लेखन और वाणी का मिलेगा वरदान इन 5 विशेष मंत्रों से, वसंत पंचमी पर जरूर पढ़ें

माघ शुक्ल को मनाए जाने वाले त्योहार वसंत पंचमी का महत्व हमारे देश में बहुत ज्यादा है। इस दिन मां सरस्वती के साथ हर भगवान को आम का बौर चढ़ाया जाता है। इस दिन मां शारदा का पूजन-अर्चन तथा मंत्र जाप करने का अनंत गुना फल मिलता है।

1 . श्री सरस्वती-गायत्री मंत्र- ॐ ऐं वाग्दैव्यै विद्महे कामराजाय धीमही तन्नो देवी प्रचोदयात।
प्रयोग- प्रात: 10,000 जप

2 . 'ऐं' इस एकाक्षरी मंत्र को माता सरस्वती का बीज मंत्र कहते हैं। इसके 12 लाख जप करने से सिद्धि मिलती है।

3. अगर आप कवि या लेखक बनना चाहते हैं तो नित्य 100 माला बसंत पंचमी से प्रारंभ कर 1 वर्ष तक करें।
ॐ वद् वद् वाग्वादिनी स्वाहा।

4. अगर आप अपनी कविताओं से प्रतिष्ठा कमाना चाहते हैं तो नित्य 11 माला वसंत पंचमी से प्रारंभ कर 1 वर्ष तक करें। ॐ ऐं ह्रीं सरस्वत्यै नम:।

5. अगर आप कुशल वक्ता बनना चाहते हैं तो ) ॐ ह्रीं श्रीं हूं फट स्वाहा मंत्र की 11
माला नित्य करें। ऐसा करने से व्यक्ति वागीश हो जाता है। वाक् सिद्धि हो जाती है। सरस्वती देवी की मूर्ति या चित्र श्वेत अक्षत पर रख श्वेत पुष्प चढ़ाएं।

भगवान आशुतोष के पूजन का भी बड़ा महत्व है। भगवान शिव को इस दिन कुमकुम, हल्दी भी चढ़ाई जाती है तथा आम का मौर चढ़ाया जाता है।

स्फटिक के शिवलिंग या पारे के शिवलिंग पर दूध से अभिषेक कर शिव षडाक्षरी मंत्र 'ॐ नम: शिवाय' जपने से मेधा वृद्धि होती है। रुद्राक्ष की माला तथा ऊनी आसन पूर्वाभिमुख रखते हुए पूजन तथा जप करें।

ॐ त्र्यम्बकम् यजामहे, सुगन्धिं पुष्टि वर्धनम्।
उर्वारु‍कमिव बन्धनात् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्।।

दश महाविद्या में नील सरस्वती का पूजन भी इस दिन होता है। यह मंत्र भी वाणी और लेखनी का आशीष प्रदान करते हैं।

(1) ह्रीं त्रीं हूं।
(2) ॐ ह्रीं श्रीं हूं फट स्वाहा।
(3) ॐ नम: पद्मासने शब्द रूपे ऐं ह्रीं क्लीं वद् वद् वाग्वादिनी स्वाहा।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

कंस मामा की 10 खास बातें जानेंगे तो चौंक जाएंगे

कंस मामा की 10 खास बातें जानेंगे तो चौंक जाएंगे
भगवान श्रीकृष्ण के मामा का नाम था कंस। यह कंस न तो राक्षस, न ही असुर और न ही दावव था। सभी ...

अधिक मास में शुद्धता और पवित्रता के साथ करें श्रीहरि विष्णु ...

अधिक मास में शुद्धता और पवित्रता के साथ करें श्रीहरि विष्णु का पूजन
पौराणिक शास्त्रों के अनुसार हर तीसरे साल पुरुषोत्तम यानी अधिक मास की उत्पत्ति होती है। इस ...

पुरुषोत्तम मास शुरू, 13 जून तक नहीं होंगी शादियां

पुरुषोत्तम मास शुरू, 13 जून तक नहीं होंगी शादियां
वर्ष 2018 में 'अधिकमास' 16 मई से 13 जून के मध्य रहेगा। इस वर्ष ज्येष्ठ मास की अधिकता ...

कृष्ण के पुत्र ने जब किया दुर्योधन की पुत्री से प्रेम तो मच ...

कृष्ण के पुत्र ने जब किया दुर्योधन की पुत्री से प्रेम तो मच गया कोहराम
महाभारत में ऐसे कई किस्से हैं जो जनमानस में प्रचलित नहीं है। हो सकता है कि आप इनको जानकर ...

आपने नहीं पढ़ी होगी अधिक मास की यह पौराणिक कथा

आपने नहीं पढ़ी होगी अधिक मास की यह पौराणिक कथा
प्रत्येक राशि, नक्षत्र, करण व चैत्रादि बारह मासों के सभी के स्वामी है, परंतु मलमास का कोई ...

क्या आप जानते हैं सनातन परंपरा के यह 16 संस्कार

क्या आप जानते हैं सनातन परंपरा के यह 16 संस्कार
व्यास स्मृति में सोलह संस्कारों का वर्णन हुआ है। हमारे धर्मशास्त्रों में भी मुख्य रूप से ...

ज्योतिष की एक अनूठी शैली नंदी नाड़ी, पढ़ें क्या हैं ...

ज्योतिष की एक अनूठी शैली नंदी नाड़ी, पढ़ें क्या हैं विशेषताएं
भगवान शंकर के गण नंदी द्वारा जिस ज्योतिष विधा को जन्म दिया गया उसे नंदी नाड़ी ज्योतिष के ...

ग्रह कैसे असर डालते हैं हम पर, आइए पढ़ें रोचक जानकारी

ग्रह कैसे असर डालते हैं हम पर, आइए पढ़ें रोचक जानकारी
दूर बैठे ग्रह नक्षत्र कैसे मानव जीवन पर प्रभाव डाल सकते हैं? अक्सर यह सवाल मनुष्य के ...

भारत में हुआ है ज्योतिष का उदय, जानिए ज्योतिष के 10 महान ...

भारत में हुआ है ज्योतिष का उदय, जानिए ज्योतिष के 10 महान ग्रंथ
ज्योतिष का उदय भारत में हुआ, क्योंकि भारतीय ज्योतिष शास्त्र की पृष्ठभूमि 8000 वर्षों से ...

भगवान सूर्यदेव की 10 बातें जो आप नहीं जानते...

भगवान सूर्यदेव की 10 बातें जो आप नहीं जानते...
सूर्यस्वरूप सृष्टि में सबसे पहले प्रकट हुआ इसलिए इसका नाम आदित्य पड़ा।

राशिफल