Widgets Magazine

समाज को बदल डालो!

NDND
तात्पर्य यही है कि कट्टरपंथी हर बदलाव का विरोध करते हैं, चाहे बात कितनी ही सही हो, वे उसे नहीं मानते। पहले-पहल जब कहा गया दुनिया गोल है तो उसका भी विरोध हुआ। पहले-पहल जब कहा गया पृथ्वी सूरज की परिक्रमा करती है, सूरज पृथ्वी की नहीं तो इसका भी विरोध हुआ, बात की वैज्ञानिकता बगैर जाँचे-परखे।

हर युग में कट्टरपंथी सच को सूली पर चढ़ाते रहे, सच बोलने वालों की गर्दन काटते रहे हैं। कट्टरपंथी से कुछ कम कट्टर यानी भेड़वृत्ति के लोग पिटी-हुई लकीर पर, पहले गुजर चुके लोगों के पीछे बगैर सोचे-समझे चलते हैं। और यथास्थितिवादी, सुविधा-भोगी भी हर परिवर्तन का विरोध करते हैं, अतः प्रगतिशील वही है जो समय, काल, परिस्थिति के नए तर्कों के अनुसार उचित परिवर्तन करे। पुरानी बात में गैर बराबरी और अन्याय की कालिख हो तो उसे धो-पोंछकर शुद्ध करें। यही बात आती है जब बेटियों द्वारा अपनों के अग्नि संस्कार की बात आती है।

अब जब औरत ने देहरी लाँघ ली है। वह पाताल से अंतरिक्ष तक का फासला नाप चुकी है तो फिर एक सामान्य बात का विरोध क्यों? क्या नासा ने कल्पना चावला को अंतरिक्ष में ले जाते वक्त सोचा कि यह 'औरतों का काम नहीं', औरतें नाजुक दिल होती हैं? समय के साथ बहुत-सी मान्यताएँ बदली हैं वैसे ही यह भी बदल सकती है। और फिर बात छोटी-सी है, लड़कर कोई बहुत महान अधिकार लेने वाली बात नहीं है।

WD|
-निर्मला भुराड़ियउपरोक्त बैनर बीसवीं सदी के न्यूयॉर्क में मताधिकार के संबंध में स्त्रियों की गैर बराबरी की स्थिति पर व्यंग्य है, 'न्यूयॉर्क राज्य अपराधियों, विक्षिप्तों, मूर्खों और महिलाओं को मताधिकार देने से इंकार करता है।'हाथ कंगन को आरसी क्या? जाहिर है दुनिया के गणतंत्रों में पहले-पहल महिलाओं को वोट देने का अधिकार नहीं था। और जब महिलाओं ने इसकी माँग की तो कट्टरपंथियों ने इसका विरोध ऐसे किया जैसे वे उनके बराबर की इंसान न हों। मगर जबर्दस्त विरोधों, प्रदर्शनों, गिरफ्तारियों के बाद क्रांति हुई और महिलाओं को वोटिंग राइट्स मिले।
बात इतनी-सी है कि जहाँ पुत्र न हों वहाँ पुरुष रिश्तेदारों का मुँह न देखते हुए लड़की ही अग्नि संस्कार कर ले (यदि उसकी व्यक्तिगत संवेदना अनुमति देती है तो)। इसे भी प्रथा नहीं बनाया जा सकता, क्योंकि प्रथा बनते ही किसी भी बात का स्थिति अनुसार निर्णय करने का लचीलापन समाप्त हो जाता है। न ही इसे स्त्री-स्वातंत्र्य का झंडा लहराने वाला फैशन बनाया जा सकता है। बस यही कि कोई संतान अपने माता-पिता के प्रति यह अंतिम कर्तव्य निभाना चाहे तो सिर्फ इसलिए अड़चन नहीं आना चाहिए कि वह लड़की है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :