तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है

जिस तरह से संसार में दो ही चीजें दृश्य हैं, प्रकाश और अंधकार।
उसी तरह श्रव्य भी दो ही चीजें हैं - शोर या शांति ...और ये दोनों ही किसी स्थि‍ति, परिस्थति में पूर्ण रूप से अपने अस्तित्व को लिए हुए होती हैं।

बात कोई भी हो, विवाद कोई भी हो, मुद्दा कोई भी हो... या तो बिल्कुल शांति लिए हुए होगा, जैसे ठंडे बस्ते वाली कहावत इसी के लिए बनी हो।
या फिर कर्इ तरह का शोर लिए, जिसे आजकल हम विवाद या हंगामे के रूप में देखते हैं।
अब का मामला ही देख लीजिए... सालों से यह तीन तलाक नाम का दंश मुस्लि‍म समुदाय की कितनी ही महिलाओं को अपना शिकार बना चुका है, उनके अस्तित्व के साथ खिलवाड़ कर चुका है। लेकिन यह सब जारी था...सालों से जारी था... हम भी नहीं जानते कब से, लेकिन मुस्लिम महिलाओं के सम्मान के साथ ये खिलवाड़ अनवरत जारी रहा। और चीत्कार भरे दर्द के बावजूद, न केवल समुदाय विशेष में, बल्कि हमारे पूरे समाज भर में जरा सी आह भी कभी सुनाई नहीं दी।गूंजती हुई अगर कोई आवाज थी, तो वो थी तलाक, तलाक, तलाक...

सोचिए, यहां भावों में ऊफनती कराहों और चीखों के बीच भी सन्नाटा पसरा रहा, जैसे सन्नाटे की इस चादर के नीचे तमाम दर्द के निशान छिप जाएंगे...जब ये सन्नाटा पसरा था, तब कभी कोई ख्याल या प्रयास नहीं नजर आया दीमक की तरह फैलती इस बीमारी को रोकने का लेकिन अब देखिए, जब बात शुरू हुई तो सन्नाटा कहीं गुम सा है और विवादों ने अपनी अपनी जगह संभाल रखी है।
वि‍षय वही है, गंभीरता भी ही लेकिन शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है.. चाहे समाज के ठेकेदारों का शोर हो, सदियों से थमे दर्द को चीरती चीखों का शोर हो या फिर इस मामले पर राजनीतिक श्रेय लेने के लिए मचे घमासान का शोर हो...।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना
शिव है अंत:शक्ति, शिव सबका संयोग। शिव को जो जपता रहे, सहे न कभी वियोग। शिव सद्गुण विकसित ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे भी जरूरी है....
बदलते वक्त के साथ अब महिलाओं की प्रेग्‍नेंसी को लेकर सोच भी काफी बदल गई है। आज की महिलाएं ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की छुट्टी
बीमारी कितनी ही बड़ी क्यों न हो, सही इलाज और सावधानियां अपनाकर इस पर जीत पाई जा सकती है। ...

कविता : नहीं चाहिए चांद

कविता : नहीं चाहिए चांद
मुझे नहीं चाहिए चांद/और न ही तमन्ना है कि सूरज कैद हो मेरी मुट्ठी में

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है
जिस तरह से संसार में दो ही चीजें दृश्य हैं, प्रकाश और अंधकार। उसी तरह श्रव्य भी दो ही ...

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...

अगर 4 साल उम्र बढ़ाना चाहते हैं तो मान लीजिए ये 5 बातें...
भारत जैसे देश में यदि लोग अपनी उम्र के औसतन चार साल और बढ़ाना चाहते हैं तो उसे विश्व ...

कैसे चल रहे हैं प्रधानमंत्री के सितारे, जानिए मोदी के लिए ...

कैसे चल रहे हैं प्रधानमंत्री के सितारे, जानिए मोदी के लिए कैसा होगा आने वाला समय ?
जन्मपत्रिका के माध्यम से किसी भी जातक का अतीत, वर्तमान और भविष्य बताया जा सकता है, फिर ...

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य

आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे सफेद मूसली के ये 7 स्वास्थ्य लाभ
पौराणिक लेख और कई अत्याधुनिक शोधों ने इस बात को प्रमाणित किया है कि सफेद मूसली एक ...

नागपंचमी पर ऐसे करें नागपूजन और विसर्जन, पढ़ें विशेष ...

नागपंचमी पर ऐसे करें नागपूजन और विसर्जन, पढ़ें विशेष प्रार्थना और मंत्र...
नागपंचमी के दिन प्रात:काल स्नान करने के उपरान्त शुद्ध होकर यथाशक्ति (स्वर्ण, रजत, ताम्र) ...

17 अगस्त को हो रहा है सूर्य का राशि परिवर्तन, जानिए किन ...

17 अगस्त को हो रहा है सूर्य का राशि परिवर्तन, जानिए किन राशि‍यों की बदलने वाली है किस्मत ...
सूर्यदेव नवग्रहों के राजा हैं। सिंह राशि के स्वामी हैं। अग्नितत्व प्रधान ग्रह हैं। कुंडली ...