भगवान महावीर ने देखे थे ये 10 शुभ स्वप्न...


*
जानिए भगवान के 10 शुभ स्वप्न...

महावीर को तप करते हुए 12 वर्ष व्यतीत हो गए। एक बार गहरी तप-साधना के बाद महावीर थककर चूर हो गए थे। थकान के कारण रात्रि के अंतिम कुछ घंटे में कुछ समय के लिए उन्हें झपकी आ गई। इसी दौरान उन्होंने दस विचित्र स्वप्न देखे। जिनकी व्याख्या बाद में इस प्रकार की गई...

पहला स्वप्न : ताल दैत्य को पराजित करना।
व्याख्‍या : मोहनीय कर्म की समाप्ति।
दूसरा स्वप्न : सफेद
पंखों वाला पक्षी।
व्याख्‍या : हमेशा निर्मल विचार रखना।

तीसरा स्वप्न : बहुरंगी पंखों वाला पक्षी।
व्याख्‍या : नियमानुकूल बहुमुखी ज्ञान का प्रवर्तन।

चौथा स्वप्न : रत्नों की दो लडि़यां।
व्याख्या : दो-मार्गी धर्म का उपदेश-साधक और गृहस्थ।
पाचवां स्वप्न : श्वेत गौओं का झुंड।
व्याख्या : चार शाखाओं वाला संगठन- श्रमण, आर्यिका, श्रावक और श्राविका।

छठा स्वप्न : खिले कमलों से भरा जलाशय।
व्याख्‍या : चारों लोकों के देवता आपकी (महावीर) सेवा करेंगे।

सातवां स्वप्न : झागदार महासागर को तैरकर पार करना।
व्याख्या : पुनर्जन्म से मुक्ति।
आठवां स्वप्न : चारों ओर सूर्य की किरणों का प्रसार।
व्याख्‍या : केवलज्ञान प्राप्ति का समय निकट।

नौवां स्वप्न : मनुष्योत्तर पर्वत की परिक्रमा।
व्याख्‍या : आत्मप्रकाश से ब्रह्माण्ड को आलोकित करना।

दसवां स्वप्न : मेरु पर्वत पर रखे सिंहासन पर आसीन।
व्याख्या : उच्च सिंहासन पर आसीन होकर धार्मिक प्रवचन देना।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :