यूपी में अब हनुमानजी के जाति प्रमाण-पत्र के लिए आवेदन किया

Author अवनीश कुमार| पुनः संशोधित शुक्रवार, 7 दिसंबर 2018 (21:28 IST)
वाराणसी। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी भगवान हनुमानजी को लेकर एक बार फिर से सियासत गरमा गई है और भगवान हनुमानजी पर अपना अधिकार बताते हुए वाराणसी में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की ओर से शुक्रवार को कार्यकर्ताओं के दल ने जिला प्रशासन और भगवान हनुमान जी के जाति प्रमाण पत्र को लेकर आवेदन किया है।

आवेदन के लिए फॉर्म में सबसे ऊपर नाम के कॉलम में हनुमान जी उर्फ बजरंगबली लिखा हुआ है और पिता का नाम महाराज केसरी व माता के नाम की अंजनी देवी लिखा हुआ है और मकान नंबर के स्थान पर लिखा है संकट मोचन मंदिर साकेत नगर कॉलोनी रोड पुलिस चौकी के पास थाना लंका तहसील सदर और जिले का नाम वाराणसी लिखा है।
जाति के कॉलम में साफ तौर पर दलित लिखा है। प्रमाण पत्र क्यों जारी कराया जा रहा है इसको लेकर लिखा है कि आरक्षण हेतु। आवेदन रिसीव कराने के बाद सभी कार्यकर्ताओं का कहना था कि भाजपा जाति की राजनीति कर रही है। अब उसको जवाब हम लोग उसके अंदाज में दिया जाएगा।
गौरतलब है कि के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनाव प्रचार के दौरान बजरंगबली का दलित बताते हुए उनका गोत्र वनवासी बताया था। इस बयान के बाद से विपक्षी पार्टियों समेत कई दलित संगठन हमलावर हैं वहीं प्रदेश के दलित संगठनों की मांग है कि बजरंगबली दलित हैं तो उन पर पहला हक उनका है।


और भी पढ़ें :