लेख: प्यारी बिटिया से लाड़ली बहू का सफर

दो मांओं से बनते सुखद की यह सबसे बड़ी विडंबना है कि उसका जन्म व किसी और घर में हुई होती है व उसे जिंदगी किसी और घर में पूर्णतया नए माहौल में बितानी होती है। स्त्री का सहनशील होना ही उसे इसमें ढलने की ताकत देता है।
विवाह तय होते ही उससे कर्तव्यपूर्ति की अपेक्षा की जाती है जबकि अधिकार उसे बड़ी मुश्किल से मिलते हैं। ऐसे में बेटी घबरा जाती है व एक अनजाने डर से ग्रसित होने लगती है। ऐसे में दोनों मांओं की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण बन जाती है।

बेटी की मां को किशोरावस्था से ही उसे ऐसे देने चाहिए कि हर बेटी अपना आत्मसम्मान व आत्मविश्वास बनाए रखते हुए नए परिवार के साथ खुद को आत्मसात कर अपनत्व व स्नेह के बंधन में पति ही नहीं, पूर्ण परिवार को बांध ले व उनमें यूं घुल जाए जैसे दूध में शकर घुलकर नई मिठास को जन्म देती है। संस्कारवान बेटियां ही में लाड़-प्यार पाती हैं।
के रूप में नई मां का भी कर्तव्य है कि दूसरे घर की नाज-नखरों में पली-बढ़ी बेटी को अपने घर में वही सम्मान व प्रेम देकर अपना बनाने का प्रयास करें व उसे नए परिवेश में जुड़ने, नए रिश्तों को समझने में मदद करें।

दोनों मांओं की समझदारी, संस्कार व सामंजस्य से ही इस घर की प्यारी बिटिया उस घर की लाड़ली बहू बन दोनों परिवारों में सुख व प्रसन्नता बनाए रख पाएंगी। कुछ प्रयास मां को करने हैं व कुछ सास को।
प्यारी बिटिया को लाड़ली बहू बनाने के लिए मां से अपेक्षाएं-

1. हमेशा बराबरी या थोड़ी-सी अधिक हैसियत वालों से ही तय करें।
2. पढ़ा-लिखा व सुसंस्कृत, शालीन तथा निर्व्यसनी लड़का ढूंढें।
3. ससुराल के प्रति पूर्वाग्रह विकसित न होने दें।
4. हर हाल में ससुराल व उसके रिश्तों, कर्तव्यों को सर्वोपरि समझ उन्हें प्राथमिकता से निभाना सिखाएं।
5. बेटी को केवल पति से नहीं, परिवार से जुड़ना सिखाएं।
6. ससुराल में बुलाए जाने पर शालीन वस्त्र पहनाकर ही भेजें।
7. सभी से सभ्यता व शालीनता का व्यवहार करना सिखाएं। बड़ों का पैर छूकर आशीर्वाद लेना व छोटों से स्नेहपूर्ण व्यवहार उचित होगा।
8. नए परिवेश में ढलने के लिए स्वयं में स्नेह व प्रेम का भाव जागृत करने का प्रयास करने की सीख दें।
9. रिश्तों का मोल करना सिखाते हुए उनकी गरिमा बनाए रखने का प्रयास करने की शिक्षा दें।
10. नए वातावरण में ढलने के लिए आवश्यक समझौता करने की मानसिकता विकसित करें।
11. पूर्ण समर्पण से नए परिवार व परिवेश को आत्मसात करने की सीख मिली हो तो हर परिस्थिति सहज हो जाती है।
12. हर बात में मेरा, तुम्हारा का भाव न रखते हुए अपना या हमारा होने की भावना से ही जीवन में सुख मिलता है।
13. हर रिश्ते को पूर्ण सच्चाई व ईमानदारी से निभाना सिखाएं। झूठ व आडंबर से बचकर रहने के संस्कार दें।
14. मायके या ससुराल की गोपनीयता को बनाए रखें।
15. छोटी-छोटी बातों की शिकायतों को बड़ा तूल न देकर एडजस्ट करने की सीख दें।
16. पैसे या काम को लेकर घर में तनाव न उपजे, इसका ध्यान रखें।
17. बेटी व जमाई के आपसी विवादों को उन्हीं को सुलझाने दें।
18. अपनी गलती होने पर उसे तुरंत मान लेने, माफी मांगने व फिर न दोहराने का बड़प्पन दिखाना सिखाएं।
19. स्वयं उसकी गृहस्थी की समस्याओं को कुरेद-कुरेदकर न पूछे।
20. पूर्ण विश्वास व सम्मान के साथ उसे ससुराल में अपना स्थान बनाने दें।
बहू को प्यारी बिटिया में बदलने के लिए सास से अपेक्षाएं-

1. सास के रूप में दूसरी मां का कर्तव्य है कि बहू को उचित स्नेह व सम्मान दें। अपना बनाने का प्रयास करें।
2. बहू के मायके की हैसियत को महत्व न दें।
3. अपने बेटे को उसके गुणों की कद्र करना, उसका उचित सम्मान करना सिखाएं।
4. बहू के प्रति किसी पूर्वाग्रह से ग्रसित न रहते हुए प्रेम देने का प्रयास करें।
5. बहू आपके बेटे की जीवनसंगिनी है, यह न भूलते हुए उसे पराया न समझ अपने घर का हिस्सा यथाशीघ्र मान लें।
6. अपने घर के रीति-रिवाज व रस्में धीरे-धीरे उसे समझाए व सिखाएं।
7. उससे स्नेह व प्रेम का व्यवहार करें व घर के सदस्यों को उसका सम्मान करने की सीख दें।
8. जीवन के 20 या 25 वर्षों तक वह जिस परिवेश में पली है, उसे तुरंत छोड़ने की उम्मीद न रखें।
9. नए परिवेश में ढलने के लिए उसे समय दें व हर बार आगे रहकर मदद करें।
10. थोड़ा समझौता वह करे तो घर के सदस्य भी उसकी आदतों व इच्छाओं के साथ समझौता करें।
11. घर की अच्छी-बुरी हालत से उसका पूर्ण सच्चाई व ईमानदारी से परिचय कराएं।
12. उसके मायके का सम्मान करते हुए अपनी परंपराओं व रिवाजों को उसे सिखाएं।
13. बेटा व बहू के आपसी विवादों को उन्हीं को सुलझाने दें। निष्पक्ष भाव से सही का पक्ष लें व मांगने पर ही सलाह दें।
14. बेटे को जन्म भले ही आपने दिया है, परवरिश व संस्कार दिए हैं, पर जीवनसंगिनी के साथ जिंदगी बितानी है। अत: उन्हें आपस में पूर्ण घुलने-मिलने की स्वतंत्रता दें व निर्णय लेने दें।
15. छोटी-छोटी बातों में टोका-टोकी न करें।
16. खाने-पीने व पहनने-ओढ़ने की पूर्ण स्वतंत्रता व शालीनता के दायरे में हो तो अवश्य दें।
17. बार-बार अपनी बेटी से तुलना न करें।
18. घर में जैसे उससे कर्तव्यों की अपेक्षा करें, वैसे ही उदारता से सारे अधिकार, निर्णयों में भागीदारी भी दें।
19. गलती होने पर सौम्य शब्दों में उसे इसका एहसास कराएं। अकेले में समझाएं, पर अपमानित न करें। गलती मान लेने पर मुद्दों को हमेशा के लिए खत्म करें।
20. किन्हीं भी परिस्थितियों में उसकी शिकायतों का पिटारा उसकी अनुपस्थिति में बेटे या घर के अन्य सदस्यों के सामने न खोलें।
21. मायके पर उसका अधिकार भी है व उससे जुड़े कर्तव्य भी। ससुराल को प्राथमिकता देने की मानसिकता बनाने की सलाह दें, पर मायके के कर्तव्यों का भी सम्मान करें।
22. उसे अपने विचार, इच्छाएं पूर्ण करने की पूर्ण स्वतंत्रता दें।
23. पूर्ण समर्पण व प्रेम से बहू को दिल से अपनाएं व पहले दिन से ही उसमें अपनी बेटी की छवि देखें तो हर गलती नजरअंदाज करने का बड़प्पन अपने आप आ जाएगा।
इस तरह दोनों मांओं के प्रेम व संस्कार से प्यारी बेटियां बड़े आराम व सहजता से लाड़ली बहुएं बन जाएंगी। प्रेम व सम्मान के साथ परस्पर सामंजस्य रिश्तों में मधुरता घोल देगा व बेटा-बहू के साथ जीवन का संध्याकाल सुखद होगा। पहल हर मां को ही करनी है, चाहे वह बेटी को बिदा करने वाली हो या बहू को बेटी बनाने जा रही हो।

'दो मांओं के सान्निध्य से
सफल है हर बेटी का जीवन सफर'।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...
भारत जैसे देश में यदि लोग अपनी उम्र के औसतन चार साल और बढ़ाना चाहते हैं तो उसे विश्व ...

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य लाभ
पौराणिक लेख और कई अत्याधुनिक शोधों ने इस बात को प्रमाणित किया है कि सफेद मूसली एक ...

लो-ब्लडप्रेशर से हैं परेशान तो आजमाएं ये 10 सरल उपाय

लो-ब्लडप्रेशर से हैं परेशान तो आजमाएं ये 10 सरल उपाय
भागदौड़ और तनाव भरी जिंदगी में लो ब्लडप्रेशर और हाई ब्लडप्रेशर की शिकायत होना आम बात है। ...

जब जाना हो पार्टी में और नेल रिमूवर खत्म हो जाएं तो आजमाएं ...

जब जाना हो पार्टी में और नेल रिमूवर खत्म हो जाएं तो आजमाएं ये टिप्स
नेल रिमूवर एक छोटी सी लेकिन हर लड़की के मेकअप बॉक्स में एक बहुत ही जरूरी चीज होती है। इसकी ...

मार्मिक कविता : असहाय, बेबस ललनाएं

मार्मिक कविता : असहाय, बेबस ललनाएं
कन्या पूजन के इस देश में कितनी ललनाएं रुआंसी। कितने हो रहे मुजफ्फरपुर/देवरिया, किस किस को ...

होठों का कालापन दूर करने के उपाय, पढ़ें 4 आसान से घरेलू ...

होठों का कालापन दूर करने के उपाय, पढ़ें 4 आसान से घरेलू नुस्खे
इन दिनों की बदलती हुई जीवनशैली में कहीं भी बाहर आना-जाना हो, ऑफिस हो या पार्टी... वैसे तो ...

नहीं 'टल' सकी 'अटल' जी के निधन की भविष्यवाणी, जानिए किसने ...

नहीं 'टल' सकी 'अटल' जी के निधन की भविष्यवाणी, जानिए किसने की थी ...
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की मृत्यु को लेकर भी कुछ इसी तरह की भविष्यवाणी की ...

ईद-उल-अजहा : जानें कुर्बानी का इतिहास, मकसद और कौन करे ...

ईद-उल-अजहा : जानें कुर्बानी का इतिहास, मकसद और कौन करे कुर्बानी
इब्रा‍हीम अलैय सलाम एक पैगंबर गुजरे हैं, जिन्हें ख्वाब में अल्लाह का हुक्म हुआ कि वे अपने ...

प्याज के छिलकों को न फेंके कूड़ेदान में, इनके इस्तेमाल से ...

प्याज के छिलकों को न फेंके कूड़ेदान में, इनके इस्तेमाल से पाएं बेहतरीन सेहत और सौंदर्य लाभ
खानपान में प्याज का इस्तेमाल रोजाना किया जाता है। जब भी आपको प्याज किसी सब्जी में डालना ...

निर्मल राजनीति के प्रणेता अटलजी के चरणों में सादर

निर्मल राजनीति के प्रणेता अटलजी के चरणों में सादर
स्वतंत्रता दिवस के जोश, उमंग और उल्लास में राष्ट्र अभी आनंद में सराबोर ही था कि अटलजी के ...