मजेदार कहानी : नकल में अकल चाहिए...

एक पहाड़ की ऊंची चोटी पर एक बाज रहता था। पहाड़ की तराई में बरगद के पेड़ पर एक कौआ अपना घोंसला बनाकर रहता था। वह बड़ा चालाक और धूर्त था। उसकी ...

Widgets Magazine

शिक्षाप्रद कहानी : तपस्विनी बिल्ली

एक वन में एक पेड़ की खोह में एक चकोर रहता था। उसी पेड़ के आस-पास कई पेड़ और थे, जिन पर फल ...

रंगबिरंगी चटपटी कहानी : होली पर अमृत वर्षा

पिताजी को होली पर इस बार बच्चों, किशोरों और युवकों पर कुछ ज्यादा ही प्यार आ रहा था, ...

शिक्षाप्रद कहानी : मक्खीचूस गीदड़

जंगल में एक गीदड़ रहता था। वह बड़ा कंजूस था। वह कंजूसी अपने शिकार को खाने में किया करता ...

शिक्षाप्रद कहानी : सियार की बुद्धिमानी

एक समय की बात हैं कि जंगल में एक शेर के पैर में कांटा चुभ गया। पंजे में जख्म हो गया और ...

अकबर-बीरबल की आधुनिक कथा...

हाल ही की बात है। अकबर-बीरबल सभा में बैठकर आपस में बात कर रहे थे। अकबर : मुझे इस राज्य से ...

प्रेरक बाल कहानी : तीन मछलियां

एक बड़ा जलाशय था। जलाशय में पानी गहरा होता है, इसलिए उसमें काई तथा मछलियों का प्रिय भोजन ...

यूनान की पौराणिक कथा : वासंती मौसम और फलेरी

वसंत का मौसम सचमुच कितना खुशनुमा लगता है। वन में, बगियों में रंग-बिरंगे फूल खिले रहते ...

शिक्षाप्रद कहानी : तिल-गुड़ की खुशियों का ...

शिष्य बोला- गुरुजी! आज मकर संक्रांति के दिन मैं आपको तिल के लड्डू खिलाना चाहता था। लेकिन ...

कहानी : पतंगबाजी का प्रयोजन

शिष्य की बात सुनकर गुरुजी कुछ सोच में डूब गए और बोले- हम इस विषय पर शास्त्रार्थ अवश्य ...

न्यू ईयर की कहानी : भालू और लोमड़ी की मटरगश्ती

नए साल का पहला सूरज निकला और अभी पूरब के आसमान में बांस भर ही चढ़ा था कि लोमड़ी उधर आ ...

शिक्षाप्रद कहानी : विकलांग

कक्षा में एक नया प्रवेश हुआ... पूर्णसिंह। उसकी विकृत चाल देखकर बच्चे हंसने लगे। किसी ने ...

पंचतंत्र की नटखट कहानी : शरारती बंदर

एक समय शहर से कुछ ही दूरी पर एक मंदिर का निर्माण किया जा रहा था। मंदिर में लकड़ी का काम ...

शिक्षाप्रद कहानी : एक चमत्कार

आज रोहन तीन दिन बाद विद्यालय आया था। आज फिर उसके गले में सुनहरे मो‍तियों वाली एक नई माला ...

पंचतंत्र की चटपटी कहानी : शत्रु की सलाह

नदी किनारे एक विशाल पेड़ था। उस पेड़ पर बगुलों का बहुत बड़ा झुंड रहता था। उसी पेड़ के कोटर ...

बाल कहानी : मुर्गाभाई और कौवेराम की कथा

संसार के सबसे बड़े 3 देवताओं में से एक ब्रह्माजी धरती पर भ्रमण करने निकले थे। सभी जीवचर ...

जेन बोधकथा : क्या बनना चाहते हो?

एक बार एक नवयुवक किसी जेन मास्टर के पास पहुंचा। 'मास्टर, मैं अपनी जिंदगी से बहुत परेशान ...

दिवाली पर बाल कहानी : मुकरा

'लूंगा-लूंगा-लूंगा, कम से कम पांच सौ के ही लूंगा।' मुकरा ने तो जैसे जिद ही पकड़ ली थी। ...

दिवाली की कहानी : इनाम का हकदार

दिवाली की शाम तक तो राजपुर दुल्हन की तरह सज गया। सभी ने अपने घरों के अंदर व बाहर माण्डणे ...

Widgets Magazine

लाइफ स्‍टाइल

...जब द्व‍ितीय विश्वयुद्ध के जीवित सैनिक को मान बैठे थे शहीद

द्व‍ितीय विश्वयुद्ध के दौरान ब्रह्मावली में एक बेहद संवेदी घटना घटी थी। उस दौरान यहां का एक सिपाही ...

कहानी : चितचोर का महल

बरखा सहेलियों संग मेले से वापस आ रही थी। प्यास के मारे गला सूख रहा था। घर को आने वाली राह पर न कोई ...

Widgets Magazine

जरुर पढ़ें

भारत गांधी के बाद, नेहरू के बाद

अकादमिक रूप से इतिहास को अगर कोई पढ़ना चाहे, तो सारी पाठ्य-पुस्तकें सन 47 में यूनियन जैक उतारकर और ...

सेक्स से जुड़े 16 आश्चर्यजनक तथ्य

सेक्स को हमेशा से इंसान एक खास संवेदना के रूप में देखता आया है और अगर कहा जाए कि किसी भी व्यक्ति के ...

बाल कविता : पापा ऑफिस गए

मेरे पापा मुझे उठाते, सुबह-सुबह से बिस्तर से। और बिठाकर बस में आते, बिदा रोज करते घर से। भागदौड़ ...

Widgets Magazine