कश्मीर घाटी में पाकिस्तान की जीत का जश्न, शेष भारत में फोड़े टीवी

Last Updated: सोमवार, 19 जून 2017 (10:17 IST)
श्रीनगर। चैंपियंस ट्रॉफी फाइनल में पाकिस्तान की जीत पर में रात में खूब जश्न मनाया गया। घाटी में कई जगहों पर लोगों ने इस जीत पर पटाखे फोड़े, पाकिस्तानी झंडे लहराए और भारत विरोधी नारे भी लगाए। जबकि भारत के अन्य हिस्सों में लोनों ने अपने गुस्से का इजहार करते हुए फोड़ दिए तो कुछ ने भारतीय खिलाड़ियों के पोस्टर भी जलाए।
कश्मीर में कुछ जगह तो युवकों की सुरक्षाबलों के साथ झड़प हो गई और उन्होंने सुरक्षाबलों की कैंप की तरफ पटाखे भी फेंके। श्रीनगर के फतेहकदाल और साकीदफर और अनंतनाग में पुलिस और सुरक्षाबलों को कैंपों की तरफ पटाखा फेंकते युवाओं को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े।

त्राल में बड़ी संख्या में पुरुष और महिलाओं ने सड़कों पर निकलकर पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाया। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि त्राल के हर गांव में विजय जुलूस निकाला गया। शहर में जमा हुई भारी भीड़ ने भारत विरोधी नारे लगाए। खबरों के मुताबिक शोपियां और कुलगाम में आतंकियों ने हवाई फायरिंग की, हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। सोपोर, बारामूला में भी पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने की खबरें हैं।
इधर शेष भारत में भारत के हार के बाद भारतीय फैन्स ने सड़कों पर उतरकर अपना गुस्सा और दुख जाहिर किया। कुछ लोगों ने अपने टीवी फोड़ दिए तो कुछ ने भारतीय खिलाड़ियों के पोस्टर भी जलाए। कुछ लोगों ने तो सड़क पर उतरकर भारतीय टीम के खिलाफ नारेबाजी भी की।

मिली जानकारी के मुताबिक, कानपुर में विराट कोहली, अश्विन और युवराज के अलावा टीम के बाकी कई खिलाड़ियों के भी पोस्टर जलाए गए। वहीं अहमदाबाद में टीवी तोड़े गए। उत्तराखंड के हरिद्वार में भी टीवी तोड़े गए। वहां भी भारतीय टीम के खिलाफ नारेबाजी हुई।

लंदन में हुए मैच में भारत ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। इसके बाद बल्लेबाजी करने उतरी पाकिस्तान की टीम ने 339 रन बनाए। फिर भारत की टीम बैटिंग के लिए आई। पहले ही ओवर में रोहित शर्मा आउट हो गए थे। इसके बाद टीम बिखरती चली गई। हार्दिक पांडया स्कोर को सम्मानजनक स्थिति में लेकर जाने की कोशिश में लगे थे तो उन्हें रवींद्र जडेजा ने रन आउट करवा दिया। भारत की टीम 180 रन से हार गई। (एजेंसी)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :