Widgets Magazine

सोशल मीडिया पर अर्नब गोस्वामी और रिपब्लिक

Author डॉ. प्रकाश हिन्दुस्तानी|
# माय हैशटैग
 
के साथ ही अर्नब गोस्वामी की वापसी हो गई है, लेकिन टीवी वापसी के पहले ही सोशल मीडिया पर इसकी चर्चा होना शुरू हो गई थी। जब अर्नब गोस्वामी ने टाइम्स नाउ छोड़ने की बात कही थी, उसके तीन सप्ताह बाद उन्होंने सोशल मीडिया पर यह घोषणा की थी कि वे अपना खुद का वेंचर लेकर आ रहे हैं। पर जब पहली बार रिपब्लिक के नाम से ट्वीट किया गया और लोगों से सहयोग मांगा गया, तब 24 घंटे के भीतर ही 55 हजार लोगों ने उसे फॉलो करना शुरू कर दिया था। हर घंटे फॉलोअर्स की संख्या बढ़ती जा रही थी। रिपब्लिक के फेसबुक पेज को भी बारह हजार लोगों ने चौबीस घंटे में लाइक किया।
 
रिपब्लिक ने दावा किया कि वह वास्तव में रिपोर्टरों का चैनल है। एक स्वतंत्र मीडिया है। यहां रिपोर्टर केवल अपने समाचार के प्रति जवाबदेह होंगे। किसी व्यक्ति के लिए नहीं। अर्नब गोस्वामी ने यह भी दावा किया था कि वर्तमान डिजिटल युग में रिपब्लिक को कोई रोक नहीं पाएगा, उसे जहां तक पहुंचना है, वह पहुंचेगा ही। एकाधिकारवादी मीडिया उसके आगे टिक नहीं पाएगा। देखते ही देखते अर्नब गोस्वामी और रिपब्लिक नाम के हैशटैग सोशल मीडिया पर छा गए। सोशल मीडिया के विशेषज्ञों ने इसे अर्नब गोस्वामी का जादू ही माना कि सोशल मीडिया पर आते ही इतने सारे लोगों ने उन्हें फॉलो करना शुरू कर दिया। 
 
टाइम्स नाउ चैनल पर अर्नब गोस्वामी का तकियाकलाम रहा है- 'नेशन वान्ट्स टू नो'। उनके चीखने-चिल्लाने ने भी उनकी एंकरिंग को चर्चा में बनाए रखा। अपने राष्ट्रवादी रवैए के कारण भी बुद्धिजीवियों का एक वर्ग उनका आलोचक बन गया है। इसके अलावा राहुल गांधी और नरेन्द्र मोदी के इंटरव्यू भी उन्हें चर्चा में रखे हुए थे। लोकसभा और राज्यसभा में भी उनके नाम का जिक्र होता रहा है और वे एक तरह से मीडिया आइकॉन के रूप में स्थापित हो चुके हैं। 
 
रिपब्लिक के शुरू होने और पहले ही दिन लालू प्रसाद यादव के बारे में चर्चित और विवादास्पद समाचारों के लिए अर्नब गोस्वामी फिर चर्चा में हैं। सोशल मीडिया पर उनके नाम को लेकर लोग नए-नए लतीफे गढ़ रहे हैं। कह रहे हैं कि जहांपनाह के आने से तिलचट्टों में भारी खलबलाहट है, क्योंकि रिपब्लिक नामक स्प्रे बाजार में आ गया है। किसी ने पैरोडी बनाकर लिखा कि 'रामचन्द्र कह गए सिया से ऐसा कलयुग आएगा, रिपब्लिक के आने से लुटियन्स का कारोबार हिल जाएगा।' अर्नब गोस्वामी के राष्ट्रवादी रवैए पर यह भी लिखा गया कि रिपब्लिक अभी तक बार्डर पर नहीं गया है, वरना पाकिस्तान कब का घुटने टेक देता। 
 
रिपब्लिक चैनल की खबरों को लेकर भी लोग अपने-अपने कयास लगा रहे हैं। एक कयास तो यह है कि लालू और शहाबुद्दीन की खबरें इस तरह दिखाई जा रही हैं, ताकि नीतीश कुमार उनसे अपना गठबंधन तोड़ लें। इन कारणों के उजागर होने पर नीतीश कुमार को कोई सफाई देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। किसी ने यह भी लिखा कि लालू और शहाबुद्दीन के टेप सार्वजनिक करने के बाद अभी तक राजनाथ सिंह ने उनकी कड़ी निंदा क्यों नहीं की? अर्नब को लोगों ने टीवी चैनल का बाहुबली और सिंघम भी लिख डाला। किसी ने लिखा है कि 'यह मेरा चैनल है और मैं यहां का जयकांत शिक्रे हूं।'  
 
रिपब्लिक के चाहने वाले भी खुलकर सामने आए और कह रहे हैं कि यह उन गद्दार मीडिया चैनल्स के गाल पर तमाचा है, जो भ्रष्टाचार रोकने के बजाय हिन्दू और मुसलमान के नाम की रोटियां सेंकते रहते हैं। रिपब्लिक चैनल का पब्लिक चैनल होना एक अच्छी शुरुआत है। अर्नब के एक प्रशंसक ने दूसरे मीडिया समूहों पर व्यंग्‍य करते हुए लिखा कि रिपब्लिक लांच होने के बाद राष्ट्रपति को ज्ञापन देने के लिए मीडिया का दूसरा गुट कब जा रहा है? रिपब्लिक के शुरू हो जाने के बाद अब पाकिस्तान को कोई बचा नहीं सकता। 
 
अर्नब को चाहने वालों की तरह ही उनके विरोधी भी सोशल मीडिया पर लतीफे शेयर कर रहे हैं। यह भी लिखा गया है कि नारदमुनि की तरह इधर की बात उधर करके लोगों के बीच आग लगाने के लिए जो आदमी सबसे ज्यादा प्रसिद्ध है, वहीं नारदमुनि का अवतार है और उसका नाम है अर्नब गोस्वामी। अर्नब गोस्वामी की चीख-चीख कर एंकरिंग करने पर भी व्यंग्‍य किया गया है कि अर्नब गोस्वामी का नया चैनल पर्यावरण फैलाने के मानकों पर फेल हो गया है, क्योंकि वह ध्वनि प्रदूषण फैलाता है। सुप्रीम कोर्ट को ऐसे प्रदूषणकारी चैनल पर रोक लगा देनी चाहिए। 
 
सोशल मीडिया पर अर्नब गोस्वामी की लोकप्रियता इतनी है कि उनके नाम के फेक अकाउंट दर्जनों बन गए हैं। कुछ फेक अकाउंट में तो फॉलोअर्स की संख्या भी अच्छी खासी है। अर्नब गोस्वामी ने अपने चैनल में देशभर के सक्रिय टीवी पत्रकारों को शामिल किया है। दक्षिण भारत के लोकप्रिय तमिल चैनल थांति के संवाददाता एसए हरिहरन को जब रिपब्लिक में जॉब ऑफर किया गया, तब वे हतोत्साहित थे, क्योंकि उनका लहजा एकदम तमिल था, लेकिन अर्नब गोस्वामी ने हरिहरन का चैनल में स्वागत किया और कहा कि हमें केवल मुंबई या दिल्ली के रिपोर्टर नहीं चाहिए, हमें पूरे देश के रिपोर्टर चाहिए। मीडिया जगत में माना जा रहा है कि अर्नब का नजरिया उचित ही है। सोशल मीडिया पर आए संदेशों के अनुसार, जल्दी ही रिपब्लिक वर्ल्‍ड नाम का मोबाइल ऐप और वेबसाइट भी लोगों के सामने होगी। टीवी विशेषज्ञों के अनुसार, अगर रिपब्लिक चैनल अपना डिस्ट्रिब्यूशन सही तरीके से करने में सफल होता है, तो वह अंग्रेजी का नंबर वन चैनल भी बन सकता है। 
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine