Widgets Magazine

हिन्दू धर्म में विधवाएं क्यों पहनती हैं सफेद वस्त्र? जानिए 6 कारण...

मांगलिक है सफेद वस्त्र : सफेद रंग हर तरह से शुभ माना गया है, लेकिन वक्त के साथ लोगों ने इस रंग का मांगलिक कार्यों में इस्तेमाल बंद कर दिया। हालांकि प्राचीनकाल में सभी तरह के मांगलिक कार्यों में इस रंग के वस्त्रों का उपयोग होता था। पुरोहित वर्ग इसी तरह के वस्त्र पहनकर यज्ञ करते थे। सच तो यह है कि सफेद रंग सभी रंगों में अधिक शुभ माना गया है इसीलिए कहते हैं कि लक्ष्मी हमेशा सफेद कपड़ों में निवास करती है। 20-25 वर्षों पहले तक लाल जोड़े में सजी दुल्हन को सफेद ओढ़नी ओढ़ाई जाती थी। इसका यह मतलब कि दुल्हन ससुराल में पहला कदम रखे तो उसके सफेद वस्त्रों में लक्ष्मी का वास हो। आज भी ग्रामीण क्षेत्र में सफेद ओढ़नी की परंपरा का पालन किया जाता है।
 
पति की मौत के बाद : यदिक किसी का पति मर गया तो उसे विधवा और किसी की पत्नी मर गई है तो उसे कहा जाता है। शास्त्रों के अनुसार पति की मृत्यु के नौवें दिन उसे दुनियाभर के रंगों को त्यागकर सफेद साड़ी पहननी होती है, वह किसी भी प्रकार के आभूषण एवं श्रृंगार नहीं कर सकती। स्त्री को उसके पति के निधन के कुछ सालों बाद तक केवल सफेद वस्त्र ही पहनने होते हैं और उसके बाद यदि वह रंग बदलना चाहे तो बेहद हल्के रंग के वस्त्र पहन सकती है।
 
तलाक और पुनर्जैसा कांन्सेप्ट नहीं : में तलाक या पति की मौत के बाद फिर से विवाह करने के बारे में स्पष्ट निर्देश नहीं दिये गए हैं। हिन्दू धर्मानुसार विवाह को बहुत ही महत्वपूर्ण विषय मानकर बताया गया है कि विवाह कब, किससे और कैसे करें। विवाह सोच-समझकर करें। विवाह करने के पहले दोनों पक्ष की कुंडली अच्छे से परख लें फिर विवाह करें। कई तरह की जांच के बाद ही विवाह करने की सलाह दी जाती है ताकि आगे चलकर इस रिश्ते में किसी भी प्रकार का व्यवधान न हो। लेकिन वर्तमान में विवाह और प्रेम विवाह बहुत ही सरल प्रक्रिया बना दी गई है और तलाक कठिन, जबकि इसका उल्टा होना चाहिये तभी संबंध पुख्‍ता हो पाता है।
 
विधवा विवाह किया जा सकता है : प्राचीनकाल की परंपरा में और पौराणिक इतिहास में विवाह और संबंध विच्छेद के किस्से पढ़ने को मिलते हैं। उत्तर भारत के ग्रामीण इलाकों में विधवा विवाह का प्रचलन है जिसे नाता कहा जाता है। कोई स्त्री पुनर्विवाह का निर्णय लेती है, तो इसके लिए वह स्त्रतंत्र है। अब लोगों की सोच बदल रही है इसी कारण आज विधवाओं को भी समाज में बराबरी का सम्मान दिया जा रहा है। कोई जरूरी नहीं कि हर नियम कानून से लोगों का फायदा हो। आज समाज का स्वरूप बदल रहा है। विधवाएं रंगीन वस्त्र भी पहन रही है और शादी भी कर रही हैं।
 
वेदों में एक विधवा को सभी अधिकार देने एवं दूसरा विवाह करने का अधिकार भी दिया गया है। वेदों में एक कथन शामिल है-
'उदीर्ष्व नार्यभि जीवलोकं गतासुमेतमुप शेष एहि।
हस्तग्राभस्य दिधिषोस्तवेदं पत्युर्जनित्वमभि सम्बभूथ।'
अर्थात पति की मृत्यु के बाद उसकी विधवा उसकी याद में अपना सारा जीवन व्यतीत कर दे, ऐसा कोई धर्म नहीं कहता। उस स्त्री को पूरा अधिकार है कि वह आगे बढ़कर किसी अन्य पुरुष से विवाह करके अपना जीवन सफल बनाए।
 
लेकिन सवाल यह है कि पति की मौत के बाद हिन्दू महिलाएं सफेद साड़ी या वस्त्र क्यों धारण करती है।
 
विधवाओं द्वारा सफेद वस्त्र पहनने के 6 कारण...
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine