चौतरफा बिकवाली के दबाव में लुढ़के शेयर बाजार

पुनः संशोधित सोमवार, 16 जुलाई 2018 (17:38 IST)
मुम्बई। अधिकतर एशियाई बाजारों के गिरावट में रहने की खबरों के बीच थोक महंगाई के साढे़ चार साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचने के आंकड़े से हतोत्साहित निवेशकों की बिकवाली से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सोमवार को 217.86 अंक की गिरावट में 36,323.77 अंक पर बंद हुआ।

एनएसई का निफ्टी भी 82.05 अंक का गोता लगाता हुआ 11,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर के नीचे 10,936.85 अंक पर रहा। मजबूती में 36,658.71 अंक पर खुला सेंसेक्स पूरे दिन दबाव में रहा। कारोबार के दौरान यही इसका दिवस का उच्चतम स्तर भी रहा। आपूर्ति बाधा हल होने के अनुमान और रूस सहित अन्य तेल उत्पादक देशों द्वारा आपूर्ति बढाने की संभावना से अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट आई, जिससे ऊर्जा कंपनियों और तेल एवं गैस क्षेत्र की कंपनियों के शेयर लुढ़क गए।

बाजार पर आईडीबीआई बैंक की 51 फीसदी हिस्सेदारी एलआईसी द्वारा खरीदे जाने की ख्रबर और थोक महंगाई दर के साढ़े चार साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचने से कारोबार धारणा कमजोर रही। कारोबार के दौरान सेंसेक्स 36,298.94 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.60 प्रतिशत की गिरावट में 36,323.77 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स की 30 में से 10 कंपनियां हरे निशान में रहीं। बीएसई के 20 समूहों में मात्र आईटी और टेक समूह के सूचकांक में बढ़त देखी गई। पेट्रोल-डीजल और रसोई गैस के साथ ही धातुओं तथा सब्जियों की कीमतों में बड़ी तेजी के कारण इस साल जून में थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति की दर लगातार तीसरे महीने बड़ी छलांग लगाते हुए साढ़े चार साल के उच्चतम स्तर 5.77 प्रतिशत पर पहुंच गई।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, इस साल मई में थोक महंगाई दर 4.43 प्रतिशत रही थी। पिछले साल जून में यह 0.90 प्रतिशत दर्ज की गई थी। इस साल मार्च में 2.74 प्रतिशत रहने वाली थोक महंगाई तीन महीने में तीन प्रतिशत से ज्यादा बढ़ चुकी है। निफ्टी की शुरूआत सपाट रही। यह गत दिवस के बंद भाव 11,018.95 अंक पर खुला।

कोराबार के दौरान 11,019.50 अंक के दिवस के उच्चतम और 10,926.25 अंक के दिवस के निचले स्तर को छूता हुआ यह गत दिवस की तुलना में 0.74 प्रतिशत की गिरावट में 10,936.85 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 35 कंपनियां लाल निशान में और शेष 15 हरे निशान में रहीं। दिग्गज कंपनियों की अपेक्षा छोटी और मझोली कंपनियों में अधिक बिकवाली हुई।

बीएसई का मिडकैप 2.45 प्रतिशत यानी 377.70 अंक की गिरावट में 15,053.77 अंक पर और स्मॉलकैप 2.51 प्रतिशत यानी 406.33 अंक की गिरावट में 15,790.00 अंक पर बंद हुआ। बीएसई में कुल 2,777 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 2,051 में तेजी और 547 में गिरावट रहीं जबकि 179 कंपनियों के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे। (वार्ता)


और भी पढ़ें :