सेंसेक्स की तेजी पर ब्रेक, 100 अंक फिसला

पुनः संशोधित मंगलवार, 28 नवंबर 2017 (16:54 IST)
मुंबई। वैश्विक स्तर से मिले मिश्रित संकेतों के बीच चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही के आर्थिक विकास के आंकड़ों की प्रतीक्षा कर रहे निवेशकों के रिलायंस इंडस्ट्रीज और इंफोसिस जैसी दिग्गज कंपनियों में बिकवाली करने से में आठ दिनों से जारी तेजी पर मंगलवार को ब्रेक लग गया और 105.85 अंक तथा निफ्टी 29.30 अंक फिसल गया।
का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 105.85 अंक टूटकर 33618.59 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 29.30 अंक गिरकर 10370.25 अंक पर रहा। दिग्गज कंपनियों में जहां बिकवाली देखी गई वहीं छोटी और मझौली कंपनियों में हुई लिवाली ने शेयर बाजार में बड़ी गिरावट को रोकने का काम किया। इस दौरान बीएसई का मिडकैप 16.54 अंक बढ़कर 17038.75 अंक पर और स्मॉलकैप 49.73 अंक उछलकर 18213.65 अंक पर रहा।
इस दौरान बीएसई के अधिकांश समूहों में गिरावट हुई और जिन समूहों में बढ़ोतरी दर्ज की गई वह भी बहुत कम की रही। बढ़त में रहने वालों में सीजीजीएस 0.20 प्रतिशत, एफएमसीजी 0.10 प्रतिशत, वित्त 0.05 प्रतिशत और ऑटो 0.04 प्रतिशत शामिल है। सबसे अधिक गिरावट टेलीकॉम समूह 1.30 प्रतिशत की हुई। इसके बाद तेल एवं गैस, आईटी, सीडी, बेसिक मटेरियल्स, एनर्जी और पावर आदि प्रमुख समूह भी गिरावट में रहे।

इस दौरान बीएसई में कुल मिलाकर 2877 कंपनियों में कारोबार हुआ जिनमें से 1382 बढ़त में और 1335 गिरावट में रहे जबकि 160 में कोई बदलाव नहीं हुआ।

बीएसई का सेंसेक्स मामूली बढ़त के साथ 33726.65 अंक पर खुला और लिवाली के बल पर दोपहर बाद 33770.15 अंक के उच्चतम स्तर तक चढ़ा। इसी दौरान शुरू हुई बिकवाली से यह 33576.65 अंक के निचले स्तर तक लुढ़क गया। अंत में यह पिछले सत्र के 33724.44 अंक की तुलना में 105.85 अंक अर्थात 0.31 प्रतिशत गिरकर 33618.59 अंक पर रहा।

इसी तरह से का निफ्टी 12 अंकों की गिरावट लेकर 10387.90 अंक पर खुला और लिवाली के जोर पकड़ने पर यह 10409.55 अंक तक चढ़ा। इसी दौरान बिकवाली के कारण यह 10355.20 अंक के निचले स्तर पर आ गया। अंत में यह पिछले सत्र के 10399.556 अंक की तुलना में 0.28 फीसदी अर्थात 29.30 अंक गिरकर 10370.25 अंक पर रहा। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :