हिन्दी कविता : एक मंदिर हो तुम...



एक मंदिर हो तुम
प्रेम का देवता खुश हुआ तो,
मेरी जिंदगी में तुम आ गए, आ गए, आ गए।
दो दिल जब मिल साथ में चले तो,
थम गए राह के काफ़िले, काफ़िल।

यूं ही नहीं मैंने तुम्हें चाहा है,
तुम तो बस दिल में समा गए, समा गए, समा गए।

दुनिया में और कुछ दिखता नहीं,
जबसे मेरे दिल को तुम भा गए, भा गए, भा गए।

फूंक-फूंककर करते हैं हम,
जबसे आग दिल में तुम लगा गए, लगा गए, लगा गए।

खुशियों के समंदर में डुबोकर हमें,
अपने दिल का दर्द तुम छिपा गए, छिपा गए, छिपा गए।

जिंदगी की मुश्किलें आसां हो चली हैं,
जबसे प्यार हमसे तुम निभा गए, निभा गए, निभा गए।

प्रेमिका नहीं, एक मंदिर हो तुम,
आके प्रेम की घंटी हम बजा गए, बजा गए, बजा गए।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :