जन्माष्टमी | नवरात्रि | विजयादशमी | दीपावली | करवा चौथ | मकर संक्रां‍ति | महाशिवरात्रि | होली | महावीर जयंती | गणेशोत्सव | वसंत पंचमी | राम नवमी | रक्षा बंधन | श्रीरामचरितमानस | क्रिसमस | श्राद्ध पर्व | श्रीमद्‍भगवतगीता | नानक जयंती | सत्यनारायण व्रतकथा | बुद्ध जयंती | अन्य त्योहार | गुड़ी पड़वा | एकादशी व्रत कथा | आरती/चालीसा | नागपंचमी | रमज़ान
मुख पृष्ठ » धर्म-संसार » व्रत-त्योहार » आरती/चालीसा » हनुमान चालीसा (Hanuman Chalisa)
पिछला|अगला
FILE

दोहा :

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।

बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि॥

बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।

बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार॥

चौपाई :

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।

जय कपीस तिहुं लोक उजागर॥

रामदूत अतुलित बल धामा।

अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा॥

महाबीर बिक्रम बजरंगी।

कुमति निवार सुमति के संगी॥

कंचन बरन बिराज सुबेसा।

पिछला|अगला
Feedback Print