मुनव्‍वर राना

प्रसिद्ध शायर मुनव्वर राना से अज़ीज़ अंसारी की अंतरंग बातचीत

शायरी की शौकीन इंदौर की जनता को मुनव्वर राना की शायरी इतनी पसंद है कि वह मीलों दूर जाकर रात भर जागकर उन्हें सुनती हैं। मुनव्वर राना भी अपने इन चाहने वालों से प्यार करते हैं, उन्हें अपने ताज़ा और नए शेर सुनाते हैं और उनकी फरमाइशों को भी पूरा करते हैं।


आज की शायरी में मानवता के विभिन्न कोणों को बड़ी सूझ-बूझ के साथ चित्रित किया जाता है। प्रेम-प्रसंगों के साथ ही आर्थिक पहलू को भी सामने रखा जाता है। उसे अनदेखा नहीं किया जाता है। इसलिए आज शायरी लोगों को उनकी अपनी शायरी दिखाई देती है। वह उन्हें जुबानी याद हो जाती है। लोग उससे स्वयं भी आनंदित होते हैं और दूसरों को सुनाकर उन्हें भी खुश कर देते हैं। शायरी में यह टर्निंग प्वाइंट आया शायद शाद आरफी और यगाना चंगेजी जैसे शायरों से

- शायरी में भाषा का उपयोग शब्दों के चुनाव के बारे में कुछ बताइए ?
- देखिए, शायरी के शब्द हैं बनाव-श्रृंगार की वस्तुओं के समान जैसे बिंदिया, लिप्‍स्टिक, कंघा, परफ्यूम, पावडर, इत्यादि, जो किसी नौजवान सुंदर स्त्री के ड्रेसिंग टेबल पर सजे रहते हैं। शायरी की विषयवस्तु होती है, उस स्त्री के वस्त्र, जिन्हें वह अपनी रुचि, अपने मूड और मौसम के स्वभाव को देखते हुए चुनती है- शायरी की भाषा और शब्दों के इस सुंदर उपयोग को बताया और समझाया है, प्रसिद्ध शायर नज़ीर अकबराबादी ने।

उन्होंने अपनी शायरी की भाषा को इतना आसान और सरल बनाया कि लोग उन्हें हिन्दवी शायर कहने लगे। धीरे-धीरे उनकी लोकप्रियता इतनी बढ़ी कि दूसरे शायरों ने भी उनकी शैली को अपनाना प्रारंभ कर दिया। कठिन भाषा और बड़े-बड़े भारी शब्दों ने सदैव ही साहित्य को हानि पहुँचाई है। आज यह समझा जाने लगा है कि अच्छा शेर वही है, जिसकी भाषा इतनी सरल हो कि उसका अनुवाद ही न किया जा सके। शायरी में भाषा की यह सरलता भारत से ही होती हुई पाकिस्तान तक पहुँच गई है। दो शेर देखिए, एक भारतीय शायर का है और दूसरा पाकिस्तानी शायर का-

कृष्ण होते तो ज़रूर इनको ज़ुबाँ दे देते,मेरे आँसू है सुदामा के सवालों की तरह
- वसी सीतापुरीं

क्यूँ हवा आके उड़ा देती है आँचल मेरा,यूँ सताने की तो आदत मेरे घनश्याम की थी
WD|
शायरी की शौकीन इंदौर की जनता को मुनव्वर राना की शायरी इतनी पसंद है कि वह मीलों दूर जाकर रात भर जागकर उन्हें सुनती हैं। मुनव्वर राना भी अपने इन चाहने वालों से प्यार करते हैं, उन्हें अपने ताज़ा और नए शेर सुनाते हैं और उनकी फरमाइशों को भी पूरा करते हैं। इंदौर में मुशायरे और कवि सम्मेलन होते ही रहते हैं। देश के कोने-कोने से शायर और कवि यहाँ आते हैं। इंदौरवासियों को इनमें जो सबसे अधिक पसंद है, वह है मुनव्वर राना-
- राना साहब आपने इंदौरवासियों पर ऐसा कौन-सा जादू कर दिया है कि वह रात भर जाग कर आपके शे'र सुनना और उनका आनंद लेना चाहते हैं?- जादू वाली तो कोई बात नहीं है। हाँ, मेरी गज़लों की विषयवस्तु शायद उनसे और उनके जीवन से जुड़ी होती हैं और फिर मेरी शायरी की भाषा भी एकदम सरल और आसान होती है, जिससे मैं उनके दिलों को गुदगुदाने में कामयाब हो जाता हूँ- पुरानी शायरी और वर्तमान शायरी में आप क्या अंतर देखते हैं ?- देखिए, पुरानी शायरी में अधिकतर प्यार-मोहब्बत, शराब, शबाब की बातें हुआ करती थीं - औरत के एक-एक अंग का बखान (नाखून, अंगुली, हथेली, हाथ, कमर, पाँव, बाजू, सीना, आँख, नाक, कान, गरदन, भवें, पेशानी, बाल इत्यादि) किया जाता था। परंतु आज की शायरी इस बकवास से दूर निकल आई है। अब उसने कच्चे गोश्त की इस दुकान को सदा के लिए बंद कर दिया है।
- परवीन शाकिर (पाकिस्तान)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :