प्रेम गीत : मेरे आंसुओं से कहानी न पूछो


मेरे आंसुओं से कहानी न पूछो
वो तुमको भी आकर रुला जाएंगे
झूठी कहानी और झूठा फसाना
नादानी वफा की बता जाएंगे।
रह-रह कर रोना और खुद
खुद को खोना, मोहब्बत के
झूठे फसानों को ढोना
वे किस्से गमे जिंदगी के सुना जाएंगे

कभी तुम वह थीं मेरी जिंदगी में थी आईं
प्रेम कहानी जो कभी हकीकत न बन पाई
उस कहानी के दर्द के नगमों को
गा-गा के तुमको सुना जाएंगे
मेरे आंसुओं से कहानी न पूछो
वो तुमको भी आकर रुला जाएंगे।

व्यथा की कथा को अधरों पर लाकर
वे मीरा की पीड़ा सुना जाएंगे।।
मेरे आंसुओं से कहानी न पूछो
वो तुमको भी आकर रुला जाएंगे
झूठी कहानी और झूठा फसाना
नादानी वफा की बता जाएंगे।

-->

और भी पढ़ें :