जेटली पर आम लोगों को खुश करने का दबाव

नई दिल्ली| पुनः संशोधित रविवार, 21 जनवरी 2018 (12:03 IST)
नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली वर्ष 2019 में होने वाले आम चुनाव से पहले अपना अंतिम पूर्ण पेश करने की तैयारी कर रहे हैं जिसमें उन पर अर्थव्यवस्था को गति देने के उपायों के साथ ही राजनीतिक जरूरतों के मद्देनजर आम लोगों को खुश करने का दबाव भी होगा।
नोटबंदी के बाद अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती पर वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लागू होने से भी दबाव बना है। सरकार ने जीएसटी दरों को लगातार तर्कसंगत बनाकर विनिर्माण क्षेत्र पर बने दबाव को काफी हद तक कम करने की कोशिश की है। इससे आर्थिक गतिविधियों के संकेतक पहले की तुलना में सुधरने लगे हैं।

आम चुनाव से पहले के इस पूर्ण बजट में मतदाताओं विशेषकर आम लोगों और नौकरीपेशा लोगों को खुश करने पर विशेष ध्यान दिया जा सकता है।
वेतनभोगियों के लिए कर मुक्त आय की सीमा ढाई लाख रुपए से बढ़ाकर साढ़े तीन लाख रुपए तक किए जाने का अनुमान है। इसके साथ ही आयकर कानून की धारा 80सी के तहत मिल रही छूट की सीमा को बढ़ाए जाने की संभावना जताई जा रही है क्योंकि पिछले कुछ वर्षों में सार्थक बढ़ोतरी नहीं हुई है। इसके साथ ही कई संगठनों ने भी सरकार से इस छूट को डेढ़ लाख रुपए से बढ़ाकर दो लाख रुपए करने की मांग की है।

इसके अतिरिक्त वित्त मंत्री धारा 80डी के तहत भी छूट की सीमा को 80 हजार रुपए से बढ़ाकर एक लाख रुपए कर सकते हैं क्योंकि बीमा कंपनियों ने देश में चिकित्सा बीमा कवरेज को बढ़ाने के लिए यह मांग की है। अभी इस धारा के तहत एक व्यक्ति को अधिकतम 55 हजार रुपए की छूट मिल सकती है जिसमें 25 हजार रुपए स्वयं के लिए और 30 हजार रुपए वृद्ध माता-पिता के चिकित्सा बीमा के लिए है।
इसी तरह से वरिष्ठ नागरिक यदि स्वयं का चिकित्सा बीमा कराते हैं तो उन्हें यह 60 हजार रुपए तक छूट मिल सकती है। तीस हजार रुपए स्वयं के लिए और 30 हजार रुपए माता-पिता के बीमा के लिए। वर्तमान प्रावधानों के तहत अभी प्रति वर्ष 15 हजार रुपए चिकित्सा भुगतान कर मुक्त है। यह सीमा कई वर्ष पहले तय की गई थी और तब से चिकित्सा सेवाएं काफी महंगी हो चुकी है। इसके मद्देजनर इस वर्ष इस छूट को बढ़ाकर 25 हजार रुपए किए जाने का अनुमान है।

कर विश्लेषकों का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पूंजी बाजार से अर्जित लाभ में से कुछ राशि राष्ट्र निर्माण में लगाए जाने का बयान दिए जाने के मद्देनजर यह अनुमान लगाया जा रहा है कि वर्ष 2018-19 के बजट में आयकर कानून की धारा 10 (38) के तहत शेयरों की खरीद-बिक्री पर दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर कर से मिल रही छूट समाप्त की जा सकती है। यदि इसे नहीं समाप्त किया जाता है तो पूंजीगत लाभ पर कर मुक्त निवेश की सीमा एक साल से बढ़ाकर दो साल की जा सकती है।
वर्तमान प्रावधानों के तहत कंपनियों को लाभांश वितरण पर कर का भुगतान करना पड़ता है। अगले बजट में इसमें भी बदलाव किया जा सकता है और लाभांश पर कर का बोझ प्राप्तकर्ता पड़ डाला जा सकता है।

जीएसटी लागू होने के साथ ही बजट से वस्तुओं के सस्ता महंगा होने की कहानी भी समाप्त हो गई है क्योंकि किस वस्तु पर कर की दर तय करने का काम जीएसटी परिषद के जिम्मे चला गया है। वित्त मंत्री इस परिषद् के अध्यक्ष हैं और देश के सभी राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों के वित्त मंत्री इसके सदस्य हैं।
आयातित वस्तुओं पर लगने वाला सीमा शुल्क सरकार तय कर रही है। इन पर सीमा शुल्क में घटबढ़ होने पर ये वस्तुयें महंगी या सस्ती हो सकती हैं।

सरकार वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के साथ ही सभी लोगों को घर देने के महत्वाकांक्षी लक्ष्य के साथ काम कर रही है। इस वर्ष के बजट में इनके लिए भी कुछ राहत की उम्मीद की जा रही है क्योंकि कृषि गतिविधियों से
ग्रामीण क्षेत्रों में मांग घटती बढ़ती है। वृहद अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए ग्रामीण अर्थव्यवस्था में तेजी लानी जरूरी है। इसके मद्देनजर वित्त मंत्री इस पर कुछ विशेष ध्यान दे सकते हैं क्योंकि आम चुनाव से पहले यह उनका अंतिम पूर्ण बजट है। इसके साथ ही गरीबों के लिए भी कुछ लोकलुभावन घोषणाएं हो सकती हैं।
इसी तरह से वर्ष 2022 तक सबको घर देने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए घर खरीदने वालों को आवास ऋण ब्याज पर मिल रही छूट बढ़ सकती है ताकि अधिक से अधिक लोग मकान खरीदने के लिए आकर्षित हो सकें। इससे न सिर्फ सबको घर दिलाने का लक्ष्य हासिल करने में मदद मिलेगी बल्कि रियलटी उद्योग में तेजी आने से सीमेंट तथा स्टील के साथ ही कई अन्य उद्योगों को भी गति मिलेगी। अंतत: अर्थव्यवस्था को गति देने और रोजगार के अवसर सृजित करने में मदद मिलेगी।
विश्लेषकों का कहना है कि वित्त मंत्री आम लोगों को खुश करने के लिए बजट में क्या करते हैं यह देखने वाला होगा क्योंकि मोदी सरकार स्वयं को गरीबों की सरकार कहती है और आम चुनाव से पहले उनके लिए सरकारी खजाना खोला जाना कोई नई बात नहीं है। आम चुनाव से पहले सरकार कर रियायतों के साथ ही कई तरह की घोषणाएं करती है और इस वर्ष के बजट में भी इसी तरह की घोषणाओं की उम्मीद की जा रही है। (वार्ता)


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी से जुड़ी कुछ खास यादें, बच्चों के साथ खेलते थे, सबका ...

अटल जी से जुड़ी कुछ खास यादें, बच्चों के साथ खेलते थे, सबका नाम याद रखते थे
अटल जी ने भले ही मध्यप्रदेश के ग्वालियर में जन्म लिया लेकिन वह उत्तरप्रदेश के लखनऊवासियों ...

फिल्मों में फुफकारते ना‍ग-नागिन

फिल्मों में फुफकारते ना‍ग-नागिन
बॉलीवुड में ‘नागिन’ की कामयाबी के बाद इस तरह की फिल्मों की बाढ़ आ गई और शेषनाग (1957), ...

राहुल ने उड़ाया था मजाक, ये हैं नाले की गैस से चाय बनाने ...

राहुल ने उड़ाया था मजाक, ये हैं नाले की गैस से चाय बनाने वाले शख्स, मोदी ने सुनाई थी कहानी
हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक कार्यक्रम में एक शख्स को नाले से निकली गैस का ...

BSNL का धमाकेदार प्लान, सिर्फ 9 रुपए में अनलिमिटेड कॉलिंग ...

BSNL का धमाकेदार प्लान, सिर्फ 9 रुपए में अनलिमिटेड कॉलिंग और 2 जीबी डेटा
भारत संचार निगम लिमिटेड ने (BSNL) ने 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर फ्रीडम पैक लांच ...

गूगल आपकी हर गतिविधि पर रखता है खुफिया नजर

गूगल आपकी हर गतिविधि पर रखता है खुफिया नजर
सैन फ्रांसिस्को। आप चाहें या न चाहें लेकिन दिग्गज सर्च इंजन कंपनी गूगल आपकी हर गतिविधि पर ...

राजनीति और साहित्य के अनूठे संगम

राजनीति और साहित्य के अनूठे संगम
एक तरफ राजनीति की रपटीली राह तो दूसरी तरफ साहित्य का सहज पथ, दोनों पर एक साथ संतुलन साधना ...

चीनी सेना की डिजिटल लड़ाकू इकाई का लाइव फायर अभ्यास

चीनी सेना की डिजिटल लड़ाकू इकाई का लाइव फायर अभ्यास
बीजिंग। चीन की सेना की डिजिटल लड़ाकू इकाई ने किंगहई-तिब्बत पठार पर शुक्रवार को लाइव फायर ...

अटलजी की अस्थियां 19 अगस्त को देश की पवित्र नदियों में ...

अटलजी की अस्थियां 19 अगस्त को देश की पवित्र नदियों में विसर्जित की जाएंगी
नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पार्थिव देह शुक्रवार शाम राजकीय ...

वाजपेयी मूल रूप से लोकतंत्रवादी थे

वाजपेयी मूल रूप से लोकतंत्रवादी थे
भाजपा के सभी नेताओं में वे सिर्फ अटल बिहारी वाजपेयी ही थे, जो भारत का इसके विविध रूपों ...

दुनियाभर के नेताओं ने अटलजी के निधन पर दु:ख जताया

दुनियाभर के नेताओं ने अटलजी के निधन पर दु:ख जताया
वॉशिंगटन/ मॉस्को। अमेरिका और रूस समेत कई देशों के नेताओं ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी ...

नए फीचर्स के साथ फिर आएगा पतंजलि का किम्भो एप, ट्रायल वर्जन ...

नए फीचर्स के साथ फिर आएगा पतंजलि का किम्भो एप, ट्रायल वर्जन ने मचाया था धमाल
नई दिल्ली। योगगुरु बाबा रामदेव के नेतृत्व वाली पतंजलि आयुर्वेद अपने मैसेजिंग एप 'किम्भो' ...

बड़ी खबर, 16 अगस्त से फ्लैश सेल में मिलेगा जियो फोन 2

बड़ी खबर, 16 अगस्त से फ्लैश सेल में मिलेगा जियो फोन 2
मोबाइलप्रेमियों के लिए इस स्वतंत्रता दिवस पर जियो एक बार फिर धमाकेदार तोहफा देने को तैयार ...

सिर्फ 7900 में ले सकते हैं Samsung Galaxy Note 9, और भी ...

सिर्फ 7900 में ले सकते हैं Samsung Galaxy Note 9, और भी धमाकेदार ऑफर
सैमसंग भारत के साथ ही दुनिया भर में अपने फ्लैगशिप फोन Samsung Galaxy Note 9 को लिया है। ...

Sumsung galaxy note 9 और Iphone X, कौनसा स्मार्ट फोन आपके ...

Sumsung galaxy note 9 और Iphone X, कौनसा स्मार्ट फोन आपके लिए है बेहतर
सैमसंग फ्लैगशिप डिवाइस Sumsung galaxy note 9 को लॉन्च दिया है। स्मार्टफोन इंफिनिटी एड्ड ...

लांच होने से पहले ही Galaxy Note 9 के फीचर्स हुए लीक

लांच होने से पहले ही Galaxy Note 9 के फीचर्स हुए लीक
सैमसंग Galaxy Note 9 लांच करने जा रही है। लांच होने से पहले ही इसके कुछ फीचर्स लीक हो गए। ...