जंगल से एकतरफा संवाद- भाग 4


Last Updated: बुधवार, 8 अक्टूबर 2014 (12:52 IST)
- के हिमालयी धौलागिरी अंचल से लौटकर सचिन कुमार जैन भूगोल का अध्यात्म 
 
 
ये जंगल, ये पर्वत और झरने हमें अध्यात्म का विषय लगते हैं, परंतु इससे पहले ये भूगोल का विषय हैं और अध्यात्म भूगोल का विषय भी है। जब इन इन दृश्यों को मैंने भूगोल के साथ जोड़ा तो इन पर्वतों की ऊंचाई से ज्यादा गहराई का अंदाजा हुआ। > > वास्तव में आज भारत पृथ्वी के जिस हिस्से पर है (यानी एशिया में) बहुत साल पहले ये यहां नहीं थे। 22.5 करोड़ साल पहले यह ऑस्ट्रेलियाई तटों के आसपास तैरता एक द्वीप था। टेथिस महासागर इसे एशिया से अलग करता था। इसका जुड़ाव एशिया से नहीं था। मैं धौलागिरी अंचल के जिन ऊंचे पहाड़ों को देख रहा था, वे लाखों साल पहले कहीं अस्तित्व में थे ही नहीं। भारत तब गोंडवाना या गोंडवाना भूमि का हिस्सा था। गोंडवाना भूमि में शामिल थे- दक्षिण के दो बड़े महाद्वीप और आज के अंटार्कटिका, मेडागास्कर, भारत, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका जैसे देशों से मिलकर बनी हुई भूमि।
 
गोंडवाना अंचल का अस्तित्व 57 से 51 करोड़ साल पहले माना जाता है। ऑस्ट्रेलिया के वैज्ञानिक एडवर्ड सुएस ने यह नाम दिया था जिसका मतलब होता है गोंडों का जंगल। एक बात और जानने लायक है कि आज जिस जमीन, जिस सीमा रेखा और राजनीतिक नक्शे के लिए लोग लड़ रहे हैं, वह पहले ऐसा नहीं था और आगे भी ऐसा नहीं होगा। भू-भाग बदलते रहे हैं और आगे भी बदलते रहेंगे। फिर यह बदलाव चाहे 1 या 2 करोड़ सालों में ही क्यों न हो। यह कैसा राष्ट्रवाद, जबकि राष्ट्र की कोई स्थायी सीमारेखा ही नहीं है। बस जंगल, पहाड़, हवा, बूंद की बात कीजिए, वही हमारे अस्तित्व को जिंदा रखेंगे; हमारे न होने के बाद भी।
 
अपनी इस धरती की ऊपरी सतह को भू-पटल कहते हैं। इसमें एल्युमीनियम, सिलिकॉन, लोहा, कैल्शियम, सोडियम, पौटेशियम और ऑक्सीजन सरीखे तत्व होते हैं। भू-पटल के नीचे की सतह को स्थल मंडल कहते हैं। यही महाद्वीपों और महासागरों को आधार देता है। इसकी मोटाई साधारणतः 100 किलोमीटर या इससे कुछ ज्यादा हो सकती है। इस आवरण में मजबूत चट्टानें होती हैं। धरती में स्थल मंडल के नीचे की परत को दुर्बलता मंडल कहते हैं। यह परत द्रवीय या तरल होती है।

 
मजबूत चट्टानों वाला स्थल मंडल इसी परत पर तैरता रहता है। स्थल मंडल में बहुत मजबूत चट्टानें होती हैं, जो तश्तरियों या प्लेट के रूप में होती हैं। ये तश्तरियां (जिन्हें टेक्टोनिक प्लेट कहते हैं) स्थिर न होकर गतिमान होती हैं यानी भू-गर्भीय घटनाओं और परतों की चारित्रिक विशेषताओं के कारण खिसकती रहती हैं। टेक्टोनिक प्लेटों की गतिशीलता के कारण कई महाद्वीप मिलकर 3 लाख साल पहले विशाल पेंजिया महाद्वीप (उस समय का सबसे बड़ा महाद्वीप, जो कई द्वीपों से मिलकर बना था) बन गए थे।
 
स्पष्ट अर्थों में भारत तब अफ्रीका से सटा हुआ था। 20 करोड़ साल पहले धरती के अंदर ताप संचरण की क्रियाओं के फलस्वरूप होने वाली भू-गर्भीय घटनाओं के कारण ये महाद्वीप टूटने लगे और छोटे-छोटे द्वीपों में बंटकर अलग-अलग दिशाओं में जाने लगे। तब 8.40 करोड़ साल पहले भारत ने उत्तर दिशा में बढ़ना शुरू किया। अपने तब के स्थान से शुरू करके इसने 6 हजार किलोमीटर की दूरी तय की और 4 से 5 करोड़ साल पहले एशिया के इस हिस्से से टकराया। इस टक्कर के चलते भूमि का वह हिस्सा ऊपर की ओर उठने लगा। दो महाद्वीपों के टकराने से प्लेटें एक-दूसरे पर चढ़ने के कारण हिमालय बना। जरा सोचिए कि ऊपर उठने का मतलब क्या है? इन पर्वतों पर समुद्री जीवों के अवशेष मिलते हैं। हिमालय श्रृंखला के पर्वतों पर समुद्री जीवों के अवशेष... इन पहाड़ों की ऊपरी सतह के खिरने से जो पत्थर निकलते हैं, वे भी ऐसे गोल होते हैं, जैसे नदियों या बहते पानी में आकार लेते हैं यानी यह हिस्सा कभी न कभी पानी में रहा है।
 
माना जाता है कि भारत का भू-भाग ज्यादा ठोस था और एशिया का नरम, इसलिए एशिया का भू-भाग ऊपर उठना शुरू हुआ और हिमालय पर्वतीय श्रृंखला की रचना हुई। अन्य दूसरे पर्वतों की तुलना में यहां के पर्वतों की ऊंचाई ज्यादा तेज गति से बढ़ी और यह अब भी हर साल 1 सेंटीमीटर की दर से बढ़ रही है। इनकी ऊंचाई बढ़ती रहेगी, क्योंकि भारतीय विवर्तनिक प्लेट (टेक्टोनिक प्लेट) भूकंपों के कारण अब भी धीमी गति से किंतु लगातार उत्तर की तरफ खिसक रही है; यानी हिमालय अब भी और ऊंचा होगा। तथ्य यह है कि हमेशा से हिमालय की ऊंचाई 1 सेंटीमीटर की गति से नहीं बढ़ रही थी।


 
यदि यह गति होती तो 4 करोड़ सालों में हिमालय की ऊंचाई 400 किलोमीटर होती। पर्यावरणीय कारणों और अनर्थकारी मानव विकास की लोलुपता के चलते विवर्तनिक प्लेटों में ज्यादा गतिविधि हो रही है और भूकंपों के नजरिए से यह क्षेत्र बहुत संवेदनशील हो गया है। प्रकृति विरोधी विकास हमें विनाश की ओर ले जा रहा है। किसी को संकेतों में बात समझ आती है तो इसका मतलब यह है कि पहाड़ों को काटने, नदियों को बांधने और जंगलों को मिटाने का मतलब विकास नहीं है, यह खुद को मिटाने की भौतिक तैयारी है।
 
जब किसी आधुनिक वाहन में सपाट सड़क के रास्ते हम पर्यटन के लिए निकलते हैं, तब क्या हमें कभी यह अहसास होता है कि धरती के जिस हिस्से पर हम चल रहे हैं, उसका जीवन 4 से 5 करोड़ साल का हो चुका है। वह पर्वत दो महाद्वीपों की टक्कर के कारण पैदा हुआ और ये कभी पानी में डूबा रहा होगा? यह तब तक पता नहीं चलता, जब तक कि हम इसके साथ अपने भीतर के तत्वों को जोड़ नहीं लेते। अपने भीतर के वही तत्व, जिन्हें हम सुबह-शाम पंच तत्व कहते हैं।
 
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

रेस 3 : फिल्म समीक्षा

रेस 3 : फिल्म समीक्षा
सलमान खान जैसे स्टार को पाकर रेमो डिसूजा निश्चिंत हो गए कि अब कुछ करने की जरूरत नहीं है, ...

क्या आप रेस 3 देखने जा रहे हैं? ठह‍रिए, पहले ये देखिए...

क्या आप रेस 3 देखने जा रहे हैं? ठह‍रिए, पहले ये देखिए...
क्या आप रेस 3 देखने जा रहे हैं? फिल्म को लेकर तरह-तरह की बातें हो रही हैं। क्या रेस 3 ...

रेस 3 वाले बॉबी को सनी ने क्यों जमाया था थप्पड़, सुनिए बॉबी ...

रेस 3 वाले बॉबी को सनी ने क्यों जमाया था थप्पड़, सुनिए बॉबी की जुबानी
मैंने अपने आप पर बहुत मेहनत की है। वैसे भी बिना मेहनत के तो कुछ मिलता नहीं है। मैंने मन ...

मोनालिसा के झूमा भाभी के इस वीडियो ने मचा दी धूम

मोनालिसा के झूमा भाभी के इस वीडियो ने मचा दी धूम
भोजपुरी फिल्मों की मशहूर एक्ट्रेस मोनालिसा ने एक बंगाली वेबसीरिज की है जिसमें उन्होंने ...

रेस 3 में सलमान और अन्य सितारों को मिली है कितनी फीस

रेस 3 में सलमान और अन्य सितारों को मिली है कितनी फीस
रेस 3 में सलमान खान, जैकलीन फर्नांडीस, बॉबी देओल, डेज़ी शाह, अनिल कपूर, साकिब सलीम जैसे ...

शंघाई अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में फिल्म 'हिचकी' की धूम

शंघाई अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में फिल्म 'हिचकी' की धूम
बीजिंग। शंघाई अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में अभिनेत्री रानी मुखर्जी की मुख्य भूमिका वाली ...

बाप-बेटे की कहानी है संजू, पोस्टर में दिख रही है झलक

बाप-बेटे की कहानी है संजू, पोस्टर में दिख रही है झलक
राजकुमार हिरानी की आगामी फिल्म "संजू" एक रोलरकोस्टर राइड की तरह होगी जो जीवन के हर उतार ...

सलमान खान के बयान पर रणबीर कपूर का करारा रिएक्शन

सलमान खान के बयान पर रणबीर कपूर का करारा रिएक्शन
एक तरफ रणबीर कपूर स्टारर फिल्म 'संजू' के ट्रेलर की खूब तारीफ हो रही है, वहीं सलमान खान ...

बॉक्स ऑफिस पर फुस्स हो गई यह बड़ी फिल्म

बॉक्स ऑफिस पर फुस्स हो गई यह बड़ी फिल्म
कुछ बॉलीवुड फिल्मों ने चीन में ऐतिहासिक सफलताएं हासिल की, जिससे बॉलीवुड निर्माताओं का ...

बियर पीते नजर आया सैफ अली खान का बेटा, हुआ ट्रोल

बियर पीते नजर आया सैफ अली खान का बेटा, हुआ ट्रोल
सैफ अली खान और अमृता सिंह का 17 वर्षीय बेटा इब्राहिम इन दिनों अपने एक फोटो के कारण चर्चा ...