आप बन्दा नवाज़ क्या जानें

WD|
मेरे दिल को किया बेख़ुद तेरी अंखयाँ ने आख़िर कूँ
के जूँ बेहोश करती है शराब आहिस्ता आहिस्ता ----------वली

याद करना हर घड़ी उस यार का
है वज़ीफ़ा मुझ द्लि-ए-बीमार का---------वली

हमारे आगे तेरा जब कसू ने नाम लिया
दिल-ए-सितमज़दा को हमने थाम थाम लिया-------

उलटी हो गईं सब तदबीरें कुछ न दवा ने काम कियादेखा इस बीमारिए-दिल ने आख़िर काम तमाम किया--------मीर

मीर उन नीम बाज़ आँखों में
सारी मस्ती शराब की सी है ----मीर

तर दामनी पे शेख़ हमारी न जाइयो
दामन निचोड़ दें तो फ़रिश्ते वज़ू करें ---------दर्द

चारों तरफ़ से सूरत-ए-जानाँ हो जलवागर दिल साफ़ हो तेरा तो है आईनाख़ाना क्या------आतिश

मेरी तरह से महो-मेह्र* भी हैं आवारा ------- * ( चाँद-सूरज)
किसी हबीब की ये भी हैं जुस्तुजू करते-----आतिश

मौत का एक दिन मोअय्यन*है----------*निर्धारित
नींद क्यों रात भर नहीं आती --------ग़ालिब

काबा किस मुँह से जाओगे ग़ालिब शर्म तुमको मगर नहीं आती-----------ग़ालिब

तुम हमारे किसी तरह न हुए
वरना दुनिया में क्या नहीं होता--------

तुम मेरे पास होते हो गोया
जब कोई दूसरा नहीं होता------मोमिन
वो जो हममें तुममें क़रार था, तुम्हें याद हो के न याद हो
वही यानी वादा निबाह का, तुम्हें याद हो के न याद हो --------मोमिन

दाग़ को कौन देने वाला था
जो दिया ऎ ख़ुदा दिया तूने --------दाग़

जो गुज़रते हैं दाग़ पर सदमे
आप बन्दा नवाज़ क्या जानें ---------दाग़

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :