लेख : सरकारी और निजीकरण में पिसती पब्लिक

सरकार को निजीकरण का चस्का कब और कैसे लगा? इसका इतिहास तो पता नहीं, मगर बात शुरू करते हैं मप्र में दशकों पहले चलने वाले 'लाल डिब्बों' से।
दरअसल, बरसों पहले मप्र की सड़कों पर राज्य परिवहन निगम की लाल रंग की बसें, जिन्हें गाड़ियां कहना ज्यादा उचित होगा, दौड़ती थीं। अपनी मस्ती में। चूंकि सरकारी थी इसलिए कंडिशन भी एवन टंडीरा थी यानी बिना बोले कहीं भी रुक जाएं। और सबसे बड़ा क्या कहा जाए कि घाटे में भी शानदार तरीके से चलती रहीं। जो भ्रष्ट अधिकारी-कर्मचारी थे, वे सरकारी 'लाल डिब्बों' से अपना घर भरते गए।

इधर निजी बस वाले भी मैदान में उतर गए। अपनी गाड़ी के आगे अगर लाल डिब्बा चले तो वे सवारी नहीं बिठाने दें। बरसों तक ऐसा चला तो सरकार भी हार गई और थक-हारकर पराए भरोसे हो गई यानी निजी हाथों में बागडोर सौंप दी यानी निजी बसें दौड़ने लगीं।
लगता है यहीं से निजीकरण का चस्का सरकार को लग गया जिसमें सरकारीकरण वालों ने भ्रष्टाचार करके बहुत साथ दिया। केवल यही विभाग ही नहीं, बल्कि लोकतंत्र प्रणाली का कोई क्षेत्र ऐसा नहीं बचा जिसे भ्रष्टाचार ने पलीता लगाकर सरकारीकरण से निजीकरण की तरफ नहीं धकेला हो।

सरकारीकरण के घाटे से परेशान होकर निजीकरण का हाथ थामना मजबूरी बन गया और यही फायदा उठाया नेताओं, अधिकारियों व कर्मचारियों ने। इन्होंने अपने साथ ही अपने वालों की भी गरीबी दूर करा दी। जनता रो रही है। अनाप-शनाप बिजली के बिल भर रही है, महंगा इलाज करवाने पर मजबूर है, शिक्षा पाना तो गरीब के लिए आकाश के तारे तोड़ने जैसा है। अपवादस्वरूप कह सकते हैं कि सरकार और सरकारों ने गरीब जनता के लिए सरकारी स्कूल-कॉलेज, दवाखाने आदि-इत्यादि क्या यूं ही खोल रखे हैं। नहीं साब, ऐसा तो नहीं कह सकते, दबी जुबान से यह कह सकते हैं कि इनकी 'हालत' कैसी है?

आखिरकार निजीकरण को बढ़ावा क्यों?

निजीकरण को बढ़ावा देने का कारण शायद यह है कि निजीकरण के परिणाम सकारात्मक होते हैं जबकि सरकारीकरण में यह लक्षित नहीं होता। इसके विपरीत असलियत में कहा जाए तो जैसा कि ऊपर लिखा है कि सरकारीकरण के दौर में लापरवाही, भ्रष्टाचार आदि से अपना निजी हित साधने की क्रिया आम हो जाने से निजीकरण को बढ़ावा इस मकसद से दिया जाने लगा कि निजीकरण से मन-मुताबिक धनार्जन का काम नेता, अधिकारी, कर्मचारी अपने और अपनों के लिए कर सकें। निजीकरण में कम पैसे में ज्यादा काम।
गुणात्मक विधि से बढ़ती आबादी ने इसमें आग में घी का काम किया। जब सरकारीकरण वाले कुछ विभाग और उपादान गले-गले तक घाटे में चले गए तो निजीकरण की तरफ मुंह ताका गया। सरकारीकरण के दौर में 'सरकारी संपत्ति आपकी अपनी है' मानकर भरपूर दोहन (दुरुपयोग) किया गया। इसके बाद की लाइनें नजरअंदाज कर दी गई कि 'सरकारी संपत्ति आपकी अपनी है, इसे संभालकर रखें'। सरकारी संपत्ति को संभाला, मगर अपने हित के लिए। फलस्वरूप निजीकरण वालों ने फायदा उठाने में कोई कसर नहीं छोड़ी।
प्रतिस्पर्धा से छुटकारा

आज के प्रतिस्पर्धा के दौर में निजी क्षेत्र ने अपना वर्चस्व कायम किया है, मगर कामगारों की फजीहत ही हुई है। निजी क्षेत्र में 'कम दाम में ज्यादा काम' का बोलबाला रहा है। सरकारी क्षेत्र ने प्रतिस्पर्धा से अपने आपको हमेशा दूर रखा। यह कहने में कोई आपत्ति नहीं कि सरकारी क्षेत्र ने निजी क्षेत्र को जिताने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी। फलस्वरूप सरकारी क्षेत्र प्रतिस्पर्धा से छुटकारा पाते गए।
जनता पर असर

वैसे तो दोनों का ही असर जनता भुगत रही है, क्योंकि निजी क्षेत्र प्रतिस्पर्धा के दौर से गुजर रहा है, फलस्वरूप महंगाई से को जूझना पड़ रहा है यानी सबकुछ महंगा और आवक कम। निजी क्षेत्र के आका 1,000 रुपए की तनख्वाह में 10,000 का काम जब तक नहीं ले लेते, तब तक कामगार को छुट्टी नहीं मिलती। इधर सरकारी क्षेत्र की बात करें तो कोई सी फाइल आगे बढ़ाना हो या कुछ और काम, 'भेंट' लगती है। बिना 'भेंट' कुछ नहीं होता। आज भी सरकारी क्षेत्र में यह प्रथा जारी है।
और जनता पिसा रही है निजी और सरकारीकरण में...!

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार
आभार व्यक्त तो कीजिए। फिर देखिए, उसकी सुगंध कैसे आपके रिश्तों को अद्भुत स्नेह से सींचती ...

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है
थोड़ा समय अपने शौक को देंगे तो आपको अपना आराम और मनोरंजन पूर्ण महसूस होगा।

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें
जिस तरह बालों को सॉफ्ट और शाइनी बनाने के लिए आप हेयर कंडीशनिंग करते हैं, उसी तरह से त्वचा ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम की बातें
लगातार बैठे रहने और कम मेहनत करने वालों का पेट बाहर आ जाता है लेकिन यह जरूरी नहीं है... ...

अभी भी वक्त है कुदरती पानी को सहेजें

अभी भी वक्त है कुदरती पानी को सहेजें
पानी को लेकर विश्वयुद्ध की बातें अब नई नहीं हैं। सुनने में जरूर अटपटी लगती हैं लेकिन ...

जानकारों में मतभेद, हो सकती है नौतपा में भारी बरसात, अच्छे ...

जानकारों में मतभेद, हो सकती है नौतपा में भारी बरसात, अच्छे नहीं हैं प्रदेश के लिए संकेत...
जहां एक तरफ नौतपा के खूब तपने की भविष्यवाणी है वहीं दूसरी तरफ नौतपा के दौरान बारिश की ...

आपने नहीं पढ़ी होगी शनि प्रदोष व्रत की यह पौराणिक कथा...

आपने नहीं पढ़ी होगी शनि प्रदोष व्रत की यह पौराणिक कथा...
शनि प्रदोष के दिन भगवान शंकर और शनिदेव पूजन किया जाता है। शनि प्रदोष के संबंध में वर्णित ...

घर के अंदर सजे पौधों का ऐसे रखें ध्यान, पढ़ें 3 सुझाव

घर के अंदर सजे पौधों का ऐसे रखें ध्यान, पढ़ें 3 सुझाव
जब मौसम गर्मी का हो तो ऐसे में लोग सुबह-शाम बाग-बगीचे में टहलना, बैठना व समय बिताना पसंद ...

आंखें होंगी साफ, स्वस्थ और चमकीली, यह 3 उपाय आजमा कर देखें

आंखें होंगी साफ, स्वस्थ और चमकीली, यह 3 उपाय आजमा कर देखें
हम आपको बता रहे हैं आंखों की सुरक्षा के अचूक उपाय.. जानिए कौन सी 3 चीजें ऐसी हैं जो आंखों ...