पत्रों से आशीष बरसाते बापू

जहाँ रहो, महकते रहो : महात्मा गाँधी

Mahatma Gandhi
भाषा|
ND
व्यस्तताओं के कारण महात्मा गाँधी द्वारा अपने बच्चों को पूरा समय नहीं दे पाते थे। यह आम धारणा है। जबकि बापू अपने पोते-पोतियों, पुत्र-पुत्रवधुओं समेत परिवार के सभी लोगों की छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखते थे।

महात्मा गाँधी की प्रपौत्री नीलम पारिख ने बापू के पत्रों के संग्रह पर आधारित पुस्तक ‘जहाँ रहो, महकते रहो’ में कहा कि तमाम व्यस्तताओं के बावजूद गाँधी जी अपने पत्रों के माध्यम से अपने बेटों और बहुओं का मार्गदर्शन करते थे और उन्हें अपने बहुमूल्य सुझाव देते थे।

गाँधी पत्र व्यवहार के जरिये नियमित रूप से बच्चों से सम्पर्क में रहते थे और वह बच्चों से भी पत्र की उम्मीद रखते थे।
बापू ने अपने विद्रोही पुत्र हरिलाल को लिखा 'तुम्हारा पत्र कोई नहीं पढ़े, ऐसी तुम्हारी इच्छा ठीक है लेकिन पत्रों में कुछ भी गुप्त नहीं होता है। तुम्हारे बारे में सब लोग जानना चाहेंगे तो आश्रम के लोगों के लिए एक ऐसा पत्र तुम्हें जरूर लिखना चाहिए।'

उन्होंने आगे लिखा 'मैं चाहे कितना भी नाखुश क्यों न होऊँ तो भी तुम लोगों के पत्रों की प्रतीक्षा तो करता ही रहता हूँ। मुझे माह में एक पत्र लिखने और एक पत्र पाने का हक है।' बापू लिखते हैं, 'मेरे प्रयोग की बलि जैसे मैं हुआ वैसे तुम और ‘बा’ हुए। बा समझ गई, इसलिए बा ने जो पाया वह अन्य स्त्री ने नहीं पाया। तुम अब तक सारी बात नहीं समझ सके इसलिए तुम्हें गुस्सा आता है।' पत्र व्यवहार के माध्यम से बापू ने जीवन के गूढ़ सिद्धांतों पर एक श्वसुर और पिता की हैसियत से पुत्रवधुओं का भी मार्गदर्शन किया और छोटी से छोटी बातों में दिलचस्पी ली।
पुत्रवधु को लिखे पत्र में बापू ने कहा 'हिन्दू संसार में तो कन्या का व्यवस्थित पालन-पोषण और विकास शादी के बाद ही पूर्ण होता है। रामदास, देवदास की पढ़ाई ठीक से होती होगी। क्या रामदास का कफ ठीक हो गया है?‘‘तुम्हारी मंगवाई हुई किताबें भेज दी है। उनके पैसे तुरंत भेज देना। आश्रम में उधार के खाते नहीं रहने चाहिए क्योंकि उनके पास निजी मिल्कियत नहीं है। अपना खर्च और सजधज ऐसी न रखना कि दूसरों की ईर्ष्या का पात्र बन जाओ।' खानपान का नियमित ध्यान रखना। दूध और साबूदाने की काँजी नियमित रूप से लेना।'
Mahatma Gandhi
ND
बापू ने पत्र के माध्यम से परिवार से कहा, 'याद रखो कि अपने भाग्य में गरीबी ही रहने वाली है। इस बारे में जितना अधिक सोचता हूँ, उतना मुझे लगता है कि धनी होने की तुलना में गरीब रहना अधिक कल्याणकारी है।' महिला सशक्तिकरण के पक्षधर महात्मा गाँधी ने लिखा,' स्त्री का सर्जन केवल रसोई करने के लिए नहीं हुआ है। जिस हद तक यह आवश्यक है उस हद तक स्त्री-पुरुष दोनों इसमें भाग लेकर सेवाभावी रहें।'
परिवार के वारिस के बारे में बापू ने लिखा 'तुममें ऐसा अभिमान होना चाहिए कि तुम अपने पिता की विरासत को आगे न बढ़ा सको तो बर्बाद नहीं करोगे। वैसे सच्चा वारिस वह है जो विरासत में वृद्धि करे।'

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार
आभार व्यक्त तो कीजिए। फिर देखिए, उसकी सुगंध कैसे आपके रिश्तों को अद्भुत स्नेह से सींचती ...

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है
थोड़ा समय अपने शौक को देंगे तो आपको अपना आराम और मनोरंजन पूर्ण महसूस होगा।

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें
जिस तरह बालों को सॉफ्ट और शाइनी बनाने के लिए आप हेयर कंडीशनिंग करते हैं, उसी तरह से त्वचा ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम की बातें
लगातार बैठे रहने और कम मेहनत करने वालों का पेट बाहर आ जाता है लेकिन यह जरूरी नहीं है... ...

ब्रेस्ट फीडिंग के समय क्या आपके दूध के साथ भी निकलता है

ब्रेस्ट फीडिंग के समय क्या आपके दूध के साथ भी निकलता है खून?
सभी जानते हैं कि बच्चे के लिए मां का दूध किसी वरदान से कम नहीं होता है। इसमें वे सभी पोषक ...

पारंपरिक तरीके से मावे के टेस्टी गुलाब जामुन बनाने की सरल ...

पारंपरिक तरीके से मावे के टेस्टी गुलाब जामुन बनाने की सरल विधि यहां पढ़ें...
सबसे पहले मावे को किसनी से कद्दूकस कर लें। अब उसमें मैदा, अरारोट मिला लें।

निपाह वायरस क्या है?

निपाह वायरस क्या है?
यह चमगादड़ों के लार से फैलता है, इसलिए लोगों को इससे बचना चाहिए। निपाह वायरस से ग्रस्त ...

पढ़िए, लड़के क्यों अब खुद से बड़ी उम्र की लड़कियों को पसंद करने ...

पढ़िए, लड़के क्यों अब खुद से बड़ी उम्र की लड़कियों को पसंद करने लगे हैं...
नए जमाने के साथ लड़कों की सोच में भी काफी बदलाव आए हैं। अब लड़के कमसिन उम्र की, कम अनुभवी व ...

निपाह वायरस को भी नष्ट करेगा गुणकारी कड़वा चिरायता

निपाह वायरस को भी नष्ट करेगा गुणकारी कड़वा चिरायता
इन दिनों निपाह वायरस की सूचना ने सबको डरा रखा है। इस वायरस को भी नष्ट या कमजोर किया जा ...