हिन्दू कुल : गोत्र और प्रवर क्या है, जानिए-2

वैदिक धर्म द्वारा बताए गए देवी और देवताओं को छोड़कर जो व्यक्ति यक्ष, पिशाच, राक्षस आदि को पूज रहे हैं वे सभी रजोगुणी हैं और जो लोग भूत-प्रेत, ...

Widgets Magazine

घंटी बजाने के चमत्कार, जानिए

हिंदू धर्म में देवालयों व मंदिरों के बाहर घंटियां या घडिय़ाल पुरातन काल से लगाए जाते हैं। जैन और हिन्दू मंदिर में घंटी लगाने की परंपरा की शुरुआत ...

व्रत का महीना 'श्रावण' माह क्यों, जानिए

कार्तिक माह को विष्णु तो श्रावण माह को शिव का प्रमुख महीना माना जाता है। जिस तरह इस्लाम में रमजान का माह रोजे (व्रत) का माह होता है उसी तरह ...

धार्मिक कार्य में मौली क्यों बांधते हैं?

मौली बांधना वैदिक परंपरा का हिस्सा है। यज्ञ के दौरान इसे बांधे जाने की परंपरा तो पहले से ही रही है, लेकिन इसको संकल्प सूत्र के साथ ही ...

हाथ मिलाना क्यों उचित नहीं?

भारतीय संस्कृति के अनुसार हाथ मिलाना उचित नहीं माना जाता। अभिवादन के लिए दूर से ही नमस्कार करने की परंपरा है। मिलते वक्त 'नमस्कार' और विदा होते ...

ब्रह्म मुहूर्त का समय और महत्व, जानिए...

24 घंटे में 30 मुहूर्त होते हैं। ब्रह्म मुहूर्त रा‍त्रि का चौथा प्रहर होता है। सूर्योदय के पूर्व के प्रहर में दो मुहूर्त होते हैं। उनमें से पहले ...

हनुमान चालीसा का पाठ क्यों करते हैं?

मंदिर, दर्गा, बाबा, गुरु, देवी-देवता आदि सभी जगहों पर भटकने के बाद भी कोई शांति और सुख नहीं मिलता और संकटों का जरा भी समाधान नहीं होता है। साथ ...

सिर पर चोटी क्यों रखी जाती है?

वैदिक संस्कृति में चोटी को 'शिखा' कहते हैं। स्त्रियां भी चोटी रखती हैं। उसका भी कारण है। मुंडन और उपनयन संस्कार के समय यह किया जाता है। प्रत्येक ...

क्यों करते हैं प्रसाद वितरण, जानिए

अर्थ : जो कोई भक्त मेरे लिए प्रेम से पत्र, पुष्प, फल, जल आदि अर्पण करता है, उस शुद्ध बुद्धि निष्काम प्रेमी का प्रेमपूर्वक अर्पण किया हुआ वह ...

क्या खाएं और क्या न खाएं, जानिए

भोजन मानव को निरोगी भी रखता है और रोगी भी रखता है इसीलिए हिन्दू धर्म में योग और आयुर्वेद के नियमों पर चलने के धार्मिक नियम बनाए गए हैं। सेहत से ...

आप किसकी तरफ हैं : सुर या असुर?

'दुविधा में दोउ गए, माया मिली न राम।' क्या आप सभी देवताओं को साधने में लगे हैं। आपका कोई एक ईष्ट नहीं है? आप दो विरोधी विचारधारा को एक साथ मानते ...

नदी स्नान के नियम और प्रकार, जानिए

हिन्दू धर्म अनुसार स्नान और ध्यान का बहुत महत्व है। स्नान के पश्चात ध्यान, पूजा या जप आदि कार्य सम्पन्न किए जाते हैं। हमारे शरीर में 9 छिद्र ...

कौन से वार जाएं मंदिर, जानिए..

शिव के मंदिर में सोमवार, विष्णु के मंदिर में रविवार, हनुमान के मंदिर में मंगलवार, शनि के मंदिर में शनिवार और दुर्गा के मंदिर में बुधवार और काली ...

मांडना से आती है घर में लक्ष्मी और शांति, जानिए

रंगोली या मांडना हमारी प्राचीन सभ्यता एवं संस्कृति की समृद्धि के प्रतीक हैं, इसलिए 'चौंसठ कलाओं' में मांडना को भी स्थान प्राप्त है। इससे घर ...

जानिए क्या है चरणामृत और पंचामृत...

मंदिर में जब भी कोई जाता है तो पंडितजी उसे चरणामृत या पंचामृत देते हैं। लगभग सभी लोगों ने दोनों ही पीया होगा। लेकिन बहुत कभी ही लोग इसकी महिमा ...

मंदिर में जाने से पहले आखिर क्यों बजाते हैं घंटी?

मंदिर के द्वार पर और विशेष स्थानों पर घंटी या घंटे लगाने का प्रचलन प्राचीन काल से ही रहा है। लेकिन इस घंटे या घंटी लगाने का धार्मिक और वैज्ञानिक ...

संस्कृत क्यों देव भाषा, जानिए...

रूसी, जर्मन, जापानी, अमेरिकी सक्रिय रूप से हमारी पवित्र पुस्तकों से नई चीजों पर शोध कर रहे हैं और उन्हें वापस दुनिया के सामने अपने नाम से रख रहे ...

संध्या वंदन में पूजा, आरती, प्रार्थना या करें ...

संध्या वंदन को संध्योपासना भी कहते हैं। संधिकाल में ही संध्या वंदन की जाती है। वैसे संधि 5 वक्त (समय) की होती है, लेकिन प्रात:काल और संध्‍याकाल- ...

हिन्दू मंदिर में जाने के नियम, जानिए

सभी धर्मों के अपने-अपने प्रार्थनाघर होते हैं। उन प्रार्थना स्थलों में जाने का वार और समय नियुक्त है। बौद्ध विहार, सिनेगॉग, चर्च, मस्जिद और ...

Widgets Magazine

Widgets Magazine

धर्म संसार

जानिए महान ज्योतिषाचार्य वराहमिहिर के बारे में

भगवान सूर्य के कृपापात्र वराहमिहिर ही पहले आचार्य हैं जिन्होंने ज्योतिष शास्त्र को सि‍द्धांत, ...

जानिए महान ज्योतिषाचार्य आर्यभट्ट के बारे में

आर्यभट्ट ही ऐसे प्रथम गणितज्ञ ज्योतिर्विद् हैं, जिनका ग्रंथ एवं विवरण प्राप्त होता है। वस्तुत: ...

राष्ट्रीय समाचार

शाही खर्च पर शिवसेना ने किया भाजपा का बचाव

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में देवेंद्र फडनवीस के शपथ-ग्रहण समारोह के बहिष्कार के अपने ...

भोपाल गैसकांड के खलनायक एंडरसन की मौत

भोपाल गैसकांड के खलनायक वॉरेन एंडरसन की फ्लोरिडा में मौत हो गई। वे 92 वर्ष के थे।

ज़रूर पढ़ें

हिन्दुओं के पवित्र पांच सरोवर, जानिए कौन से...

'सरोवर' का अर्थ तालाब, कुंड या ताल नहीं होता। सरोवर को आप झील कह सकते हैं। भारत में सैकड़ों झीलें ...

शनि का राशि परिवर्तन : जानिए 12 राशियों पर प्रभाव

शनि अपनी उच्च राशि तुला से राशि परिवर्तन कर 2 नवंबर से वृश्चिक राशि में प्रवेश कर रहे हैं। शनि ...

वृश्चिक का शनि कैसा होगा कारोबार के लिए

2 नवंबर को शनि के तुला से वृश्चिक राशि में प्रवेश के चलते जमीन, बिल्डिंग, ऑयल सहित लाल और काले रंग ...

Widgets Magazine