Widgets Magazine

डेविस कप : भारत लगातार 5वें साल प्लेऑफ में हारा

Last Updated: रविवार, 16 सितम्बर 2018 (00:35 IST)
क्रालजेवो। और की एकल में के बाद रोहन बोपन्ना और साकेत मिनेनी की जोड़ी को युगल मुकाबले में शनिवार को हार का सामना करना पड़ा और इसके साथ ही मेजबान सर्बिया के खिलाफ विश्व ग्रुप मुकाबला गंवा बैठा।
भारत अब मुकाबले में 0-3 से पिछड़ गया है और रविवार को खेले जाने वाले उलट एकल मैच औपचारिकता मात्र रह गए हैं। यदि ये मैच खेले जाते हैं तो ये बेस्ट ऑफ थ्री सेट के होंगे। यह लगातार 5वां साल है, जब भारत को विश्व ग्रुप प्लेऑफ में हार का सामना करना पड़ा है।

रोहन बोपन्ना और साकेत मिनेनी की जोड़ी को युगल मुकाबले में निकोला मिलोजैविच और डेनिलो पेत्रोविच की सर्बियाई जोड़ी ने 2 घंटे 22 मिनट में 7-6, 6-2, 7-6 से हारा दिया। भारतीय जोड़ी ने पहले और तीसरे सेट के टाईब्रेक 5-7, 4-7 से गंवाए। इससे पहले शुक्रवार को रामकुमार को पहले एकल मैच में सर्बिया के लासलो जेरे ने 3-6, 6-4, 7-6, 6-2 से हराया था जबकि दूसरे एकल में प्रजनेश गुणेश्वरन को दुसान लाजोविच ने 6-4, 6-3, 6-4 से हराया था।
भारत को मुकाबले में लौटने के लिए युगल मैच में जीत की जरूरत थी। ड्रॉ के अनुसार रोहन बोपन्ना के साथ युगल में एन. श्रीराम बालाजी को उतरना था लेकिन बालाजी की जगह मिनेनी को उतारा गया। जोड़ी में बदलाव करने का कोई असर नहीं हुआ और भारतीय जोड़ी मौके गंवाते हुए लगातार सेटों में पराजित हो गई। यदि रविवार को उलट एकल मैच होते हैं तो पहले उलट एकल में रामकुमार का सामना लाजोविच से और दूसरे उलट एकल में गुणेश्वरन का मुकाबला जेरे से होगा।
भारत आखिरी बार 2011 में विश्व ग्रुप में खेला था लेकिन तब उसे विश्व ग्रुप के पहले राउंड में सर्बिया ने 4-1 से हारा दिया था। भारत को उसी साल फिर प्लेऑफ में जापान से 1-4 से हार का सामना करना पड़ा था। भारत 2014 में प्लेऑफ में सर्बिया से 2-3, 2015 में चेक गणराज्य से 1-3, 2016 में स्पेन से 0-5 और 2017 में कनाडा से 2-3 से हारा था। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :