प्रेम गीत : देख रहा जमाना

मैं हूं तेरा दीवाना
तू नहीं करीब मेरे
मैं तेरे आसपास हूं।

तेरी तस्वीर को
ले के घूमता हूं
तेरा नाम लेके
नशे में झूमता हूं
तू एक बार हां कह दे
मैं तेरा बिछुड़ा यार हूं।
मुझे पता है
तू बेवफा निकल गई
तेरी तकदीर
औरों से मिल गई
तेरी तरह मैं तो नहीं
नमकहलाल हूं।

अब तेरे आंसुओं को
पोंछने की तमन्ना है
सपने सजाने का
लिखा जो रवन्ना हूं
संग रहू तो अंगारा
अकेले के लिए राख हूं।

जाते-जाते जगवालों से
एक छोटी-सी अरदास है
बहुत जरूरी नहीं है भैया
छोटा-बड़ा एक काम है।
हिल-मिलकर रहने से
अंबर भी शीश झुकाते हैं
प्रेमभाव को देखकर
बैरी भी कतराते हैं
पापी पाप छोड़ देते हैं
कहते ये अपराध है।

पथ से अपने न पैर हटाना
मरते दम तक प्यारे वीर
प्राण निछावर कर देना
पर नहीं झुकाना दुश्मन को शीश
सब प्राणी को खुशियां देना
यही तेरा उपहार है।

ऊंच-नीच की बात न करना
न हिन्दू-सिख-ईसाई की
सब सज्जन से हाथ मिलाना
बात करना सच्चाई की।
न दर्द मिटा न घाव भरा
ये कैसी बीमारी है
अब जाने की बारी है।

बचपन में किया खेलकूद
जवानी में जंप लगाया
नौकरी की खातिर घूम-घूमकर
अफसर से टकराया
फिर भी कोई बात बनी नहीं।

सूखी पड़ी ये क्यारी है
ये कैसी बीमारी है।

संघर्ष कठिन किया जीवन में
कुछ अरमान हुए पूरे
कोशिश की बहुत ही हमने
कुछ अरमान रह गए अधूरे
आशा मेरी निराशा में बीती।
बिलकुल थाली खाली है
राम नाम मैं जप न सका
कहां फुर्सत रही जमाने में
फिर भी हासिल कुछ कर न सका।

दो कौड़ी बची है खजाने में
उनका संदेशा आ चुका है
कहते तेरी बारी है
ये कैसी बीमारी है।

नफरत ने नहीं, कुदरत ने सही
फरमान सुनाया है
इसीलिए मिलने की खातिर
घर पे आया है।

जब पढ़ते थे कॉलेज में
हुम्मा-हम्मी होती थी
देखके उसकी आदत को
छुपकर मैं रोती थी।

बहुत दिनों के बाद आज
वो दिन आया है
इसीलिए मिलने की खातिर
घर पे आया है।

मिस्कॉल अगर मैं करती
वह कॉलबैक नहीं करता
लोक-लाज घर वालों से
मेरे बहुत वह डरता।

फिर भी उसको पसंद थी मैं
जो फूल वह लाया है
इसीलिए मिलने की खातिर
घर पे आया है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...
भारत जैसे देश में यदि लोग अपनी उम्र के औसतन चार साल और बढ़ाना चाहते हैं तो उसे विश्व ...

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य लाभ
पौराणिक लेख और कई अत्याधुनिक शोधों ने इस बात को प्रमाणित किया है कि सफेद मूसली एक ...

लो-ब्लडप्रेशर से हैं परेशान तो आजमाएं ये 10 सरल उपाय

लो-ब्लडप्रेशर से हैं परेशान तो आजमाएं ये 10 सरल उपाय
भागदौड़ और तनाव भरी जिंदगी में लो ब्लडप्रेशर और हाई ब्लडप्रेशर की शिकायत होना आम बात है। ...

जब जाना हो पार्टी में और नेल रिमूवर खत्म हो जाएं तो आजमाएं ...

जब जाना हो पार्टी में और नेल रिमूवर खत्म हो जाएं तो आजमाएं ये टिप्स
नेल रिमूवर एक छोटी सी लेकिन हर लड़की के मेकअप बॉक्स में एक बहुत ही जरूरी चीज होती है। इसकी ...

मार्मिक कविता : असहाय, बेबस ललनाएं

मार्मिक कविता : असहाय, बेबस ललनाएं
कन्या पूजन के इस देश में कितनी ललनाएं रुआंसी। कितने हो रहे मुजफ्फरपुर/देवरिया, किस किस को ...

होठों का कालापन दूर करने के उपाय, पढ़ें 4 आसान से घरेलू ...

होठों का कालापन दूर करने के उपाय, पढ़ें 4 आसान से घरेलू नुस्खे
इन दिनों की बदलती हुई जीवनशैली में कहीं भी बाहर आना-जाना हो, ऑफिस हो या पार्टी... वैसे तो ...

नहीं 'टल' सकी 'अटल' जी के निधन की भविष्यवाणी, जानिए किसने ...

नहीं 'टल' सकी 'अटल' जी के निधन की भविष्यवाणी, जानिए किसने की थी ...
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की मृत्यु को लेकर भी कुछ इसी तरह की भविष्यवाणी की ...

ईद-उल-अजहा : जानें कुर्बानी का इतिहास, मकसद और कौन करे ...

ईद-उल-अजहा : जानें कुर्बानी का इतिहास, मकसद और कौन करे कुर्बानी
इब्रा‍हीम अलैय सलाम एक पैगंबर गुजरे हैं, जिन्हें ख्वाब में अल्लाह का हुक्म हुआ कि वे अपने ...

प्याज के छिलकों को न फेंके कूड़ेदान में, इनके इस्तेमाल से ...

प्याज के छिलकों को न फेंके कूड़ेदान में, इनके इस्तेमाल से पाएं बेहतरीन सेहत और सौंदर्य लाभ
खानपान में प्याज का इस्तेमाल रोजाना किया जाता है। जब भी आपको प्याज किसी सब्जी में डालना ...

निर्मल राजनीति के प्रणेता अटलजी के चरणों में सादर

निर्मल राजनीति के प्रणेता अटलजी के चरणों में सादर
स्वतंत्रता दिवस के जोश, उमंग और उल्लास में राष्ट्र अभी आनंद में सराबोर ही था कि अटलजी के ...