वसंत पंचमी 2018 : मां सरस्वती के पूजन की सरलतम विधि


विद्या, कला, सृजन, संगीत, वाणी, लेखनी, प्रेम, सौभाग्य और ऐश्वर्य की देवी मां सरस्वती से शुभ आशीष प्राप्त करन का दिन है वसंत(बसंत)पंचमी।
पूजन की सरलतम विधि है...


दैनिक कार्यों से निवृत्त होने के उपरांत मां भगवती सरस्वती की आराधना का संकल्प लेना चाहिए।

माघ मास की पंचमी तिथि, दिनांक 22 जनवरी 2018 को सुबह 7.17 से दोपहर 12.32 बजे तक पूजन का शुभ समय माना गया है।

स्नान के बाद भगवान गणेश जी का ध्यान करना चाहिए।

स्कंद पुराण के अनुसार सफेद पुष्प, चन्दन, श्वेत वस्त्रादि से देवी सरस्वती जी की पूजा करना चाहिए।

सरस्वती जी का पूजन करते समय सबसे पहले उनका स्नान कराना चाहिए इसके पश्चात माता को सिन्दूर व अन्य श्रृंगार की सामग्री चढ़ाएं।

इसके बाद फूल माला चढ़ाएं।

संगीत के क्षेत्र में हैं तो वाद्य यंत्रों की पूजन करें और अध्ययन से नाता है तो समस्त विद्या सामग्री कलम, किताब, नोटबुक आदि का पूजन करें।

संभव हो सके तो मोर का पंख मां सरस्वती को चढ़ाएं।

आंगन में रंगोली सजाएं।

आम्र मंजरी भी देवी को अर्पित करें।

वासंती खीर या केशरिया भात का भोग लगाएं।

स्वयं भी केशरिया, पीले, वासंती या श्वेत परिधान पहनें।

फूलों से मां सरस्वती पूजन स्थल का श्रृंगार करें।

मां शारदा की आरती, सरस्वती मंत्र आदि से आराधना करें।

पीले चावल से ॐ लिखें और उसका भी पूजन करें।


देवी सरस्वती का मंत्र : श्रीं ह्रीं सरस्वत्यै स्वाहा

सरल प्रार्थना :
शारदा माता ईश्वरी, मैं नित सुमरि तोहे, हाथ जोड़ अरजी करूं विद्या वर दे मोहे

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

कंस मामा की 10 खास बातें जानेंगे तो चौंक जाएंगे

कंस मामा की 10 खास बातें जानेंगे तो चौंक जाएंगे
भगवान श्रीकृष्ण के मामा का नाम था कंस। यह कंस न तो राक्षस, न ही असुर और न ही दावव था। सभी ...

अधिक मास में शुद्धता और पवित्रता के साथ करें श्रीहरि विष्णु ...

अधिक मास में शुद्धता और पवित्रता के साथ करें श्रीहरि विष्णु का पूजन
पौराणिक शास्त्रों के अनुसार हर तीसरे साल पुरुषोत्तम यानी अधिक मास की उत्पत्ति होती है। इस ...

पुरुषोत्तम मास शुरू, 13 जून तक नहीं होंगी शादियां

पुरुषोत्तम मास शुरू, 13 जून तक नहीं होंगी शादियां
वर्ष 2018 में 'अधिकमास' 16 मई से 13 जून के मध्य रहेगा। इस वर्ष ज्येष्ठ मास की अधिकता ...

कृष्ण के पुत्र ने जब किया दुर्योधन की पुत्री से प्रेम तो मच ...

कृष्ण के पुत्र ने जब किया दुर्योधन की पुत्री से प्रेम तो मच गया कोहराम
महाभारत में ऐसे कई किस्से हैं जो जनमानस में प्रचलित नहीं है। हो सकता है कि आप इनको जानकर ...

आपने नहीं पढ़ी होगी अधिक मास की यह पौराणिक कथा

आपने नहीं पढ़ी होगी अधिक मास की यह पौराणिक कथा
प्रत्येक राशि, नक्षत्र, करण व चैत्रादि बारह मासों के सभी के स्वामी है, परंतु मलमास का कोई ...

श्रीकृष्ण के अंत का आश्चर्यजनक रहस्य, जानिए किसने मारा ...

श्रीकृष्ण के अंत का आश्चर्यजनक रहस्य, जानिए किसने मारा उन्हें....
जनश्रुति कहती है कि एक दिन श्रीकृष्ण प्रभाव क्षेत्र के वन में एक पीपल के वृक्ष के नीचे ...

क्यों जलाते हैं पूजा में दीपक... जानिए राज

क्यों जलाते हैं पूजा में दीपक... जानिए राज
बिना दीपक पूजा की कल्पना संभव ही नहीं है। लेकिन दीपक क्यों जलाते हैं उसका शास्त्र सम्मत ...

सिर्फ यह फूल ही नहीं बल्कि उसकी पेंटिंग भी करवा सकती है ...

सिर्फ यह फूल ही नहीं बल्कि उसकी पेंटिंग भी करवा सकती है बेटी की शादी
क्या आप जानते हैं कि एक फूल ऐसा भी है जो घर में रखने से बेटी की शादी में आ रही सारी ...

अगर आपको आ रहे हैं यह सपने तो समझो बजने वाली है शहनाई

अगर आपको आ रहे हैं यह सपने तो समझो बजने वाली है शहनाई
शादी के सपने हर युवा मन देखता है। लेकिन कुछ सपने गहरी नींद में आकर संकेत देते हैं शादी ...

विष्णुसहस्रनाम का पाठ पुरुषोत्तम मास में अवश्य पढ़ें, जानिए ...

विष्णुसहस्रनाम का पाठ पुरुषोत्तम मास में अवश्य पढ़ें, जानिए श्रीविष्णु के 1000 नाम
इन दिनों पुरुषोत्तम मास चल रहा है। यह महीना श्रीहरि विष्णुजी की उपासना का माना गया है। इन ...

राशिफल