कर्नाटक में राज्यपाल किसे देंगे सरकार बनाने का न्योता, विशेषज्ञों की अलग-अलग राय

पुनः संशोधित मंगलवार, 15 मई 2018 (23:28 IST)
नई दिल्ली। कर्नाटक के वजुभाई वाला सरकार बनाने का न्योता देने में के फैसलों को संज्ञान में ले सकते हैं। शीर्ष अदालत ने अपने फैसलों में कहा है कि खंडित जनादेश की स्थिति में सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का न्योता दिया जाना चाहिए।
यह बात आज विधिवेत्ताओं ने कही। हालांकि सर्वाधिक विधायकों वाली पार्टी का निर्धारण कैसे किया जाएगा इसको लेकर विधि विशेषज्ञों की राय बंटी नजर आई। यह सबसे बड़ी पार्टी होगी या गठबंधन होगा इस पर स्थिति स्पष्ट नहीं दिखी।

पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी, वरिष्ठ अधिवक्ता राकेश द्विवेदी, अजीत कुमार सिन्हा और राजीव धवन तथा उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश पीबी सावंत और संविधान विशेषज्ञ गोविंद गोयल की राय थी कि राज्यपाल क्या करेंगे इस बारे में अभी सोचना ‘जल्दबाजी’ होगी।

हालांकि
उनके पास सबसे बड़ी पार्टी या गठबंधन जिनके पास अधिक विधायक होंगे उन्हें सरकार बनाने का न्योता देने का विकल्प है। रोहतगी ने कहा कि यह स्थापित कानून है कि राज्यपाल को सबसे बड़ी पार्टी और यहां भाजपा को सरकार बनाने के लिए बुलाना चाहिए, लेकिन न्यायमूर्ति सावंत ने कहा कि संवैधानिक व्यवस्था में ऐसा कुछ भी नहीं है जो सरकार बनाने के लिए कांग्रेस - जद (एस) गठबंधन को बुलाने की राह में आड़े आएगा। उनसे अलग राय रखते हुए द्विवेदी और गोयल ने कहा कि इस समय राज्यपाल के लिए फैसला करना जल्दबाजी होगी।

जब तक चुनाव आयोग अंतिम नतीजों की घोषणा नहीं करता है, तब तक इंतजार किया जाना चाहिए। धवन ने कहा कि सही तरीका है कि राज्यपाल को पहले सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का न्योता देना चाहिए और अगर वह बहुमत साबित करने में विफल रहती है तब राज्यपाल गठबंधन को आमंत्रित कर सकते हैं।

गोवा और मणिपुर चुनावों का उल्लेख करते हुए धवन ने कहा कि इन दो राज्यों में गलती की गई थी क्योंकि सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस को सरकार बनाने का न्योता नहीं दिया गया था। उनकी राय से गोयल ने सहमति जताई। उन्होंने कहा कि संवैधानिक परिपाटी के अनुसार सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए पहले बुलाया जाना चाहिए लेकिन मणिपुर और गोवा जैसे राज्यों में अतीत में कुछ गलतियां हुई हैं।

उन्होंने कहा कि राज्यपाल को इस बात की संभावना तलाशने के लिए सबसे बड़ी पार्टी को पहले बुलाना चाहिए कि वह सरकार बनाना चाहती है या नहीं। अगर वह मना कर देती है तो उन्हें कांग्रेस से सरकार बनाने का अवसर तलाशने का अनुरोध करने का अधिकार होगा।


इसे और स्पष्ट करते हुए द्विवेदी ने कहा कि अंतिम नतीजे के बाद राज्यपाल के लिए अपने विवेक का इस्तेमाल करने के लिए स्थिति स्पष्ट होगी। जो भी राज्य में स्थिर सरकार प्रदान करने की स्थिति में होगा उसको ध्यान में रखकर राज्यपाल सबसे बड़ी पार्टी या गठबंधन को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित कर सकते हैं।

स्थिरता के कारक पर जोर देते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता और भाजपा प्रवक्ता अमन सिन्हा ने एस आर बोम्मई (1994) और रामेश्वर प्रसाद मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसलों की ओर ध्यान आकर्षित किया। इसमें साफ तौर पर कहा गया है कि राज्यपाल पर उस पार्टी को आमंत्रित करने की जिम्मेदारी है जो स्थिर और टिकाऊ सरकार प्रदान कर सकती है।

उन्होंने कहा कि मौजूदा परिदृश्य में सिर्फ भाजपा स्थिर और टिकाऊ सरकार प्रदान करने की स्थिति में है और चूंकि भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभर रही है और वह बहुमत से कुछ सीटों से दूर है इसलिए यह स्पष्ट संकेत है कि कर्नाटक में मतदाताओं ने भाजपा को चुना है।

गोयल ने हालांकि कहा कि बोम्मई मामले का मौजूदा परिदृश्य में कुछ खास महत्व नहीं है क्योंकि यह कर्नाटक में सत्तारूढ़ पार्टी को सदन में अपना बहुमत साबित करने का मौका दिए बिना राष्ट्रपति शासन लगाने से संबंधित था। उन्होंने कहा कि रामेश्वर प्रसाद मामले में 2005 के फैसले की मौजूदा संदर्भ में कुछ प्रासंगिकता है क्योंकि बिहार के तत्कालीन राज्यपाल ने सबसे बड़े चुनाव पूर्व गठबंधन को सरकार बनाने का न्योता नहीं दिया था और इस आधार पर राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की थी कि सरकार गठन के लिए विधायकों के खरीद फरोख्त की संभावना है।

सावंत ने कहा कि कानूनी दृष्टि से ऐसा लगता है कि राज्यपाल जद (एस) और कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए बुलाएंगे क्योंकि उनके विधायकों की संख्या भाजपा के विधायकों की संख्या से अधिक है, लेकिन उन्हें सदन में अपना बहुमत साबित करना होगा।

सरकार चलाने के लिए मेरी राय में जद (एस) और कांग्रेस को बुलाया जाएगा। इसके विपरीत, रोहतगी ने कहा कि यहां (कर्नाटक) में भाजपा भारी अंतर से आगे चल रही है। राज्यपाल भाजपा को आमंत्रित करने के लिए बाध्य हैं। सरकार गठन के लिए राज्यपाल को पार्टी को तर्कसंगत समय संभवत: एक सप्ताह का समय देना होगा और तब सदन के पटल पर बहुमत साबित करना होगा। हालांकि सभी विधि विशेषज्ञों में एक बात पर आम सहमति थी कि कर्नाटक के जनादेश ने राज्यपाल को फैसला करने में अपने विवेक और विशेषाधिकार का इस्तेमाल करने की पूरी छूट दे दी है। (भाषा)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

जब हो गया था राम और लक्ष्मण का अपहरण

जब हो गया था राम और लक्ष्मण का अपहरण
रावण के कहने पर अहिरावण ने युद्ध से पहले युद्ध शिविर में उतरकर राम और लक्ष्मण का अपहरण कर ...

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर

बुध का वृषभ राशि में आगमन, क्या होगा आपकी राशि पर असर
27 मई से बुध वृषभ राशि, भरणी नक्षत्र में प्रवेश करेगा, जिसके परिणाम स्वरूप आपकी राशि पर ...

जींस खरीदने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है

जींस खरीदने से पहले यह जानना बहुत जरूरी है
जब जींस पहनने की शुरुआत हुई थी तब यह फैशन को ध्यान में रखते हुए नहीं हुई थी और न ही इसे ...

क्या होता है बुधादित्य योग, कैसा मिलता है इसका फल... (जानें ...

क्या होता है बुधादित्य योग, कैसा मिलता है इसका फल... (जानें कुंडली के 12 भाव)
ज्योतिष शास्त्र में सूर्य सबसे प्रधान ग्रह है। सूर्य का प्रभाव स्पष्ट रूप से दिखाई देता ...

सरकार का कदम सिविल सेवा मेरिट को करेगा बर्बाद

सरकार का कदम सिविल सेवा मेरिट को करेगा बर्बाद
नई दिल्ली। यूपीएससी रैंक की बजाय फाउंडेशन कोर्स में नंबरों के आधार पर कैडर आवंटित किए ...

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने भाजपा नेता का फार्महाउस उड़ाया

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने भाजपा नेता का फार्महाउस उड़ाया
रायपुर। छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में नक्सलियों ने भाजपा सांसद विक्रम उसेंडी के एक ...

दो लाख रोहिंग्या शरणार्थियों पर बाढ़, भूस्खलन का खतरा : ...

दो लाख रोहिंग्या शरणार्थियों पर बाढ़, भूस्खलन का खतरा : संयुक्त राष्ट्र
संयुक्त राष्ट्र। बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में शरण लिए करीब डेढ़ से दो लाख रोहिंग्या ...

लगातार 10वें दिन बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, सरकार घटा सकती ...

लगातार 10वें दिन बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, सरकार घटा सकती है एक्साइज ड्यूटी
नई दिल्ली। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी का सिलसिला लगातार जारी है। दिल्ली में ...

उत्तर भारत में गर्मी का कहर, कई शहरों में पारा 45 के पार, ...

उत्तर भारत में गर्मी का कहर, कई शहरों में पारा 45 के पार, 10 राज्यों में चलेगी आंधी
पुणे। उत्तर भारत में गर्मी अपने चरम पर है और कई शहरों में पारा 45 डिग्री सेल्सियस के करीब ...

डोनाल्ड ट्रंप का बड़ा बयान, टल सकती है उत्तर कोरिया के साथ ...

डोनाल्ड ट्रंप का बड़ा बयान, टल सकती है उत्तर कोरिया के साथ शिखर वार्ता
वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को संकेत दिए कि हो सकता है कि किम ...

भारत में कॉलेज में पढ़ने वाले छात्र एक दिन में 150 से ...

भारत में कॉलेज में पढ़ने वाले छात्र एक दिन में 150 से ज्यादा बार देखते हैं मोबाइल
नई दिल्ली। भारत में कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र 1 दिन में औसतन 150 से ज्यादा बार अपना ...

खत्म हुआ इंतजार , OnePlus 6 लांच, iphone X को देगा टक्कर

खत्म हुआ इंतजार  , OnePlus 6 लांच, iphone X को देगा टक्कर
वन प्लस ने अपने नए स्मार्ट फोन OnePlus 6 को लांच कर दिया है। इसका बेसब्री से इंतजार किया ...

इस सस्ते मोबाइल में भी कर सकेंगे फेस अनलॉक

इस सस्ते मोबाइल में भी कर सकेंगे फेस अनलॉक
चीनी फोन निर्माता कंपनी Xiaomi ने Xiaomi Redmi S2 को लांच कर दिया है। सेल्फी और वीडियो ...

सैमसंग को टक्कर देगा दमदार बैटरी वाला 360 N7, जानिए फीचर्स

सैमसंग को टक्कर देगा दमदार बैटरी वाला 360 N7, जानिए फीचर्स
चीनी 360 मोबाइल्स ने सैमसंग को टक्कर देने के लिए अपना नया स्मार्ट फोन 360 N7लांच किया है। ...

OnePlus 6 : आ रहा धमाकेदार फोन, लांच से पहले फीचर्स का ...

OnePlus 6 : आ रहा धमाकेदार फोन, लांच से पहले फीचर्स का खुलासा
OnePlus 6 16 मई को लांच हो रहा है। लांच की पहले इसकी चर्चाएं होने लगी हैं। इसके फीचर्स को ...