गांव बिगड़ने लगा

थक-हारकर सर्विस लेन की बेंच पर गांधीजी बैठ गए। अपने जमाने का नक्शे का परचा निकाला व कुछ देखा। एक-दो राहगीरों से पूछा- भैया, यहां फलां गांव हुआ करता था। कहां है? एक-दो ने दिमाग खाएगा, सोचकर किनारा कर लिया। कुछ मिले भी तो उन्हें कोई जानकारी नहीं थी। गांधीजी ने सिर पकड़ लिया। मेरा भारत गांवों में बसता था। आज तो गांव ही गायब हो गया। गांधीजी बरसों पहले जिस गांव को हरा-भरा पर्यावरण से भरपूर, सर्वधर्म समभाव, भाईचारा, प्रेम, अध्यात्म, विज्ञान, सदाचार, अनुशासन आदि-इत्यादि गुणों से युक्त कर गए थे वही गांव आज गांधीजी को नहीं मिल रहा था। गांधीजी का स्वच्छ निर्मल गांव आज पता नहीं कहां खो गया था।
जंगल नष्ट-बढ़ता प्रदूषण

जिस गांव के चारों तरफ जंगल थे, हरियाली थी, किसी का कुछ पता नहीं। विदेशी पेड़-पौधे शोपीस बने थे, जो खुद ही छाया के लिए तरस रहे थे। जगह-जगह सीमेंट-कांक्रीट की इमारतें। गुणात्मक विधि से बढ़ती आबादी ने अपनी सुविधा के लिए प्रकृति का अधिकांश रूप से दुरुपयोग व दोहन किया, फलस्वरूप आज तक की स्थिति में लगभग 75 प्रतिशत गांवों के आसपास के जंगल नष्ट हो गए। शहरी विकास की छाया ने गांवों में भी पसरना शुरू किया, फलस्वरूप जहां फलदार-छायादार पेड़-पौधे थे वहां सीमेंट-कांक्रीट फैल गया। रही-सही कसर अपशिष्ट पदार्थों आदि ने पूरी कर दी। रासायनिक और अन्य तरह का कचरा शहरों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी आतंक मचाने लगा।
विकास/मतभेद-मनभेद में बढ़ोतरी

गांवों की सभ्यता, संस्कृति, प्राकृतिक वातावरण यानी निच्छलता, नि:स्वार्थ, भाईचारा, प्रेम व सद्भाव शनै:-शनै: शहरी संस्कृति से रूबरू होने पर धराशायी होने लगे और स्वार्थता ने अपनी पैठ शुरू कर दी। विशुद्ध ग्रामीण भारतीय को हिन्दू, मुसलमान, सिख, ईसाई बना दिया गया। हां, ये जरूर है कि गांव वालों को शिक्षा का अवसर दिया गया, उनके स्वास्थ्य की चिंता रखी गई और भी कई विकास कार्यक्रम भी हुए। जिन गांवों में बिजली सपना थी, वहां बिजली पहुंची।
मगर भौतिक विकास के विरुद्ध आत्मिक विकास में शहर की प्रदूषित संस्कृति ने भी डेरा डाल लिया। इसी वजह से आज गांव में भी खरामा-खरामा ये देखा जा सकता है कि जिस घर में भोजन कराए बिना जाने नहीं देते थे, आज उस घर के मेजबान कहते हैं कि 'पानी से काम चल जाएगा?' विकास हुआ है, मगर लोगों के दिलों का विकास ह्रास गति में चला गया यानी अब गांव भी शहर के साथ कंधा मिला रहे हैं। गांव भी अब बिगड़ते जा रहे हैं।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

ग़ज़ल : दर पे खड़ा मुलाकात को...

ग़ज़ल : दर पे खड़ा मुलाकात को...
दर पे खड़ा मुलाकात को तुम आती भी नहीं, शायद मेरी आवाज़ तुम तक जाती भी नहीं।

घर को कैंडल्स से ऐसे सजाएं

घर को कैंडल्स से ऐसे सजाएं
जब भी घर, कमरा या टेबल सजाने की बात आती है तब कैंडल्स का जिक्र न हो, ऐसा शायद ही हो सकता ...

अपना आंगन यूं सजाएं फूलों की रंगोली से...

अपना आंगन यूं सजाएं फूलों की रंगोली से...
रंगोली केवल व्रत-त्योहार पर ही नहीं बनाई जाती, बल्कि इसे घर के बाहर व अंदर हमेशा ही बनाया ...

भोजन के बाद भूलकर भी ना करें यह 5 काम, वर्ना सेहत होगी ...

भोजन के बाद भूलकर भी ना करें यह 5 काम, वर्ना सेहत होगी बर्बाद
आइए जानें कि 5 कौन से ऐसे काम हैं जो भोजन के तुरंत बाद नहीं करना चाहिए ....

बाल गीत : बनकर फूल हमें खिलना है...

बाल गीत : बनकर फूल हमें खिलना है...
आसमान में उड़े बहुत हैं, सागर तल से जुड़े बहुत हैं। किंतु समय अब फिर आया है, हमको धरती चलना ...

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास ...

क्या है राशि, किस राशि से कैसे जानें भविष्य, पढ़ें सबसे खास जानकारी
आकाश में न तो कोई बिच्छू है और न कोई शेर, पहचानने की सुविधा के लिए तारा समूहों की आकृति ...

पारंपरिक टेस्टी-टेस्टी आम का मीठा अचार कैसे बनाएं, पढ़ें ...

पारंपरिक टेस्टी-टेस्टी आम का मीठा अचार कैसे बनाएं, पढ़ें आसान विधि
सबसे पहले सभी कैरी को छीलकर उसकी गुठली निकाल लीजिए। अब उसके बड़े-बड़े टुकड़े कर लीजिए।

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...

9 ग्रहों की ऐसी पौराणिक पहचान तो कहीं नहीं पढ़ी...
भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में 9 ग्रह गिने जाते हैं, सूर्य, चन्द्रमा, बुध, शुक्र, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, ...

क्या सच में ग्रहों की चाल प्रभावित करती है हमारे जीवन को, जानिए कैसे
सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड 360 अंशों में विभाजित है। इसमें 12 राशियों में से प्रत्येक राशि के 30 ...