

गोल आकार का मोती उत्तम प्रकार का होता है। मोती आकार में लंबा तथा गोल हो एवं उसके मध्य भाग में आकाश के रंग जैसा वलयाकार, अर्द्ध चंद्राकार चिह्न हो तो ऐसा मोती धारण करने से धारणकर्ता को उत्तम पुत्र की प्राप्ति होती है। मोती यदि आकार में एक ओर अणीदार हो तथा दूसरी ओर से चपटा हो तथा उसका रंग सहज आकाश के रंग की तरह हो तो ऐसा मोती धारण करने से धारणकर्ता के धन में वृद्धि होती है। गोल आकार का पीला रंग का मोती हो तो ऐसा मोती धारण करने से धारणकर्ता विद्वान होता है।

मोती आकार में ऊपर से अणीदार तथा नीचे से गोल हो तथा उसका रंग तेज सफेद हो तो ऐसा मोती धारण करने से बंध्यत्व का नाश हो जाता है। गोल आकार का मोती, जिसका रंग मामूली ललास मारता हो तो उसको धारण करने से धारणकर्ता को मंगल ग्रह का उपद्रव शांत हो जाता है। गोल आकार का मोती, जिसमें भ्रमर के आकार का सूक्ष्म श्याम रंग का चिह्न हो तो उसको धारण करने से धारणकर्ता को विदेश यात्रा जाना पड़ता है।

गोल लंबा आकार का मोती, जिसका रंग तेजस्वी सफेद हो तथा उसमें लाल रंग के ध्वज के आकार का सूक्ष्म चिह्न हो तो उसको धारण करने से धारणकर्ता को राज्य की ओर से लक्ष्मी का लाभ होता है। गोल आकार का मोती, जिसका रंग तेजस्वी सफेद हो तथा उसमें हरे रंग के कमल के फूल के आकार का सूक्ष्म चिह्न हो तो उसको धारण करने से धारणकर्ता को राज्य की ओर से अत्यधिक लक्ष्मी प्राप्त होती है। गोल आकार का मोती, जिसका रंग तेजस्वी सफेद हो तथा उसमें श्याम रंग का मुद्गल के आकार का सूक्ष्म चिह्न हो तो उसको धारण करने से धारणकर्ता की संतान बलिष्ठ तथा उद्यमी होती है।

गोल आकार का मोती, जिसका रंग तेजस्वी सफेद हो तथा उसमें हरे रंग का चामर के आकार का सूक्ष्म चिह्न हो तो उसको धारण करने से धारणकर्ता को राज्य की ओर से पदवी तथा बहुत धन मिलता है। गोल आकार का मोती, जिसका रंग तेजस्वी सफेद हो तथा उसमें सफेद रंग का पद्मकोष के आकार का सूक्ष्म चिह्न हो तो उसको धारण करने से धारणकर्ता को बहुत लक्ष्मी प्राप्त होती है तथा उससे स्वयं के लोभ में वृद्धि होती है।

मोती का चयन तथा धारण करना सभी के लिए संभव नहीं हो सके तो बड़ी तिथियों पर विशेषकर चतुर्दशी तथा पूर्णिमा के दिन व्रत उपवास करने से भी उपरोक्त लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?
अतिथि कौन? वेदों में कहा गया है कि अतिथि देवो भव: अर्थात अतिथि देवतास्वरूप होता है। अतिथि ...

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार
12 राशियां स्वभावत: जिन-जिन रोगों को उत्पन्न करती हैं, वे इस प्रकार हैं-

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें
रोजमर्रा में हम ऐसी गलतियां करते हैं जो वास्तु के अनुसार सही नहीं होती। आइए जानते हैं कुछ ...

कैसे करें गर्भाधान संस्कार, पढ़ें ज्योतिषीय जानकारी...

कैसे करें गर्भाधान संस्कार, पढ़ें ज्योतिषीय जानकारी...
श्रेष्ठ संतान के जन्म के लिए आवश्यक है कि 'गर्भाधान' संस्कार श्रेष्ठ मुहूर्त में किया ...

शुक्र आया अपनी राशि में, क्या होगा 12 राशियों के जीवन पर

शुक्र आया अपनी राशि में, क्या होगा 12 राशियों के जीवन पर असर
कला, धन, सौन्दर्य के कारक ग्रह शुक्र ने 20 अप्रैल, शुक्रवार को सुबह 2 बजे वृषभ राशि में ...

यहां अवतरित हुए थे भगवान नृसिंह, मनेगा लक्ष्मीनृसिंह ...

यहां अवतरित हुए थे भगवान नृसिंह, मनेगा लक्ष्मीनृसिंह चंदनोत्सव
स्थल पुराण के अनुसार भक्त प्रहलाद ने ही इस स्थान पर नृसिंह भगवान का पहला मंदिर बनवाया था। ...

नृसिंह अवतार का आश्चर्यजनक रहस्य, आपको जरूर जानना चाहिए

नृसिंह अवतार का आश्चर्यजनक रहस्य, आपको जरूर जानना चाहिए
धारणा है कि भक्त प्रह्लाद के जीवन की रक्षा के लिए भगवान विष्णु ने इसी स्तंभ से नृसिंह ...

ऐसे मनाएं श्री नृसिंह जयंती-उत्सव, पाएं शक्ति और पराक्रम

ऐसे मनाएं श्री नृसिंह जयंती-उत्सव, पाएं शक्ति और पराक्रम
भगवान श्री नृसिंह शक्ति तथा पराक्रम के प्रमुख देवता हैं। वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की ...

नृसिंह जयंती 28 अप्रैल को, जानिए क्या करें इस दिन

नृसिंह जयंती 28 अप्रैल को, जानिए क्या करें इस दिन
भक्त प्रह्लाद की रक्षा करने के लिए भगवान विष्णु ने नृसिंह रूप में अवतार धारण किया था। इसी ...

इंदौर का चमत्कारी प्राचीन नृसिंह मंदिर, पढ़ें पौराणिक तथ्य

इंदौर का चमत्कारी प्राचीन नृसिंह मंदिर, पढ़ें पौराणिक तथ्य
नृसिंह मंदिर उस जमाने में सरकारी लश्करी मंदिर के नाम से मशहूर था। यूं इस मंदिर की स्थापना ...