पहाड़ के 10 रहस्य, जानिए कौन से...


अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
- अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'
 
'महेन्द्रो मलयः सह्य: शुक्तिमानृक्षपर्वतः, विंध्यश्च पारियात्रश्च सप्तैते कुलपर्वताः।' -महाभारत
 
जब हम भारत को बचाने की बात करते हैं तो भारत एक भूमि है। यहां की भूमि के पहाड़ों, नदियों और वृक्षों के साथ ही यहां के पशु-पक्षियों और जलचर जंतुओं को बचाया जाना चाहिए। जो लोग इनको नष्ट कर रहे हैं, वे ही भारत के असली दुश्मन या कहें की देशद्रोही हैं। जो लोग पहाड़ों और वृक्षों को कटते देख रहे हैं उनका भी अपराध लिखा जाना चाहिए। लोग भ्रष्टाचार के लिए आंदोलन करते हैं लेकिन पहाड़ बचाने के लिए कौन करेगा। नदी बचाओ आंदोलन को कोई मीडिया या अन्य संगठन समर्थन क्यों नहीं देता?
पहाड़ों का महत्व : को गिरि, अचल, शैल, धरणीधर, धराधर, नग, भूधर और महिधर भी कहा जाता है। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक भारत में एक से एक शानदार पहाड़ हैं, पहाड़ों की श्रृंखलाएं हैं और सुंदर एवं मनोरम घाटियां हैं। पहाड़ को जीवंत बनाने के लिए जरूरी मुख्य तत्वों में पेड़ और पानी- दोनों आवश्यक हैं। वृक्ष से पानी, पानी से अन्न तथा अन्न से जीवन मिलता है। जीवन को परिभाषित करने के लिए जीव और वन- दोनों जरूरी हैं। जहां वन होता है वहीं जीव होते हैं। इनके बिना पहाड़ अधूरा और कमजोर है। दूसरी ओर पहाड़ों के कारण ही नदियों का बहना जारी है। मानव एक ओर जहां पहाड़ काट रहा है वहीं नदियों पर बांध बनाकर उनके अस्तित्व को मिटाने पर तुला है तो दूसरी ओर अंधाधुंध तरीके से पेड़ काटे जा रहे हैं। खैर,
 
यहां हमने पहाड़ों से संबंधित छोटी-छोटी बातों का संकलन किया है जो पहाड़ों के महत्व को दर्शाती है। जरूरी है कि पढ़ने वाला व्यक्ति पहाड़ों के महत्व को समझकर अपने शहर या गांव को पहाड़ों को बाचाने की मुहिम से सम्मिलित हो। हालांकि यह जरूरी नहीं क्योंकि आपने अपने ही सामने चुपचाप वृक्षों को कटते देखा है, तो आपसे उम्मीद बैकार है। आओ जानते हैं पाहाड़ के महत्व की 10 बातें...
 
अगले पन्ने पर पहला रहस्य...

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :