दिवाली व्यंग्य रचना : दिवाली बोनान्जा ऑफर की बरसात

इन दिनों दिवाली तक नैक-टू-नैक चल रहे त्योहारों के अवसर को भुनाने के चक्कर में बाजार से रोजाना नेक-टू-नैक 'बोनान्जा दिवाली ऑफर्स' की बेमौसम बरसात ...

Widgets Magazine

दिवाली : नेह के छोर से एक दीप हम भेजें

एक नन्हा सा दीप। नाजुक सी बाती। उसका शीतल सौम्य उजास। झिलमिलाती रोशनियों के बीच इस कोमल ...

अपने हस्तिनापुरों में : प्रभा मुजुमदार की 6 ...

धृतराष्ट्र होने का मतलब अंधा होना नहीं होता, धृतराष्ट्र होना होता है, अपनी मर्जी, खुशी ...

व्यंग्य रचना : 'केजरी-बवाल' देश के प्रधानमंत्री ...

देश के प्रधानमंत्री का स्वतन्त्रता दिवस पर लाल किले से भाषण कुछ ऐसा होता- "हम अपने ...

व्यंग्य रचना : 'बिलावल' चला 'खिलावन' बनने

खबर है की मवेश मट्ट साहब ने पाकिस्तान के 'हास्य-कलाकार' बिलावल मुट्ठो के हालिया अभिनय से ...

व्यंग्य रचना : चुनावी घोषणा पत्र

किस दल के लिए घोषणा-पत्र बनाया जाए, घोषणा-पत्र में क्या लिखा जाए, घोषणा पत्र की भाषा कौन ...

मोबाइल : जीवन के साथ भी-जीवन के बाद भी

व्हाटसएप, फेसबुक टवीटर और भी बहुत कुछ इसके सगे भाई-बहन है। इन सब को चलाने कि लिए मोबाइल ...

उपनिषद : सरल शब्दों में अमूल्य संस्कृति का विराट ...

उपनिषद का सरल-सुबोध शैली में परिचय और भाषा का प्रवाह पाठक को आकर्षक ढंग से पुस्तक से ...

हिन्दी कविता : नहीं जानती क्यों

नहीं जानती क्यों सरसराती धूल के साथ हमारे बीच भर जाती है आंधियां और हम शब्दहीन घास से बस ...

दिवाली कविता : दीप जलेगा जिस दिन दिल में

कितने दीप जला लो जग में उजियारा नहीं होने वाला दीप जलेगा जिस दिन दिल में समझो ईश है आने ...

तुम्हारी खुशी, उनकी खुशी

तुम, उदास क्यों हो? जबकि, मैं खुश हूं!मैं खुश हूं, कि हमेशा सोचती रही हो तुम, अपने परिवार ...

लघुकथा : लक्ष्मीजी का स्थान

दीपावली की शाम उल्लू पर सवार सैकड़ों घरों के अवलोकन के पश्चात भी लक्ष्मीजी को निवास के लिए ...

अनबूझा-सा इक तेवर थे बाबूजी

घर की बुनियादें, दीवारें, बामो-दर थे बाबूजी, सबको बांधे रखने वाला ख़ास हुनर थे बाबूजी.

कविता के क्षेत्र में खुशवंत सिंह स्मृति पुरस्कार

कसौली में आयोजित वार्षिक खुशवंत सिंह साहित्य समारोह के दौरान खुशवंत सिंह स्मृति पुरस्कार ...

आओ दीप जलाकर खुशियां मना लें

आओ दीप जलाकर खुशियां मना लें। घर-आंगन को खुशनुमा बना लें॥ अपना घर ही दोस्तों क्यों ...

दीपावली : 'प्रेम-रश्मि से आलोकित करें हृदय को'

हम अनंतकाल से परंपरास्वरूप दीपोत्सव को मना रहे हैं। प्रतीकस्वरूप दीपमालाएं प्रज्वलित कर ...

दीये की पाती ज्योति के नाम

प्रिय ज्योति, रिश्ते कभी टूटते नहीं हैं, जो रिश्ते टूट जाते हैं वो रिश्ते, रिश्ते नहीं ...

दीवाली आई है

दीपों की कतार से,एकता और प्यार से,उर के उल्लास से,जीवन के प्रकाश से खुशियां फैलाई ...

दीप पर्व की शुभकामनाएं !!!!!

राष्ट्र-लक्ष्मी की वंदना करते हुए क्यों न मनाएं दीप पर्व कुछ इस रूप में, संस्कार की ...

Widgets Magazine

लाइफ स्‍टाइल

दिवाली व्यंग्य रचना : दिवाली बोनान्जा ऑफर की बरसात

इन दिनों दिवाली तक नैक-टू-नैक चल रहे त्योहारों के अवसर को भुनाने के चक्कर में बाजार से रोजाना ...

म्यूजिक थेरेपी : संगीत की स्वर लहरियों से सेहत तक

भारत में संगीत की परंपरा भले ही बहुत पुरानी रही हो लेकिन संगीत से इलाज या ‘म्यूजिक थेरेपी’ की ...

Widgets Magazine

जरुर पढ़ें

धनतेरस पर समृद्धि का वरदान देते हैं कुबेर, पढ़ें मंत्र

समस्त धन सम्पदा के स्वामी कुबेर के लिए भी धनतेरस पर सायंकाल 13 दीप समर्पित किए जाते हैं। कुबेर धन ...

रूपचौदस विशेष : पढ़ें स्नान के शुभ मुहूर्त

दिवाली के पूर्व रूपचौदस मनाई जाती है। इस बार रूप चतुर्दशी 22 अक्टूबर, बुधवार को प्रात: है।

लक्ष्मी प्राप्ति के लिए दीपावली पर करें यह उपाय

दीपावली के दिन मां लक्ष्मी के मंदिर में जाकर कमल पुष्प, गुलाब पुष्प, गन्ना, कमल गट्टे की माला ...

Widgets Magazine