कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे भी जरूरी है....

बदलते वक्त के साथ अब महिलाओं की प्रेग्‍नेंसी को लेकर सोच भी काफी बदल गई है। आज की महिलाएं अचानक ही बिना सोचे-समझे गर्भधारण नहीं करती। आज महिलाएं प्रेग्‍नेंसी को लेकर अपने साथी के साथ प्लान करती हैं, इस बारे में खुलकर बातें करती हैं और फेमेली प्लानिंग जैसी चीजों को
अहमियत देती हैं। इसका एक मुख्य कारण है उनका शिक्षित होना, केवल घरेलू न होते हुए बाहर कि जिम्मेदारियां भी बराबरी से निभाना। आज जो भी लड़की या महिला नौकरीपैशा है, वह अपने करियर को भी काफी महत्व देती हैं, क्योंकि उन्हें पता है कि आज के समय में उनका आत्मनिर्भर होना काफी मायने रखना है।

जिस तरह से अब कोई भी चीज पहले की तरह सस्ती नहीं रह गई है, महंगाई काफी बढ़ी है ऐसे में कपल्स के लिए यह एक महत्वपूर्ण निर्णय होता है कि कितने बच्चों को इस दुनिया में लाया जाए, जिनका वे अपने स्तर पर बेहतर तरह से पालन-पोषण कर पाएं।

अब महिलाओं के पास पहले जैसा खाली समय भी नहीं रह गया है, न ही अब संयुक्त परिवार ज्यादा बचे हैं, ऐसे में घर और बाहर की जिम्मेदारियों के बीच गर्भधारण करके बच्चे की परवरिश के लिए पर्याप्त समय निकालना कपल्‍स के लिए, खासतौर से महिलाओं के लिए एक कठिन चुनौती हो गया है।

आज के समय में उम्र के 23 से 25 बरस तो पढ़ाई खत्म होने में ही लग जाते हैं, जिसके बाद ज्यादातर लड़कियां अपने करियर को संवारने में कुछ साल देना चाहती हैं, ताकि वे भी शादी से पहले अपने आपको आर्थिक रूप से मजबूत बना लें।
उनकी ये सोच गलत भी नहीं है, यदि आप मुंबई, बंगलुरु, दिल्ली जैसे बड़े शहरों की बात करें तो पढ़े-लिखे नौकरीपेशा लड़के भी ऐसी ही लड़की को अपनी जीवनसंगिनी बनाना चाहते हैं, जो कंधे से कंधा मिलाकर उनके साथ आर्थिक मामलों में भी चल पाएं। क्‍योंकि इन शहरों में एक अच्छी लाइफस्टाइल पाना महंगा ही इतना हो गया है कि लड़के अकेले अपने दम पर इन सबका बोझ नहीं उठा पाते। खासतौर से वे लड़के जिनके पास उनके पिता द्वारा दी हुई कोई भी अतिरिक्त संपत्ति व किसी तरह की कोई मदद न हो।

यही कारण है कि आज के समय में कपल्‍स के लिए बच्चे प्राथमिकताओं के पायदानों में दूसरे व तीसरे पायदान पर चले गए हैं।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना
शिव है अंत:शक्ति, शिव सबका संयोग। शिव को जो जपता रहे, सहे न कभी वियोग। शिव सद्गुण विकसित ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे भी जरूरी है....
बदलते वक्त के साथ अब महिलाओं की प्रेग्‍नेंसी को लेकर सोच भी काफी बदल गई है। आज की महिलाएं ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की छुट्टी
बीमारी कितनी ही बड़ी क्यों न हो, सही इलाज और सावधानियां अपनाकर इस पर जीत पाई जा सकती है। ...

कविता : नहीं चाहिए चांद

कविता : नहीं चाहिए चांद
मुझे नहीं चाहिए चांद/और न ही तमन्ना है कि सूरज कैद हो मेरी मुट्ठी में

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है
जिस तरह से संसार में दो ही चीजें दृश्य हैं, प्रकाश और अंधकार। उसी तरह श्रव्य भी दो ही ...

घर की कौनसी दिशा बदल सकती है आपकी दशा, जानिए वास्तु के ...

घर की कौनसी दिशा बदल सकती है आपकी दशा, जानिए वास्तु के अनुसार
चारों दिशाओं से सुख-संपत्ति और सम्मान पाना है तो जानें वास्तु के अनुसार कैसी हो भवन की ...

समस्त पापों से मुक्ति देता है शिव महिम्न स्तोत्र, श्रावण ...

समस्त पापों से मुक्ति देता है शिव महिम्न स्तोत्र, श्रावण में अवश्य पढ़ें... (हिन्दी अर्थसहित)
श्रावण मास के विशेष संयोग पर भगवान शिव को पुष्पदंत द्वारा रचित शिव महिम्न स्तोत्र से ...

नागपंचमी की 2 रोचक और प्रचलित कथाएं

नागपंचमी की 2 रोचक और प्रचलित कथाएं
किसी राज्य में एक किसान परिवार रहता था। किसान के दो पुत्र व एक पुत्री थी। एक दिन हल जोतते ...

नागपंचमी पर पढ़ें पौराणिक और पवित्र कथा,जब सर्प ने भाई बन ...

नागपंचमी पर पढ़ें पौराणिक और पवित्र कथा,जब सर्प ने भाई बन कर की बहन की रक्षा
सर्प ने प्रकट होकर कहा- यदि मेरी धर्म बहन के आचरण पर संदेह प्रकट करेगा तो मैं उसे खा ...

15 अगस्त 2018 को मनाया जाएगा नागपंचमी का पर्व भी, जानें ...

15 अगस्त 2018 को मनाया जाएगा नागपंचमी का पर्व भी, जानें पूजा का मुहूर्त और विधि
श्रावण मास की शुक्‍ल पक्ष की पंचमी को पूरे उत्‍तर भारत में नागपंचमी का पर्व मनाया जाता ...