मुख पृष्ठ > धर्म-संसार > धर्म-दर्शन > जैन धर्म > काँच मंदिर पर सामूहिक क्षमावाणी आज
सुझाव/प्रतिक्रियामित्र को भेजियेयह पेज प्रिंट करें
 
काँच मंदिर पर सामूहिक क्षमावाणी आज
ND
दिगंबर जैन समाज के दसलक्षण पर्व (पर्युषण) के समापन पर समाज के प्रमुख आस्था के केंद्र काँच मंदिर में मंगलवार को शाम 4 बजे से सामूहिक क्षमावाणी मनाई जाएगी। शहरभर के सभी जिनालयों में भी यह आयोजन होगा।

काँच मंदिर स्थित पर्व मंडप में उपाध्यायश्री ज्ञानसागरजी महाराज व महासती कुमुदलताजी के सान्निध्य में पूजन, आशीर्वचन व कलशाभिषेक के पश्चात सभी समाजजन एक-दूसरे से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से हुई भूलों के लिए क्षमा-याचना करेंगे।

उधर तिलकनगर मंदिर प्रांगण में सुबह 9 बजे वयोवृद्ध आचार्यश्री सीमंधरसागरजी महाराज के सान्निाध्य में कलशाभिषेक के पश्चात सामूहिक क्षमावाणी होगी। पंचायती मंदिर, छावनी में मुनिश्री शुभमसागरजी महाराज के सान्निध्य में शाम 4 बजे भगवान आदिनाथ के अभिषेक और अनंतनाथ जिनालय, छावनी मेनरोड पर भगवान अनंतनाथ के अभिषेक के पश्चात सामूहिक क्षमावाणी पर्व मनेगा।

गुरुवार को रात्रि 8.30 बजे नेमिनाथ मांगलिक भवन, छावनी पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ क्षमावाणी मिलन समारोह का आयोजन होगा।

शांतिनाथ दिगंबर जैन त्रिमूर्ति मंदिर, कालानीनगर में आचार्यश्री दर्शनसागरजी महाराज के सान्निध्य में सुबह 9 बजे सामूहिक क्षमावाणी के तहत पाँच या उससे ज्यादा निर्जल उपवास करने वालों का सम्मान किया जाएगा। यहाँ चारित्र शुद्धि महामंडल विधान व विश्वशांति महायज्ञ का समापन भव्य रथयात्रा के साथ होगा। महावीर मंदिर, वैशालीनगर-बृजविहार में अभिषेक, शांतिधारा, पूजन, कलशाभिषेक के पश्चात सामूहिक क्षमावाणी पर्व मनेगा। रात्रि 8 बजे सामूहिक आरती होगी।

गोयलनगर में शांतिनाथ जैन मित्र मंडल द्वारा विशेष अभिषेक व पूजन-अर्चन का कार्यक्रम रखा गया। नेमीनगर जैन कॉलोनी में मुनिश्री भूतबलीसागरजी महाराज के सान्निध्य में पर्व के समापन पर स्वर्ण व रजत कलश से अभिषेक कर भव्य शोभायात्रा निकाली गई।
संबंधित जानकारी खोजें
और भी
सामूहिक क्षमावाणी 16 को
आइए, क्षमापर्व का लाभ उठाएँ
आकर्षक झाँकियों से सजे जिनालय
सुगंध दशमी पर्व पर चढ़ेगी धूप
धार्मिक क्रियाओं का पर्व पर्युषण
दसलक्षण पर्व की शुरुआत