0

बाल गीत : दादा-दादी बहुत रिसाने

बुधवार,जनवरी 17, 2018
0
1
पहचानते है मुझे ? नहीं ?? अरे, मैं नन्ही चिड़िया गुनगुन। यहीं पास ही के पेड़ पर रहती हूं। रोज आती तो हूं तुम्हारे आंगन ...
1
2
जब उड़ेंगी रंग भरेंगी तितलियां, हवाओं में आकर्षण रहेंगी तितलियां। ढूंढते हो कहां यहां-वहां, संग फूलों के मिलेंगी ...
2
3
भिंडी समझे एक मिर्च को, खा गए पूरी-पूरी। जीभ जली तो चिल्लाने की, ही थी अब मजबूरी।
3
4
जब भी मकर संक्रांति आती है मुझे याद आती है अपने मम्मी पापा की। तब मैं बहुत छोटा था। मेरे पंख बहुत नाजुक थे। मैं उड़ भी ...
4
4
5
मकर संक्रांति का त्योहार तिल-गुड़ और पतंगबाजी के बिना अधूरा है। धार्मिक शास्त्रों के अनुसार मकर संक्रांति के मौके पर ...
5
6
मकर संक्रांति भारत में त्योहार के रूप में मनाई जाती है। इस दिन स्वादिष्ट खान-पान के साथ पतंग उड़ने का भी चलन है। ...
6
7
आकाश में उड़तीं, रंग-बिरंगी पतंगें, करती न कभी, किसी से भेदभाव।
7
8
शीतलहर के उग गए पर, सरक-सरककर, सर-सर-सर, शीतलहर के उग गए पर।
8
8
9
डॉ. हरगोविंद खुराना का जन्म 9 जनवरी, 1922 में अविभाजित भारत के रायपुर (जिला मुल्तान, पंजाब) नामक कस्बे में हुआ था। ...
9
10
शास्त्रीजी का समस्त जीवन देश की सेवा में ही बीता। देश के स्वतंत्रता संग्राम और नवभारत के निर्माण में शास्त्रीजी का ...
10
11
भारत के द्वितीय प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर, 1904 को मुगलसराय, उत्तर प्रदेश में 'मुंशी शारदा ...
11
12
स्वामी विवेकानंद ने जितने युवाओं के हृदय को झंकृत किया, शायद उतना किसी और ने किया हो। श्री रामकृष्ण परमहंस के शिष्य ...
12
13
वर्तमान में भारत के युवा जि‍स महापुरुष के विचारों को आदर्श मानकर उससे प्रेरित होते हैं, युवाओं के वे मार्गदर्शक और ...
13
14
आधुनिक सदी में भारतीय अध्यात्म के प्रतीक एवं रामकृष्ण परमहंस के शिष्य रहे नरेन्द्रनाथ दत्त का जन्म 12 जनवरी, 1863 को ...
14
15
स्वामी विवेकानंद कहते हैं कि जिस पल मुझे यह ज्ञात हो गया कि हर मानव के हृदय में भगवान है। तभी से मैं अपने सामने आने ...
15
16
मकर संक्रांति का त्योहार, सूर्य के उत्तरायन होने पर मनाया जाता है। इस पर्व की विशेष बात यह है कि यह अन्य त्योहारों की ...
16
17
कचरा फेंका बीच सड़क पर, बड़े बेशरम, टोकनियों में लाए भर-भर, बड़े बेशरम... दफ्तर की सीढ़ी पर थूका, पान चबाकर,
17
18
मेरी दादी,की आंखों में,डिबरी का सूरमा था,जो डिबिया की लौ...
18
19
दो घंटे से इस मच्छर ने, किया नाक में दम। मैंने जरा डांटकर बोला, जा फहीम को काट।
19