तुम चलत सहमित संस्फुरत !



गोपाल बघेल 'मधु'
तुम चलत सहमित संस्फुरत,
स्मित औ सिहरत प्रष्फुटत।
परिप्रेक्ष्य लखि परिद्रश्य तकि,
पटकथा औ पार्थक्य लखि ।

उड़िकें गगन आए धरणि,
बहु वेग कौ करिकें शमन।
वरिकें नमन भास्वर नयन,
ज्यों यान उतरत पट्टियन ।

बचिकें विमानन जिमि विचरि,
गतिरोध कौ अवरोध तरि।
आत्मा चलत झांकत जगत,
मन सहज करि लखि क्षुद्र गति ।
आकाश कौ आभास तजि,
वाताश कौ भूलत परश।
ऊर्जा अगिनि संयत करत,
वारिधि की बाधा करि विरत ।

अहसास अपनौ पुनि करत,
विश्वास प्रभु सत्ता रखत।
'मधु' चेतना चित वृति फुरत,
चिर नियंता, आदेश रत।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :