सुनो.... फांसी का विरोध करने वालों....

याकुब मेमन को फांसी दिया जाना ठीक था या नहीं... इस पर कुछ भी कहना सही नहीं है क्योंकि भारतीय संस्कृति हमें नहीं सिखाती किसी की मौत पर मुस्कुराएं ...

Widgets Magazine

संस्मरण : स्मृतियों में बसी है कलाम से वह मुलाकात

23 अप्रैल 2003 की सुबह राष्ट्रपति भवन से एक फोन आया। दूरभाष के दूसरी तरफ से आवाज आई, मैं ...

आज आसमां भी रोया, कलाम के लिए

दिल यह बात मानने को तैयार ही नहीं है कि, पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम अब हमारे ...

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के 10 प्रेरणादायक वाक्य

भारत रत्न से नवाजे गए पूर्व राष्ट्रपति, स्वर्गीय डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम का संपूर्ण जीवन ...

कलाम : बहुत उदास है हर कोई तेरे जाने से...

शख्सियत हो तो ऐसी कि जब हो तो सारे जहां का प्यार बरस पड़े और ना हो तो हर वर्ग, हर उम्र की ...

कविता : जन-जन की सांसों में बसता

जन-जन की सांसों में बसता। सीमा पर खड़ा हिमालय है।। क्रूर शब्द कोई गरज सके न। भारत का ...

शिवराज के सपनों के शहर की ये है जमीनी हकीकत...

स्मार्ट और मेट्रो सिटी बनाने वालों को इंदौर हाईकोर्ट की यह टिप्पणी नागवार गुजर सकती है, ...

प्रेम कविता : कागा नित दरवाजे पर मेरे...

कागा नित दरवाजे पर मेरे, कांव-कांव जब करता है। आते होंगे प्रीतम मेरे, मन उमंगें भरता ...

व्यंगात्मक कविता : शादी का लड्डू

दिल क्या करे, जब किसी से, उफ, बोलो किसी को प्यार हो जाए,और हादसों की दुनिया में यही ...

सोशल मीडिया में भी जातिवाद का जहर

शुक्र है कि सोशल मीडिया का सरकारीकरण नहीं हुआ है। इस कारण वहां आरक्षण भी नहीं है और ...

हिन्दी कविता : पिता हूं

पिता बेटी की आंखों में देखता सपने, कल्पनाएं अन्तरिक्ष में उड़ानों के पंख संजोता ...

हिन्दी कविता : जन्म लेती रहे बेटियां...

मुझे अच्छी लगती है दूसरे या तीसरे नंबर की वे बेटियां जो बेटों के इंतजार में जन्म लेती ...

राहुलजी... कब तक करेंगे जुमलेबाजी...

सालों तक सत्ता में रहने वाली कांग्रेस को आज तक विपक्ष का रोल अदा करना नहीं आया है, दूसरी ...

मेरा ब्लॉग : मैदान-ए-जंग में मनु बनाम कद्दू

नन्हा-सा चार-पांच माह का मनु एप्पल जूस कैसे चटखारे लेकर गटकता था। फिर दूध आटे की लापसी, ...

हिन्दी कविता : पीपल की छांव से...

मेरे घर के सामने एक, पीपल का पेड़ था। जो रोज गीत नया गुनगुनाता था, कुछ नई कहानी सुनाता ...

कविता : तीनों बंदरों से बोलो

तीनों बंदरों से बोलो की वह अब बदल जाएं भी वक़्त गया है बदल बोलो सुधर जाएं भी अब नहीं ...

हिन्दी कविता : अब मानव मन के काले हैं

हर नदियों का पानी धूमिल, हर पवन वेग में छाले हैं। हर दिल में लालच बसी है, अब मानव मन ...

कविता : मैं कवि नहीं कल्पित अक्षर हूं

मैं कवि नहीं कल्पित अक्षर हूं, जो रच-रच शब्द खिलाता हूं। बड़े-बड़े विद्वानों ...

हिन्दी कविता : दुल्हन तुझे बनाऊंगा

मैं तेरा चाहने वाला हूं..., दूल्हा बनके आऊंगा, सज-धज के तू लगेगी सुंदर, दुल्हन तुझे ...

Widgets Magazine

Widgets Magazine

नवीनतम

जानिए आंवले के 10 असरकारी गुण

विटामिन-सी से भरपूर आंवला, हर मौसम में लाभदायक होता है। यह आंखों, बालों और त्वचा के लिए तो फायदेमंद ...

शास्त्रीय गायिका वसुंधरा कोमकली : स्मृति शेष

पंडित देवधर की सुयोग्य शिष्या और बेटी वसुंधरा ताई ग्वालियर से देवास आने के बाद मालवा में ऐसी रच-बस ...

जरुर पढ़ें

जानिए, महकती केशर के सुगंधित गुण

केशर बहुत ही उपयोगी गुणों से युक्त होती है। यह उत्तेजक, वाजीकारक, यौनशक्ति बनाए रखने वाली होती है। ...

हरा-भरा धनिया : हर रूप में बढ़‍िया...

धनिया को खाने से नींद अच्छी आती है। शुद्ध शाकाहार में हरे धनिए का उपयोग बहुतायत में किया जाता है। ...

स्वादिष्ट बादाम के 15 पौष्टिक गुण

बादाम एक स्वादिष्ट ड्रायफ्रूट है। इसके पौष्टिक गुण ना सिर्फ खूबसूरत बनाते हैं बल्कि सेहत की दृष्टि ...