पठानकोट एयरबेस हमले की जिम्मेदारी यूनाइटेड जेहाद काउंसिल ने ली

Last Updated: सोमवार, 4 जनवरी 2016 (18:31 IST)
श्रीनगर/ चंडीगढ़। के पठानकोट में स्थित भारतीय वायुसेना के ‘फारवर्ड बेस’ पर हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी यूनाइटेड जेहाद संगठन (यूजेसी) ने ली ली है। इस हमले में भारतीय सेना के कर्नल रैंक के अधिकारी समेत 7 जवान शहीद हो गए जबकि मुठभेड़ में 6 आतंकी मारे गए। इस हमले के तीसरे दिन छठे आंतकी की लाश मिल चुकी है जबकि एक और आतंकी की तलाश जारी है। इसी बीच हमले की जिम्मेदारी लेने वाले भी सोमवार को सामने आ गए। 
मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि एयरबेस पर हमला करने के पीछे आतंकी संगठन यूनाइटेड जेहाद है, जो हिजबुल मुजाहिदीन का सहयोगी संगठन है। यूनाइटेड जेहाद काउंसिल 15 लोगों का समूह है, जिसका ताल्लुक कश्मीर से है। 
 
जिस प्रकार से खबरें आ रही है, उससे लगता है कि हमले के पीछे कश्मीरी संगठन का हाथ है। यूनाइटेड जेहाद काउंसिल का मुखिया सैय्यद सलाउद्दीन है। सोमवार को श्रीनगर में एक समाचार एजेंसी को ई-मेल भेजकर यूनाइटेड जेहाद काउंसिल ने के हमले के लिए खुद को जिम्मेदार बताया है। 
 
 
62 घंटों के बाद भी मुठभेड़ जारी : उधर पठानकोट एयरबेस में भारतीय सेना और आतंकियों के बीच 62 घंटों के बाद भी मुठभेड़ जारी है। भारतीय सेना ने अभी तक 6 आतंकियों को ढेर कर दिया। भारतीय सेना को आशंका है कि अभी भी एयरबेस में 2 आतंकी मौजूद हैं। यहां पर रुक रुककर फायरिंग की आवाज सुनाई दे रही है। 
इस आज इस हमले में शामिल छठे आतंकी को मौत की नींद सुला दिया। सेना ने कैंटीन एरिया की उस बिल्डिंग को गिरा दिया जिसमें यह आतंकी छुपा हुआ था। इसमें भारतीय सेना ने भी 7 जवान खोए। हममें में शहीद हुए वीर जवानों नाम हैं:- लेफ्टिनेंट कर्नल निरंजन ई कुमार, कैप्टन फतेह सिंह, कांस्टेबल गुलवंत सिंह, कांस्टेबल जगदीश सिंह, कांस्टेबल संजीव कुमार, कांस्टेबल गुरसेवर कारपोर और कमांडो करतार सिंह।>  
वायुसेना के अड्डे के भीतर और आस-पास के इलाकों में बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान जारी है। इस अभियान में राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी), वायुसेना, अर्ध सैनिक बल और पंजाब पुलिस सहित अन्य सुरक्षा एजेंसियां शामिल हैं। वायुसेना के हेलीकॉप्टर भी इस अभियान में शामिल हैं।> जिंदा पकड़ना चाहते थे : वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि खुफिया जानकारी की वजह से बड़ी साजिश नाकाम हुई। उन्होंने कहा कि आतंकियों पर तुरंत कार्रवाई हुई। 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :