जेटली पर आम लोगों को खुश करने का दबाव

नई दिल्ली| पुनः संशोधित रविवार, 21 जनवरी 2018 (12:03 IST)
नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली वर्ष 2019 में होने वाले आम चुनाव से पहले अपना अंतिम पूर्ण पेश करने की तैयारी कर रहे हैं जिसमें उन पर अर्थव्यवस्था को गति देने के उपायों के साथ ही राजनीतिक जरूरतों के मद्देनजर आम लोगों को खुश करने का दबाव भी होगा।
नोटबंदी के बाद अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती पर वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के लागू होने से भी दबाव बना है। सरकार ने जीएसटी दरों को लगातार तर्कसंगत बनाकर विनिर्माण क्षेत्र पर बने दबाव को काफी हद तक कम करने की कोशिश की है। इससे आर्थिक गतिविधियों के संकेतक पहले की तुलना में सुधरने लगे हैं।

आम चुनाव से पहले के इस पूर्ण बजट में मतदाताओं विशेषकर आम लोगों और नौकरीपेशा लोगों को खुश करने पर विशेष ध्यान दिया जा सकता है।
वेतनभोगियों के लिए कर मुक्त आय की सीमा ढाई लाख रुपए से बढ़ाकर साढ़े तीन लाख रुपए तक किए जाने का अनुमान है। इसके साथ ही आयकर कानून की धारा 80सी के तहत मिल रही छूट की सीमा को बढ़ाए जाने की संभावना जताई जा रही है क्योंकि पिछले कुछ वर्षों में सार्थक बढ़ोतरी नहीं हुई है। इसके साथ ही कई संगठनों ने भी सरकार से इस छूट को डेढ़ लाख रुपए से बढ़ाकर दो लाख रुपए करने की मांग की है।

इसके अतिरिक्त वित्त मंत्री धारा 80डी के तहत भी छूट की सीमा को 80 हजार रुपए से बढ़ाकर एक लाख रुपए कर सकते हैं क्योंकि बीमा कंपनियों ने देश में चिकित्सा बीमा कवरेज को बढ़ाने के लिए यह मांग की है। अभी इस धारा के तहत एक व्यक्ति को अधिकतम 55 हजार रुपए की छूट मिल सकती है जिसमें 25 हजार रुपए स्वयं के लिए और 30 हजार रुपए वृद्ध माता-पिता के चिकित्सा बीमा के लिए है।
इसी तरह से वरिष्ठ नागरिक यदि स्वयं का चिकित्सा बीमा कराते हैं तो उन्हें यह 60 हजार रुपए तक छूट मिल सकती है। तीस हजार रुपए स्वयं के लिए और 30 हजार रुपए माता-पिता के बीमा के लिए। वर्तमान प्रावधानों के तहत अभी प्रति वर्ष 15 हजार रुपए चिकित्सा भुगतान कर मुक्त है। यह सीमा कई वर्ष पहले तय की गई थी और तब से चिकित्सा सेवाएं काफी महंगी हो चुकी है। इसके मद्देजनर इस वर्ष इस छूट को बढ़ाकर 25 हजार रुपए किए जाने का अनुमान है।

कर विश्लेषकों का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पूंजी बाजार से अर्जित लाभ में से कुछ राशि राष्ट्र निर्माण में लगाए जाने का बयान दिए जाने के मद्देनजर यह अनुमान लगाया जा रहा है कि वर्ष 2018-19 के बजट में आयकर कानून की धारा 10 (38) के तहत शेयरों की खरीद-बिक्री पर दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ पर कर से मिल रही छूट समाप्त की जा सकती है। यदि इसे नहीं समाप्त किया जाता है तो पूंजीगत लाभ पर कर मुक्त निवेश की सीमा एक साल से बढ़ाकर दो साल की जा सकती है।
वर्तमान प्रावधानों के तहत कंपनियों को लाभांश वितरण पर कर का भुगतान करना पड़ता है। अगले बजट में इसमें भी बदलाव किया जा सकता है और लाभांश पर कर का बोझ प्राप्तकर्ता पड़ डाला जा सकता है।

जीएसटी लागू होने के साथ ही बजट से वस्तुओं के सस्ता महंगा होने की कहानी भी समाप्त हो गई है क्योंकि किस वस्तु पर कर की दर तय करने का काम जीएसटी परिषद के जिम्मे चला गया है। वित्त मंत्री इस परिषद् के अध्यक्ष हैं और देश के सभी राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों के वित्त मंत्री इसके सदस्य हैं।
आयातित वस्तुओं पर लगने वाला सीमा शुल्क सरकार तय कर रही है। इन पर सीमा शुल्क में घटबढ़ होने पर ये वस्तुयें महंगी या सस्ती हो सकती हैं।

सरकार वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के साथ ही सभी लोगों को घर देने के महत्वाकांक्षी लक्ष्य के साथ काम कर रही है। इस वर्ष के बजट में इनके लिए भी कुछ राहत की उम्मीद की जा रही है क्योंकि कृषि गतिविधियों से
ग्रामीण क्षेत्रों में मांग घटती बढ़ती है। वृहद अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए ग्रामीण अर्थव्यवस्था में तेजी लानी जरूरी है। इसके मद्देनजर वित्त मंत्री इस पर कुछ विशेष ध्यान दे सकते हैं क्योंकि आम चुनाव से पहले यह उनका अंतिम पूर्ण बजट है। इसके साथ ही गरीबों के लिए भी कुछ लोकलुभावन घोषणाएं हो सकती हैं।
इसी तरह से वर्ष 2022 तक सबको घर देने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए घर खरीदने वालों को आवास ऋण ब्याज पर मिल रही छूट बढ़ सकती है ताकि अधिक से अधिक लोग मकान खरीदने के लिए आकर्षित हो सकें। इससे न सिर्फ सबको घर दिलाने का लक्ष्य हासिल करने में मदद मिलेगी बल्कि रियलटी उद्योग में तेजी आने से सीमेंट तथा स्टील के साथ ही कई अन्य उद्योगों को भी गति मिलेगी। अंतत: अर्थव्यवस्था को गति देने और रोजगार के अवसर सृजित करने में मदद मिलेगी।
विश्लेषकों का कहना है कि वित्त मंत्री आम लोगों को खुश करने के लिए बजट में क्या करते हैं यह देखने वाला होगा क्योंकि मोदी सरकार स्वयं को गरीबों की सरकार कहती है और आम चुनाव से पहले उनके लिए सरकारी खजाना खोला जाना कोई नई बात नहीं है। आम चुनाव से पहले सरकार कर रियायतों के साथ ही कई तरह की घोषणाएं करती है और इस वर्ष के बजट में भी इसी तरह की घोषणाओं की उम्मीद की जा रही है। (वार्ता)


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बुजुर्गों और बीमारों को सरकार ने दी बड़ी राहत, अब जरूरी नहीं ...

बुजुर्गों और बीमारों को सरकार ने दी बड़ी राहत, अब जरूरी नहीं आधार
आधार को लेकर आ रही परेशानियों पर सरकार ने कुछ श्रेणियों को पहचान संबंधी अनिवार्यता के ...

जब वैश्या के एक दोहे ने बदल दिया 5 लोगों का जीवन, पढ़ें ...

जब वैश्या के एक दोहे ने बदल दिया 5 लोगों का जीवन, पढ़ें प्रेरक कथा
एक राजा ने अपने दरबार में एक उत्सव रखा... उत्सव को मनोरंजक बनाने के लिए राज्य की ...

अधिक मास आरंभ, यह 15 चीजें करें दान, हर समस्या का होगा ...

अधिक मास आरंभ, यह 15 चीजें करें दान, हर समस्या का होगा समाधान
नाम से ही स्पष्ट है कि इस माह जो भी दान करेंगे उसका अधिक पुण्य फल प्राप्त होगा। आइए जानें ...

खतरे में हैं खजुराहो का मतंगेश्वर महादेव मंदिर, 10वीं सदी ...

खतरे में हैं खजुराहो का मतंगेश्वर महादेव मंदिर, 10वीं सदी के प्राचीन मंदिर अब भगवान भरोसे..
मध्यप्रदेश के प्रख्यात पर्यटक स्थल और विश्वप्रसिद्ध खजुराहो के मंदिरों की दुर्दशा पर ...

'पति पिटाई' में इंदौर हुआ नंबर 1, एमपी में सबसे ज्यादा ...

'पति पिटाई' में इंदौर हुआ नंबर 1, एमपी में सबसे ज्यादा पिटते हैं पति...
जमाना बदल गया है, भारत में पुरुष प्रधान समाज में महिलाओं के साथ मारपीट के मामले अधिक आते ...

इग्नू में जुलाई 2018 सत्र के लिए प्रवेश प्रक्रिया शुरू, ...

इग्नू में जुलाई 2018 सत्र के लिए प्रवेश प्रक्रिया शुरू, ऑनलाइन प्रवेश फॉर्म जमा करने की अंतिम तारीख 15 जुलाई
नई दिल्ली। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) ने जुलाई 2018 शैक्षणिक सत्र ...

मौसम का ताजा अपडेट : पूर्वी और उत्तरी राज्यों में आंधी ...

मौसम का ताजा अपडेट : पूर्वी और उत्तरी राज्यों में आंधी तूफान की आशंका
नई दिल्ली। मौसम विभाग ने पश्चिमी विक्षोभ के कारण बिहार सहित अन्य पूर्वी राज्यों तथा उत्तर ...

वैज्ञानिकों ने बनाया पानी के अंदर काम करने में सक्षम थ्रीडी ...

वैज्ञानिकों ने बनाया पानी के अंदर काम करने में सक्षम थ्रीडी प्रिंटेट स्मार्ट जेल
वॉशिंगटन। वैज्ञानिकों ने एक ऐसा थ्रीडी प्रिंटेट स्मार्ट जेल तैयार किया है, जो पानी के ...

रोबोटिक प्रणाली से बना दुनिया का सबसे छोटा घर

रोबोटिक प्रणाली से बना दुनिया का सबसे छोटा घर
लंदन। वैज्ञानिकों ने रोबोटिक प्रणाली का इस्तेमाल कर दुनिया के सबसे छोटे घर का निर्माण ...

ट्रंप ने ट्वीट में पत्नी के नाम की स्पेलिंग गलत लिखी, बाद ...

ट्रंप ने ट्वीट में पत्नी के नाम की स्पेलिंग गलत लिखी, बाद में सुधारकर रिट्वीट किया
वॉशिंगटन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अक्सर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहते ...

भारत में कॉलेज में पढ़ने वाले छात्र एक दिन में 150 से ...

भारत में कॉलेज में पढ़ने वाले छात्र एक दिन में 150 से ज्यादा बार देखते हैं मोबाइल
नई दिल्ली। भारत में कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र 1 दिन में औसतन 150 से ज्यादा बार अपना ...

खत्म हुआ इंतजार , OnePlus 6 लांच, iphone X को देगा टक्कर

खत्म हुआ इंतजार  , OnePlus 6 लांच, iphone X को देगा टक्कर
वन प्लस ने अपने नए स्मार्ट फोन OnePlus 6 को लांच कर दिया है। इसका बेसब्री से इंतजार किया ...

इस सस्ते मोबाइल में भी कर सकेंगे फेस अनलॉक

इस सस्ते मोबाइल में भी कर सकेंगे फेस अनलॉक
चीनी फोन निर्माता कंपनी Xiaomi ने Xiaomi Redmi S2 को लांच कर दिया है। सेल्फी और वीडियो ...

OnePlus 6 : आ रहा धमाकेदार फोन, लांच से पहले फीचर्स का ...

OnePlus 6 : आ रहा धमाकेदार फोन, लांच से पहले फीचर्स का खुलासा
OnePlus 6 16 मई को लांच हो रहा है। लांच की पहले इसकी चर्चाएं होने लगी हैं। इसके फीचर्स को ...

इतना सस्ता मिल रहा है ड्‍यूल सेल्फी कैमरा फोन, जानिए फीचर्स

इतना सस्ता मिल रहा है ड्‍यूल सेल्फी कैमरा फोन, जानिए फीचर्स
Coolpad Note 6 भारत में बिक्री के लिए तैयार है। कंपनी ने इसे दो स्टोरेज में उतारा है। ...