कर्नाटक में राज्यपाल किसे देंगे सरकार बनाने का न्योता, विशेषज्ञों की अलग-अलग राय

पुनः संशोधित मंगलवार, 15 मई 2018 (23:28 IST)
नई दिल्ली। कर्नाटक के वजुभाई वाला सरकार बनाने का न्योता देने में के फैसलों को संज्ञान में ले सकते हैं। शीर्ष अदालत ने अपने फैसलों में कहा है कि खंडित जनादेश की स्थिति में सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का न्योता दिया जाना चाहिए।
यह बात आज विधिवेत्ताओं ने कही। हालांकि सर्वाधिक विधायकों वाली पार्टी का निर्धारण कैसे किया जाएगा इसको लेकर विधि विशेषज्ञों की राय बंटी नजर आई। यह सबसे बड़ी पार्टी होगी या गठबंधन होगा इस पर स्थिति स्पष्ट नहीं दिखी।

पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी, वरिष्ठ अधिवक्ता राकेश द्विवेदी, अजीत कुमार सिन्हा और राजीव धवन तथा उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश पीबी सावंत और संविधान विशेषज्ञ गोविंद गोयल की राय थी कि राज्यपाल क्या करेंगे इस बारे में अभी सोचना ‘जल्दबाजी’ होगी।

हालांकि
उनके पास सबसे बड़ी पार्टी या गठबंधन जिनके पास अधिक विधायक होंगे उन्हें सरकार बनाने का न्योता देने का विकल्प है। रोहतगी ने कहा कि यह स्थापित कानून है कि राज्यपाल को सबसे बड़ी पार्टी और यहां भाजपा को सरकार बनाने के लिए बुलाना चाहिए, लेकिन न्यायमूर्ति सावंत ने कहा कि संवैधानिक व्यवस्था में ऐसा कुछ भी नहीं है जो सरकार बनाने के लिए कांग्रेस - जद (एस) गठबंधन को बुलाने की राह में आड़े आएगा। उनसे अलग राय रखते हुए द्विवेदी और गोयल ने कहा कि इस समय राज्यपाल के लिए फैसला करना जल्दबाजी होगी।

जब तक चुनाव आयोग अंतिम नतीजों की घोषणा नहीं करता है, तब तक इंतजार किया जाना चाहिए। धवन ने कहा कि सही तरीका है कि राज्यपाल को पहले सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने का न्योता देना चाहिए और अगर वह बहुमत साबित करने में विफल रहती है तब राज्यपाल गठबंधन को आमंत्रित कर सकते हैं।

गोवा और मणिपुर चुनावों का उल्लेख करते हुए धवन ने कहा कि इन दो राज्यों में गलती की गई थी क्योंकि सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस को सरकार बनाने का न्योता नहीं दिया गया था। उनकी राय से गोयल ने सहमति जताई। उन्होंने कहा कि संवैधानिक परिपाटी के अनुसार सबसे बड़ी पार्टी को सरकार बनाने के लिए पहले बुलाया जाना चाहिए लेकिन मणिपुर और गोवा जैसे राज्यों में अतीत में कुछ गलतियां हुई हैं।

उन्होंने कहा कि राज्यपाल को इस बात की संभावना तलाशने के लिए सबसे बड़ी पार्टी को पहले बुलाना चाहिए कि वह सरकार बनाना चाहती है या नहीं। अगर वह मना कर देती है तो उन्हें कांग्रेस से सरकार बनाने का अवसर तलाशने का अनुरोध करने का अधिकार होगा।


इसे और स्पष्ट करते हुए द्विवेदी ने कहा कि अंतिम नतीजे के बाद राज्यपाल के लिए अपने विवेक का इस्तेमाल करने के लिए स्थिति स्पष्ट होगी। जो भी राज्य में स्थिर सरकार प्रदान करने की स्थिति में होगा उसको ध्यान में रखकर राज्यपाल सबसे बड़ी पार्टी या गठबंधन को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित कर सकते हैं।

स्थिरता के कारक पर जोर देते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता और भाजपा प्रवक्ता अमन सिन्हा ने एस आर बोम्मई (1994) और रामेश्वर प्रसाद मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसलों की ओर ध्यान आकर्षित किया। इसमें साफ तौर पर कहा गया है कि राज्यपाल पर उस पार्टी को आमंत्रित करने की जिम्मेदारी है जो स्थिर और टिकाऊ सरकार प्रदान कर सकती है।

उन्होंने कहा कि मौजूदा परिदृश्य में सिर्फ भाजपा स्थिर और टिकाऊ सरकार प्रदान करने की स्थिति में है और चूंकि भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभर रही है और वह बहुमत से कुछ सीटों से दूर है इसलिए यह स्पष्ट संकेत है कि कर्नाटक में मतदाताओं ने भाजपा को चुना है।

गोयल ने हालांकि कहा कि बोम्मई मामले का मौजूदा परिदृश्य में कुछ खास महत्व नहीं है क्योंकि यह कर्नाटक में सत्तारूढ़ पार्टी को सदन में अपना बहुमत साबित करने का मौका दिए बिना राष्ट्रपति शासन लगाने से संबंधित था। उन्होंने कहा कि रामेश्वर प्रसाद मामले में 2005 के फैसले की मौजूदा संदर्भ में कुछ प्रासंगिकता है क्योंकि बिहार के तत्कालीन राज्यपाल ने सबसे बड़े चुनाव पूर्व गठबंधन को सरकार बनाने का न्योता नहीं दिया था और इस आधार पर राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की थी कि सरकार गठन के लिए विधायकों के खरीद फरोख्त की संभावना है।

सावंत ने कहा कि कानूनी दृष्टि से ऐसा लगता है कि राज्यपाल जद (एस) और कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए बुलाएंगे क्योंकि उनके विधायकों की संख्या भाजपा के विधायकों की संख्या से अधिक है, लेकिन उन्हें सदन में अपना बहुमत साबित करना होगा।

सरकार चलाने के लिए मेरी राय में जद (एस) और कांग्रेस को बुलाया जाएगा। इसके विपरीत, रोहतगी ने कहा कि यहां (कर्नाटक) में भाजपा भारी अंतर से आगे चल रही है। राज्यपाल भाजपा को आमंत्रित करने के लिए बाध्य हैं। सरकार गठन के लिए राज्यपाल को पार्टी को तर्कसंगत समय संभवत: एक सप्ताह का समय देना होगा और तब सदन के पटल पर बहुमत साबित करना होगा। हालांकि सभी विधि विशेषज्ञों में एक बात पर आम सहमति थी कि कर्नाटक के जनादेश ने राज्यपाल को फैसला करने में अपने विवेक और विशेषाधिकार का इस्तेमाल करने की पूरी छूट दे दी है। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

युवती ने ठुकराई अरबों की संपत्ति, बनीं जैन साध्‍वी

युवती ने ठुकराई अरबों की संपत्ति, बनीं जैन साध्‍वी
गुजरात में अरबपति परिवार से ताल्लुक रखने वाली और एमबीबीएस में गोल्ड मेडल हासिल कर चुकी ...

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा

समय से काम पर पहुंचने के लिए रात भर चलता रहा
अलबामा में एक कर्मचारी अपनी ड्यूटी पर पहुंचने के लिए 30 किलोमीटर पैदल चल कर आया। बॉस को ...

खुशखबर, अब कम भीड़ वाली ट्रेनों में मिलेगी 10% तक छूट

खुशखबर, अब कम भीड़ वाली ट्रेनों में मिलेगी 10% तक छूट
नई दिल्ली। रेलवे ने यात्रियों को एक बड़ी सौगात देते हुए उन ट्रेनों में 10% तक छूट देने का ...

एलआईसी में निकली बंपर वेकेंसियां, जल्द करें आवेदन

एलआईसी में निकली बंपर वेकेंसियां, जल्द करें आवेदन
भारतीय जीवन बीमा निगम ने असिस्टेंट एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर्स के 700 पदों के लिए आवेदन ...

फीचर फोन का गया जमाना, 501 रुपए में मिलेंगे स्मार्ट फोन के ...

फीचर फोन का गया जमाना, 501 रुपए में मिलेंगे स्मार्ट फोन के सारे फीचर्स...
अब महंगे स्मार्ट फोन का जमाना गया। अब मात्र 501 रुपए के फोन में आपको स्मार्ट फोन के सारे ...

लोकसभा चुनाव 2019 में मोदी को हराने के लिए कांग्रेस ने ...

लोकसभा चुनाव 2019 में मोदी को हराने के लिए कांग्रेस ने बनाया 'प्लान'
नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में रविवार को नवगठित कांग्रेस ...

शिवराज ने विपक्ष पर किया पलटवार, कांग्रेस कार्यकाल की सड़क, ...

शिवराज ने विपक्ष पर किया पलटवार, कांग्रेस कार्यकाल की सड़क, पानी और बिजली की स्थितियों पर सवालिया निशान खड़े किए
खरगोन। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने रविवार को आक्रामक रुख धारण कर विपक्ष ...

मोदी ने मानी मासूम सी अपील, कहा और अधिक मुस्कराएंगे

मोदी ने मानी मासूम सी अपील, कहा और अधिक मुस्कराएंगे
नई दिल्ली। सप्ताह भर की व्यस्तस्ता के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रविवार को तनावमुक्त ...

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक, इन मुद्दों पर होगी चर्चा

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक, इन मुद्दों पर होगी चर्चा
नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अध्यक्षता में पार्टी की सर्वोच्च नीति निर्धारक ...

दिग्विजय ने शिवराज को उनके खिलाफ कार्रवाई करने की चुनौती दी

दिग्विजय ने शिवराज को उनके खिलाफ कार्रवाई करने की चुनौती दी
भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा दिग्विजय सिंह को कथित तौर पर ...

Oppo Find X दुनिया का सबसे खास कैमरे वाला स्मार्टफोन भारत ...

Oppo Find X दुनिया का सबसे खास कैमरे वाला स्मार्टफोन भारत में लांच, 35 मिनट में होगा फुल चार्ज
ओप्पो ने अपना Oppo Find X भारत में लांच कर दिया है। इस फोन को सबसे पहले पेरिस में लांच ...

Oppo A3s स्मार्टफोन 'सुपर फुल स्क्रीन' पैनल और आ सकते हैं ...

Oppo A3s स्मार्टफोन 'सुपर फुल स्क्रीन' पैनल और आ सकते हैं ये दमदार फीचर्स
चीनी कंपनी Oppo भारत में एक से बढ़कर एक स्मार्ट फोन लांच कर रही है। अब ओप्पो नया फोन लांच ...

एमटेक ने लांच किए दो फीचर फोन

एमटेक ने लांच किए दो फीचर फोन
नई दिल्ली। किफायती मोबाइल फोन बनाने वाली कंपनी एम टेक ने दो नए फीचर फोन रागा और वी 10 लॉच ...

नौ कैमरे वाला स्मार्ट फोन, DSLR कैमरा भी हो जाएगा फेल

नौ कैमरे वाला स्मार्ट फोन,  DSLR कैमरा भी हो जाएगा फेल
मोबाइल कंपनियां रोज नई टेक्नोलॉजी ला रही हैं। अब मोबाइल का इस्तेमाल बातें करने के लिए ...

लांच हुआ Spice F311, 6 हजार से कम कीमत में मिलेंगे ये ...

लांच हुआ Spice F311, 6 हजार से कम कीमत में मिलेंगे ये बेहतरीन फीचर्स
स्पाइस की भारत के स्मार्टफोन मार्केट में एक अलग पहचान है। स्पाइस ने अपना नया स्मार्ट फोन ...