7 दिसंबर को वर्षों बाद गुरु-पुष्य के साथ गजकेसरी का शुभ संयोग



2017 को बन रहा है। व शुभ योग है जिसमें किए गए कार्य व सिद्धियां शीघ्र फ़लदायक
होती हैं। लेकिन को वर्ष के अंत में बनने वाला गुरु-पुष्य संयोग बहुत ही महत्वपूर्ण है क्योंकि इस दिन भी बन रहा है।

यह अति-दुर्लभ संयोग है जो कई वर्षों बाद बनता है। 7 दिसंबर को गुरु तुला राशि में और चन्द्र स्वराशिस्थ होकर कर्क में रहेंगे। यहां गोचरवश चन्द्र, गुरु से दशम् भाव में अर्थात् केन्द्र में रहेंगे। चन्द्र व गुरु के परस्पर केन्द्र में होने के कारण यहां हो रहा है।

गुरु-पुष्य नक्षत्र में गजकेसरी योग का निर्माण बहुत ही शुभ है। इस प्रकार का दुर्लभ संयोग वर्षों बाद निर्मित होता है। इस दिन प्रारम्भ किए गए कार्य व जप-तप त्वरित सिद्ध होकर लाभ प्रदान करते हैं। आइए जानते हैं कि इस विशेष योग में कौन से कार्य करने श्रेयस्कर रहेंगे-

1. प्रतिष्ठान का शुभारंभ - आज के दिन अपने नवीन व्यावसायिक प्रतिष्ठान का शुभारंभ करना लाभदायक रहेगा।
2. नवीन वाहन या भूमि क्रय करना- आज के दिन नवीन वाहन या भूमि क्रय करना लाभदायक रहेगा।

3. आभूषण क्रय करना- आज के दिन स्वर्ण आभूषण क्रय करना विशेष लाभदायक रहेगा।

4. मंत्र सिद्ध करना- आज के दिन सिद्धि हेतु विशेष मंत्रों को जप द्वारा सिद्ध करना फ़लदायक रहेगा।

5. हत्थाजोड़ी व यंत्र-प्रतिष्ठा- इस दुर्लभ संयोग में हत्थाजोड़ी व अन्य शुभ यंत्रों जैसे श्रीयंत्र आदि की प्रतिष्ठा कर स्थापना की जाती है तो यह अनंत गुना फ़लदायी होती है।
6. श्वेतार्क मदार की जड़- आज के दिन श्वेतार्क मदार (सफ़ेद आक) की जड़ को धारण करना व सिद्ध करना लाभदायक रहता है।

7. गूलर की जड़- आज के दिन गूलर की जड़ को सिद्ध कर स्वर्ण ताबीज में धारण करना लाभदायक रहता है।

8. चमेली की जड़- आज के दिन चमेली की जड़ को सिद्ध कर प्रयोग करना लाभदायक रहता है।

(विशेष- वनस्पति तंत्र में किसी भी पेड़ की जड़ का उत्खनन करने से पूर्व विशेष नियमों का पालन करना आवश्यक होता है। अत: शास्त्रोक्त नियमों का पालन किए बिना जड़ का उत्खनन ना करें।)
-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
सम्पर्क: astripoint_hbd@yahoo.com


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, जानिए कैसे
सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड 360 अंशों में विभाजित है। इसमें 12 राशियों में से प्रत्येक राशि के 30 ...

सूर्य वृषभ राशि में, किन 5 राशियों को मिलेगा अधिक लाभ... ...

सूर्य वृषभ राशि में, किन 5 राशियों को मिलेगा अधिक लाभ... (जानें 12 राशियां)
15 मई को सूर्यदेव अपनी राशि परिवर्तन कर वृषभ में विराजे हैं। अब आने वाले 1 माह यानी 15 ...

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर
27 मई से बुध वृषभ राशि, भरणी नक्षत्र में प्रवेश करेगा, जिसके परिणाम स्वरूप आपकी राशि पर ...

बहुत खास है बुधादित्य योग, 27 मई से मिलेगा 12 राशियों को ...

बहुत खास है बुधादित्य योग, 27 मई से मिलेगा 12 राशियों को शुभाशुभ फल
27 मई को बुध अपनी राशि परिवर्तन कर वृष राशि में प्रवेश करेंगे। आइए जानते हैं कि किन-किन ...

आपके लिए जानना जरूरी है पुरुषोत्तम मास की ये 8 खास विशेष ...

आपके लिए जानना जरूरी है पुरुषोत्तम मास की ये 8 खास विशेष बातें...
ज्योतिष गणित में सूक्ष्म विवेचन के बाद अब स्वीकारा जा चुका है कि- जिस चंद्रमास में सूर्य ...

ऐसे घर में हो जाता है गृहस्वामी का नाश या आकस्मिक मौत

ऐसे घर में हो जाता है गृहस्वामी का नाश या आकस्मिक मौत
तो निश्चित ही उस घर के गृहस्वामी पर संकट बना रहता है, उसका नाश हो सकता है या आकस्मिक मौत ...

कैसे होते हैं रोहिणी नक्षत्र में जन्मे जातक, किस व्यवसाय ...

कैसे होते हैं रोहिणी नक्षत्र में जन्मे जातक, किस व्यवसाय में मिलेगी सफलता... (जानें लग्नानुसार)
रोहिणी नक्षत्र आकाश मंडल में चौथा नक्षत्र है। राशि स्वामी जहां शुक्र है, वहीं नक्षत्र ...

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर क्यों किया जाता है वट वृक्ष का पूजन, ...

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर क्यों किया जाता है वट वृक्ष का पूजन, जानें पौराणिक महत्व...
भारत के पूज्यनीय वृक्षों में वट यानी बरगद का महत्वपूर्ण स्थान है। इसे अमरता का प्रतीक भी ...

29 मई को ज्येष्ठ पूर्णिमा, सुहागिनें वट वृक्ष की पूजा करके ...

29 मई को ज्येष्ठ पूर्णिमा, सुहागिनें वट वृक्ष की पूजा करके लेंगी आशीष...
इस बार 29 मई 2018, मंगलवार को अधिक मास की पूर्णिमा आ रही है। अत: सोमवार, 28 मई से शाम ...

जानिए रोहिणी नक्ष‍त्र का स्वरूप, कथा और खास बातें...

जानिए रोहिणी नक्ष‍त्र का स्वरूप, कथा और खास बातें...
रोहिणी जातक सुंदर, शुभ्र, पति प्रेम, संपादन करने वाले, तेजस्वी, संवेदनशील, संवेदनाओं से ...