मुख पृष्ठ > धर्म-संसार > धर्म-दर्शन > संत-महापुरुष > महान संत कवि रविदास
सुझाव/प्रतिक्रियामित्र को भेजिएयह पेज प्रिंट करें
 
महान संत कवि रविदास
great sant ravidas
ND
संत कुलभूषण कवि रैदास यानी सं‍त रविदास का जन्म सन् 1398 में काशी (उत्तर प्रदेश, भारत) में हुआ था। वे बचपन से समाज के बुराइयों को दूर करने के प्रति अग्रसर रहे। उनके जीवन की छोटी-छोटी घटनाओं से समय तथा वचन के पालन संबंधी उनके अनेक गुणों का पता चलता है।

समाज में मेल-जोल और भाईचारा बढ़ाने के लिए भारत के कई संतों ने समय-समय पर महत्वपूर्ण योगदान दिया है। ऐसे संतों में संत रैदास का नाम अग्रगण्य है। वे सन्त कबीर के गुरूभाई थे। और उनके गुरु स्वामी रामानन्द रहे।

महान् संत कवि रैदास ने अपनी अनेक रचनाओं के माध्यम से समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर करने में महत्वपूर्ण योगदान किया। इनकी रचनाओं की विशेषता लोक-वाणी का अद्भुत प्रयोग था, जिसका मानव धर्म और समाज पर अमिट प्रभाव पड़ता है। मधुर एवं सहज रहे संत रैदास की वाणी भारतीय धर्मशाखाओं के मध्य सेतु की तरह है। बचपन से ही रविदास का झुकाव संत मत की तरफ रहा। और उन्होंने समाज में फैली छुआ-छूत, ऊँच-नीच आदि जर्जर करती भावनाओं को दूर करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की।
  रविदास के आदर्शों और उपदेशों को मानने वाले 'रैदास पंथी' कहलाते हैं। मन चंगा तो कठौती में गंगा यह उनकी पंक्तियाँ मनुष्य को बहुत कुछ सीखने का अवसर प्रदान करती है। 'रविदास के पद', 'नारद भक्ति सूत्र' और 'रविदास की बानी' उनके प्रमुख संग्रह है।      


एक समय की बात है - एक पर्व के अवसर पर पड़ोस के लोग गंगा-स्नान के लिए जा रहे थे। रैदास के शिष्यों में से एक ने उनसे भी चलने का आग्रह किया तो उन्होंने अपने शिष्‍य से कहा- गंगा-स्नान के लिए मैं अवश्य चलता किन्तु एक व्यक्ति को जूते बनाकर आज ही देने का वचन मैंने दे दिया है। यदि मैं उसे आज जूते नहीं दे सका तो मेरा वचन भंग हो जाएगा। गंगा स्नान के लिए जाने पर मन यहाँ लगा रहेगा तो पुण्य कैसे प्राप्त होगा? मेरा मानना है कि अपना मन जो काम करने के लिए अन्त:करण से तैयार हो वही काम करना उचित है। अगर मन सही है तो इस कठौते के जल में ही गंगास्नान का पुण्य प्राप्त हो सकता है।

संत रविदास की भक्ति से प्रभावित भक्तों की एक लंबी श्रृंखला है। रविदास के आदर्शों और उपदेशों को मानने वाले 'रैदास पंथी' कहलाते हैं। मन चंगा तो कठौती में गंगा यह उनकी पंक्तियाँ मनुष्य को बहुत कुछ सीखने का अवसर प्रदान करती है। 'रविदास के पद', 'नारद भक्ति सूत्र' और 'रविदास की बानी' उनके प्रमुख संग्रह है।
संबंधित जानकारी खोजें
और भी
स्वयं के स्वामी विवेकानंद
महान ऋषि अष्टावक्र
एनी बेसेंट नहीं 'माँ बसंत' कहो
गुरुओं के गुरु श्री दत्तात्रेय
युगदृष्टा गुरुनानक देव
आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज