ये हैं अक्टूबर 2017 के शुभ संयोग, इस दौरान आरंभ करें नया कार्य...



प्रतिमाह आने वाले कई योग सकारात्मक ऊर्जा से सम्‍पन्न होते हैं। इसी कारण किसी भी नए कार्य को शुरू करने से पहले उस माह के कार्य-सिद्धि योग, को देख-परख लेना श्रेष्ठ होता हैं। अगर आपको किसी भी माह में नया कार्य आरंभ करना हो तो शुभ योग-संयोग देखकर किया जाए तो सफलता निश्चित रूप से मिलती है।यहां
पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं (2017) के शुभ-अशुभ योग। आइए जानें :-

अक्टूबर के शुभ-अशुभ योग

दिनांक समय
05 अक्टूबर
रात्रि 08/50 से देररात्रि 05/55 तक
06 अक्टूबर समस्त 09 अक्टूबर दोपहर 02/02 से देर रात्रि 05/56 तक
11 अक्टूबर
प्रात: 05/57 से प्रात: 10/26 तक
12 अक्टूबर
प्रात: 08/57 से देर रात्रि 05/58 तक
13 अक्टूबर
प्रात: 05/58 से प्रात: 07/46 तक
18 अक्टूबर
प्रात: 06/38 से देर रात्रि 06/01 तक
19 अक्टूबर
प्रात: 06/01 प्रात: 07/26 तक
21 अक्टूबर प्रात: 06/02 से प्रात: 10/17 तक
23 अक्टूबर
प्रात: 06/03 से दोपहर 02/53 तक
27 अक्टूबर
देर रात्रि 02/42 से देर रात्रि 06/06 तक
28 अक्टूबर
प्रात: 06/06 से देर रात्रि 05/03 तक

अमृत सिद्धि योग
06 अक्टूबर
प्रात: 05/55 से देर रात्रि 05/31 तक

सर्वदोषनाशक रवि योग
03 अक्टूबर रात्रि 09.52 से । 04 अक्टूबर रात्रि 09.39 तक।
11 अक्टूबर
प्रात: 10.26 से। 12 अक्टूबर प्रात: 08.57 तक।
22 अक्टूबर
दोपहर 12.23 से। 23 अक्टूबर 02.53 तक।
23 अक्टूबर
देर रात्रि 05.29 से। 24 अक्टूबर सायं 05.45 तक।
25 अक्टूबर
रात्रि 08.48 से। 26 अक्टूबर रात्रि 11.52 तक।
28 अक्टूबर

देर रात्रि 05.03 से। 30 अक्टूबर प्रात: 06.44 तक।

द्विपुष्कर (दो गुना फल) योग
01 अक्टूबर
देर रात्रि 02/44 से देर रात्रि 05/53 तक

त्रिपुष्कर (तीन गुना फल) योग
21 अक्टूबर
प्रात: 10/17 से देर रात्रि 03/01 तक
31 अक्टूबर
सायं 06/56 से देर रात्रि 06/08

अशुभ ज्वालामुखी योग
14 अक्टूबर प्रात: 06.54 से देर रात्रि 02.04 तक

विघ्नकारक भद्रा योग
01 अक्टूबर
दोपहर 02.15 से देर रात्रि 02.44 तक।
04 अक्टूबर
देर रात्रि 01.48 से 05 अक्टूबर दोपहर 01.03 तक।
08 अक्टूबर
प्रात: 06.19 से सायं 04.58 तक।
11 अक्टूबर
प्रात: 09.10 से रात्रि 08.03 तक।
14 अक्टूबर दोपहर 02.41 से देर रात्रि 02.04 तक।
17 अक्टूबर

रात्रि 12.09 से 18 अक्टूबर दोपहर 12.08 तक।
23 अक्टूबर
सायं 05.56 से 24 अक्टूबर प्रात: 07.07 तक।
27 अक्टूबर
दोपहर 02.45 से देर रात्रि 03.48 तक।
31 अक्टूबर

प्रात: 07.07 से सायं 06.56 तक।

पंचक

27 अक्टूबर
प्रात: 06.36 बजे मकर में
29अक्टूबर सायं 05.59 बजे धनु में
31 अक्टूबर
देर रात्रि 01.45 बजे

ALSO READ:
: मासिक पंचांग जानने के लिए क्लिक करें...



वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

राशिफल

भोलेनाथ को क्यों प्रिय है भस्म, जानेंगे तो श्रद्धा से भावुक ...

भोलेनाथ को क्यों प्रिय है भस्म, जानेंगे तो श्रद्धा से भावुक हो जाएंगे, साथ में पढ़ें महाकाल की भस्मार्ती का राज
आखिर भगवान भोलेनाथ को विचित्र सामग्री ही प्रिय क्यों है। बहुत कम लोग जानते हैं कि उनके ...

श्रावण में 40 दिन तक शिव जी को घी चढ़ाने से मिलेगा यह ...

श्रावण में 40 दिन तक शिव जी को घी चढ़ाने से मिलेगा यह आश्चर्यजनक आशीर्वाद, पढ़ें 12 राशि मंत्र भी...
श्रावण मास में भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए अपनी राशि अनुसार करें उनकी मंत्र आराधना। ...

आप नहीं जानते होंगे नंदी कैसे बने भगवान शिव के गण?

आप नहीं जानते होंगे नंदी कैसे बने भगवान शिव के गण?
शिव की घोर तपस्या के बाद शिलाद ऋषि ने नंदी को पुत्र रूप में पाया था। शिलाद ऋषि ने अपने ...

यह हैं वे 8 सुंदर सुगंधित फूल और पत्ती जिनसे होते हैं ...

यह हैं वे 8 सुंदर सुगंधित फूल और पत्ती जिनसे होते हैं भोलेनाथ प्रसन्न
श्रावण मास कहें या सावन मास इस पवित्र महीने में भगवान भोलेशंकर की कई प्रकार से आराधना ...

अमरनाथ गुफा में प्रवेश से पहले किन्हें त्याग दिया था शिवजी ...

अमरनाथ गुफा में प्रवेश से पहले किन्हें त्याग दिया था शिवजी ने, आप भी जानिए
अमरनाथ गुफा की ओर जाते हुए शिव सर्वप्रथम पहलगाम पहुंचे, जहां उन्होंने अपने नंदी (बैल) का ...

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, ...

कैसे करें देवशयनी एकादशी व्रत, क्या मिलेगा इस व्रत का फल, जानिए...
आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी को ही देवशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से भगवान श्री हरि ...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...

कैसा है शिव का स्वरूप, क्यों माने गए हैं स्वयंभू, जानिए...
शिव यक्ष के रूप को धारण करते हैं और लंबी-लंबी खूबसूरत जिनकी जटाएं हैं, जिनके हाथ में ...

शिव को प्रिय है रुद्राक्ष, यहां जानिए 21 मुखी रुद्राक्ष के ...

शिव को प्रिय है रुद्राक्ष, यहां जानिए 21 मुखी रुद्राक्ष के देवी-देवता और उनके चमत्कारिक मंत्र
पौराणिक मान्यता के अनुसार रुद्राक्ष का उद्भव शिव के नेत्रों से हुआ है। ये रुद्राक्ष इतने ...

24 से 30 जुलाई 2018 : साप्ताहिक राशिफल

24 से 30 जुलाई 2018 : साप्ताहिक राशिफल
पेशेवर स्तर पर आपको कोई बड़ा मौका मिलने वाला है। पेशेवर स्तर पर आपकी मेहनत रंग ला सकती ...

जब शिवजी माता पार्वती को सुना रहे थे अमरकथा, तब किसने सुन ...

जब शिवजी माता पार्वती को सुना रहे थे अमरकथा, तब किसने सुन ली यह कथा, जानिए
जब भगवान शंकर इस अमृतज्ञान को भगवती पार्वती को सुना रहे थे तो वहां एक शुक (हरा कठफोड़वा ...