छठ पर्व पर सालों बाद बना मंगलमयी संयोग, जानिए महत्व


छठ पर्व अत्यं‍त कठिन व्रत होता है। इसे छठ महापर्व कहा जाता है। इसमें 4 दिनों तक सूर्य की खास पूजा की जाती है। छठ पूजा के तीसरे और चौथे दिन निर्जला व्रत रखकर सूर्य पूजा करनी होती है।

साथ ही सूर्य की बहन छठी मईया की पूजा होती है. छठी मईया बच्चों को दीर्घायु बनाती हैं।

ज्यादातर घर की बुजुर्ग माता या दादी छठ करती हैं। घर की कोई एक दो वृद्ध मुखिया स्त्री, पुरुष बहु आदि ही छठ के कठिन व्रत पूजा का पालन करते हैं।

घर के बाकी सदस्य उनकी सहायता करते हैं। बाकी लोग छठी मैया के गीत भजन गाते हैं।

34 साल बाद बन रहा है महासंयोग...
छठ महापर्व मंगलवार 24 अक्टूबर से
आरंभ हो चुका है।
मंगलवार की गणेश चतुर्थी थी। इसी दिन सूर्य का रवियोग भी था। ऐसा महासंयोग 34 साल बाद बना। रवियोग में छठ की विधि-विधान शुरू करने से सूर्य हर कठिन मनोकामना भी पूरी करते हैं।

ऐसे महासंयोग में सूर्य को देने के साथ हवन किया जाए तो आयु बढ़ती है।

पहले दिन नहाय--खाय में क्या करते हैं...

सुबह नदी या तालाब कुआं या चापा कल में नहा कर शुद्ध साफ वस्त्र पहनते हैं।

छठ करने वाली व्रती महिला या पुरुष चने की दाल और लौकी शुद्ध घी में सब्जी बनाती है। उसमें सेंधा शुद्ध नमक ही डालते हैं।

बासमती शुद्ध अरवा चावल बनाते हैं। गणेश जी और सूर्य को भोग लगाकर व्रती सेवन करती है।

घर के सभी सदस्य भी यही खाते हैं। घर के सदस्य को मांस मदिरा का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

नहीं 'टल' सकी 'अटल' जी के निधन की भविष्यवाणी, जानिए किसने ...

नहीं 'टल' सकी 'अटल' जी के निधन की भविष्यवाणी, जानिए किसने की थी ...
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की मृत्यु को लेकर भी कुछ इसी तरह की भविष्यवाणी की ...

ईद-उल-अजहा : जानें कुर्बानी का इतिहास, मकसद और कौन करे ...

ईद-उल-अजहा : जानें कुर्बानी का इतिहास, मकसद और कौन करे कुर्बानी
इब्रा‍हीम अलैय सलाम एक पैगंबर गुजरे हैं, जिन्हें ख्वाब में अल्लाह का हुक्म हुआ कि वे अपने ...

नींद लेने से पहले कर लें ये 10 कार्य, अन्यथा पछताएंगे आप

नींद लेने से पहले कर लें ये 10 कार्य, अन्यथा पछताएंगे आप
24 घंटे में 8 घंटे हम यदि ऑफिस की कुर्सी पर तो 8 घंटे हम बिस्तर पर गुजारते हैं। बिस्तर की ...

जानिए इस बार 'पंचक' में क्यों बंधेगी राखी...

जानिए इस बार 'पंचक' में क्यों बंधेगी राखी...
इस वर्ष रक्षाबंधन का पर्व प्रतिवर्षानुसार श्रावण शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि दिनांक ...

हिन्दी साहित्य का सर्वोत्तम महाकाव्य है तुलसी का ‘रामचरित ...

हिन्दी साहित्य का सर्वोत्तम महाकाव्य है तुलसी का ‘रामचरित मानस’
तुलसी का ‘रामचरित मानस’ हिन्दी साहित्य का सर्वोत्तम महाकाव्य है जिसकी रचना चैत्र शुक्ल ...

रक्षाबंधन पर देना है बहन को उपहार तो इस बार दीजिए उसकी राशि ...

रक्षाबंधन पर देना है बहन को उपहार तो इस बार दीजिए उसकी राशि अनुसार
हर भाई चाहता है कि उसकी बहन के जीवन में खुशियां बनी रहे। हम लाए हैं बहनों की राशि अनुसार ...

भारत के इस शहर का हजारों सालों से छुपा रहस्य हुआ उजागर, ...

भारत के इस शहर का हजारों सालों से छुपा रहस्य हुआ उजागर, जानकर आप भी चौंक जाएंगे
भोपाल। मध्यप्रदेश की प्राचीन नगरी भोपाल को पूर्व में भोजपाल कहा जाता था। राजा भोज ने इस ...

भाई के लिए शुभ और मंगलदायक होती है इन 5 चीजों से बनी राखी, ...

भाई के लिए शुभ और मंगलदायक होती है इन 5 चीजों से बनी राखी, जानिए वैदिक राखी बनाने की विधि
अपने लाड़ले भाई के लिए बहनें सामान्य रेशम डोर से लेकर सोने, चांदी, डायमंड और स्टाइलिश ...

रक्षाबंधन पर बहनों के लिए यह है बड़ी खुशखबर... मोदी सरकार ...

रक्षाबंधन पर बहनों के लिए यह है बड़ी खुशखबर... मोदी सरकार का फैसला
26 अगस्त 2018 को राखी का पर्व है। चारों तरफ बाजार में रौनक है। बहनें राखियां तलाश रही ...

पवित्रा एकादशी : तेजस्वी संतान और वायपेयी यज्ञ का फल देती ...

पवित्रा एकादशी : तेजस्वी संतान और वायपेयी यज्ञ का फल देती है यह पवित्र एकादशी
पवित्रा एकादशी को पुत्रदा एकदशी, पवित्रोपना एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस वर्ष यह ...

राशिफल