आखिर खुदकुशी करते हैं क्यों ?

आखिर खुदकुशी करते हैं क्यों ? जिंदगी जीने से डरते हैं क्यों ? फंदे पर लटककर झूले, जीवन है अनमोल ये भूले। अपनों को देकर तो आंसू, छोड़ दिए दुनिया ...

Widgets Magazine

काव्य संसार : समान धरातल पर

राम घर चल, बहुत थक गया है थोड़ा आराम कर। सुबह अखबार पूरा नहीं पढ़ा, टीवी इत्मीनान से ...

हिन्दी कविता : उनकी तमन्ना

उन्होंने तमन्नाओं को पूरा कर लिया, मुझे नहीं है उनसे कोई भी शिकवा। किसी के वादों से बंधा ...

भारत गांधी के बाद, नेहरू के बाद

अकादमिक रूप से इतिहास को अगर कोई पढ़ना चाहे, तो सारी पाठ्य-पुस्तकें सन 47 में यूनियन जैक ...

हिन्दी कविता : जीवन की राहें...

क्यूं होती पथरीली जीवन की राहें, क्यूं न मिलते कोमल फूल यहां। क्यूं होती खुशी के लम्हों के बाद, जलते से जीवन की राहें यहां।

दिल्ली में टैंगो नृत्य महोत्सव का आयोजन

दिल्ली में विवांता (बाय ताज), सूरजकुण्ड, एनसीआर में तीन दिवसीय टैंगो नृत्य कार्यक्रम ...

आइए चलें शहीद भगतसिंह के गाँव खटकड़कलां

देश को आजादी दिलाने में हजारों जवानों की कुर्बानी देने वाला पंजाब आज एक सोया हुआ प्रांत ...

अंधेरे वक़्त में लफ़्ज़ों ने किया चराग़ाँ

शब्द कहें या लफ़्ज़, एक ही बात है। गीत कहें या ग़ज़ल, कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता। न कभी उर्दू ...

नए वर्ष पर कविता : आया नववर्ष

आया नया वर्ष आया। भेद-भाव को दूर भगाने। सबके मन में प्रीत जगाने। तोड़ मिथक भ्रम ईर्ष्या ...

नए वर्ष की कविता : ऋतु वार्षिकी

नए वर्ष की शुभ पाती है, राम जन्म कविता गाती है। गेहूं की बाली में दाने, आया चैत्र पुन: ...

हिन्दी कविता : एक निवेदन इन्द्र देवता से

हे इन्द्र देवता बार-बार, बार-बार। मेरा मन मुझसे यह पूछ रहा है। क्या तुम्हारा ...

हिन्दी कविता : ईमान हमारा झंडा है

ईमान हमारा झंडा है, इसकी शान न जाने पाए। सम्मान हमारा झंडा है। विजयी विश्व तिरंगा ...

लघुकथा : बेबीकॉर्न

'चल न बेबीकॉर्न खाते हैं' मेरी सहेली ने पास के होटल की तरफ इशारा करते हुए कहा। 'मुझे नहीं ...

हिन्दी कविता : मन के द्वारे से...

गांव के बीच में, एक बरगद का पेड़। पेड़ से जुड़े हुए, स्मृतियों के मधुर गीत। वह शाखाएं ...

रेल क्यों हो रही है फेल ?

देश की रीढ़ बनी ये रेल, आख़िर क्यों हो रही है फेल ? जाने कैसे हो गई बीमार हो रही ...

उड़ान

एक दिन बैठकर मैं,बस यही सोचता था, किस तरह से उड़ते हैं पक्षी, क्या उनकी उड़ान ...

महिला दिवस पर कविता : नारी को नारी ही रह्ने दो

नारी सशक्तिकरण के नारों से,गूंज उठी है वसुंधरा, संगोष्ठी, परिचर्चाएं सुन-सुन, अंतर्मन ये ...

पुस्तक समीक्षा : मीडिया की कहानी, मीडिया की

छह सौ से अधिक पृष्ठों वाली इस पुस्तक में श्री त्रिपाठी ने पत्रकारिता में 36 वर्ष के अपने ...

पुस्तक समीक्षा : 'क्लास रिपोर्टर''

पत्रकारिता पर यूं तो बहुत किताबें उपलब्ध हैं। पत्रकारिता के सबसे महत्वपूर्ण आयाम ...

Widgets Magazine

लाइफ स्‍टाइल

मूर्ख दिवस : प‍ढ़ें कुछ मनोरंजक किस्से...

एक अप्रैल (मूर्ख दिवस) को दोस्तों को मूर्ख बनाने के लिए सभी के दिमाग में कोई न कोई खुरापात चलती ही ...

अप्रैल फूल डे : हास्य प्रिय लोगों का दिन

दुनिया भर के मजाकिया और हास्य प्रिय लोगों का दिन 'अप्रैल फूल डे' आज है। मजाकिया किस्म के लोग आए दिन ...

Widgets Magazine

जरुर पढ़ें

भारत गांधी के बाद, नेहरू के बाद

अकादमिक रूप से इतिहास को अगर कोई पढ़ना चाहे, तो सारी पाठ्य-पुस्तकें सन 47 में यूनियन जैक उतारकर और ...

सेक्स से जुड़े 16 आश्चर्यजनक तथ्य

सेक्स को हमेशा से इंसान एक खास संवेदना के रूप में देखता आया है और अगर कहा जाए कि किसी भी व्यक्ति के ...

बाल कविता : पापा ऑफिस गए

मेरे पापा मुझे उठाते, सुबह-सुबह से बिस्तर से। और बिठाकर बस में आते, बिदा रोज करते घर से। भागदौड़ ...

Widgets Magazine
Widgets Magazine