जानिए क्यों पहनें पुखराज रत्न...

पुखराज को संस्कृत में पुष्पराग, हिन्दी में पुखराज कहा जाता है। यह बृहस्पति ग्रह से संबंधित रत्न है। चौबीस घंटे तक दूध में रखने पर यदि क्षीणता ...

Widgets Magazine

जानिए लग्न कुंडली के अनुसार कब धारण करें मोती...

रत्न विज्ञान में मोती का बहुत महत्व है। गोल लंबा आकार का मोती, जिसका रंग तेजस्वी सफेद हो ...

जानिए किसे धारण करना चाहिए सूर्य रत्न...

भविष्यवक्ता के अनुसार तेजस्विता प्रदान करने वाला तेजोमय ग्रह सूर्य का रत्न माणिक सभी को ...

जानिए, किस रत्न को कौन सी धातु में पहनें

रत्नों का रंगबिरंगा का संसार हम सबको मोहता है। लेकिन हमें यह नहीं पता होता है कि कौन सा ...

कहां से आए रत्न कैसे बने कीमती, पढ़ें पौराणिक कथा

आचार्य वराहमिहिर ने भी पुराण परंपरा का आश्रय ले आज से 1500 वर्ष पूर्व अपनी वृहतसंहिता में रत्नाध्याय का वर्णन करते हुए रत्नोत्पत्ति के कारणों का ...

जानिए रत्न विज्ञान में मोती का महत्व...

रत्न विज्ञान में मोती का अपना महत्व है। वैसे तो रत्न चौरासी प्रकार के होते हैं, लेकिन उनमें से माणिक्य, मोती, पन्ना, हीरा, नीलम इन्हें पंच ...

हमें कितना फायदा देते हैं रत्न....

मनुष्य की सहज प्रकृति है कि वह हमेशा सुख में जीना चाहता है परंतु विधि के विधान के अनुसार धरती पर ईश्वर भी जन्म लेकर आता है तो ग्रहों की चाल के ...

जानिए किस रंग का हीरा, कौनसे देवता धारण करते हैं

हीरे का असली रंग श्वेत वर्ण ही होता है। फिर भी यह अनेक रंगों में पाया जाता है। देवताओं से लगाकर मनुष्यों तक पर रत्नों का प्रभाव रहा है और हीरा ...

हीरा : सभी रत्नों में सर्वश्रेष्ठ

हीरा मात्र खनिज रत्नों में ही नहीं अपितु विश्व की सभी वस्तुओं में अपना सर्वश्रेष्ठ स्थान रखता है। हीरा अपने सर्वोपरि गुण कठोरतम होने के कारण, ...

जानिए, क्यों पहना जाता है रत्न

हमारे जीवन में कभी ना कभी कठिनाई आती ही है, उस बुरे दौर से बचने के लिए उपाय किए जाते है। हम किसी ज्योतिषी का सहारा लेकर उसके बताए रत्न...

सावधान, मूंगा पहनें मगर ध्यान से...

यह सच है कि सुंदर रत्न मूंगा आत्‍मविश्‍वास और साहस बढ़ाता है, लेकिन हर किसी को मूंगा पहनना महंगा भी पड़ सकता है। बिना जन्‍म पत्रिका दिखाए मूंगा ...

पुखराज : आपके लिए कितना शुभ-कितना अशुभ

पुखराज रत्न की रंगत पलाश के फूलों जैसी होती है। पुखराज एक बहुमूल्य रत्नों में से एक है। यह गुरु ग्रह के प्रभाव को बढ़ाने वाला होता है। यह रत्न ...

रत्नों से हो सकता है रोगों का नाश

हजारों वर्षों से वैद्य रत्नों की भस्म और हकीम रत्नों की षिष्टि प्रयोग में ला रहे हैं। माणिक्य भस्म शरीर मे उष्णता और जलन दूर करती है। यह ...

रत्न विज्ञान : कौन-सा रत्न कब धारण करें

सूर्य को शक्तिशाली बनाने में माणिक्य का परामर्श दिया जाता है। 3 रत्ती के माणिक को स्वर्ण की अंगूठी में, अनामिका अंगुली में रविवार के दिन पुष्य ...

कैसे करें रत्नों का चुनाव

अनिष्ट ग्रहों के प्रभाव को कम करने के लिए या जिस ग्रह का प्रभाव कम पड़ रहा हो उसमें वृद्धि करने के लिए उस ग्रह के रत्न को धारण करने का परामर्श ...

जानिए रत्नों का रहस्यमय संसार

रत्नों की उत्पत्ति के विषय में एक अन्य कथा भी ग्रंथों में आती है। देवता और दैत्यों ने समुद्र मंथन किया तो 14 रत्न पदार्थ निकले। उसमें लक्ष्मी, ...

माणिक : रत्नों का राजा, कितना शुभ, कितना अशुभ

माणिक सब रत्नों का राजा माना गया है। इसके बारे में एक धारणा यह है कि माणिक की दलाली में हीरे मिलते हैं। कहने का मतलब यह रत्न अनमोल है। यह रत्न ...

जानिए, क्या आप पहन सकते हैं मूंगा?

मूंगा मंगल का रत्न है। मंगल साहस, बल, ऊर्जा का कारक, विस्फोटक सामग्री के व्यवसाय, पेट्रोल पंप, गैस एजन्सी, पहलवानी, सुरक्षा से संबंधित कार्य ...

रत्न क्या हैं, उन्हें कैसे करें जागृत?

जितने भी रत्न या उपरत्न है वे सब किसी न किसी प्रकार के पत्थर है। चाहे वे पारदर्शी हो, या अपारदर्शी, सघन घनत्व के हो या विरल घनत्व के, रंगीन हो ...

Widgets Magazine

ज़रूर पढ़ें

स्नेह की डोर से बंधा रंगबिरंगा पर्व राखी

भाई-बहन का लगाव व स्नेह ताउम्र बरकरार रहता है, क्योंकि बहन कभी बाल सखा तो कभी मां, तो कभी ...

भद्रा में रक्षासूत्र बांधने से हो सकती है परेशानी

धार्मिक शास्त्रों के अनुसार जब भी कोई त्योहार काल पर चौघड़िए तथा पाप ग्रहों से संबंधित काल की बेला ...

भाई को बांधें 5 पवित्र चीजों से बनी वैदिक राखी....

रक्षाबंधन हमारे सनातन धर्म का सबसे विशेष त्योहार है। भाई की मंगलकामना के लिए बरसों से यह पर्व वैदिक ...

Widgets Magazine

नवीनतम

30 अगस्त 2015 : क्या कहती है आपकी राशि

मेष- बकाया वसूली होगी। यात्रा लाभकारी रहेगी। निवेश शुभ रहेगा। भागदौड़ अधिक होगी। बेरोजगारी दूर होने ...

आज के मुहूर्त (30.08.2015)

शुभ विक्रम संवत- 2072, अयन- दक्षिणायन, मास- भाद्रपद, पक्ष- कृष्ण, हिजरी सन्‌- 1436, मु. मास- ...